Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 2 अक्तूबर 2017

भूत, वर्तमान और भविष्य

मनुष्य के मस्तिष्क की एक स्थिति होती है जिसमें वह अपने वर्तमान के लिए भूतकाल को दोषी देता है और अपने वर्तमान के कारण अपने भविष्य की अनिश्चितता को लेकर दुखी होता है.... डॉक्टर सुभाष चंद्रा जी के शो में किसी युवक ने प्रश्न किया कि ‘भूतकाल भ्रमित करे, भविष्य भरमाए, वर्तमान में जो जिए उसे जीना आ जाए-पर उसे implement कैसे करे?" इस प्रश्न पर डॉक्टर साहब ने जो मेडिटेशन करने और मस्तिष्क कंट्रोल करने की जो सलाह दी मैं उसे ख़ारिज नहीं करता लेकिन शायद इस अच्छे प्रश्न का यह सटीक उत्तर नहीं है... 

मेरे ऑन-साइट इंटरव्यू में मेरे मैनेजर ने एक प्रश्न पूछा था कि क्या मैं अपने आप को एक सफल व्यक्ति मानता हूँ, मैंने उसे उत्तर दिया हाँ उसके क्यों पूछने पर मैंने कहा क्योंकि मुझे रात में नींद बहुत अच्छी आती है.... मित्रों, मैं इस संसार में किसी भी अवसाद के दो सबसे बड़े कारण मानता हूँ... १) आर्थिक अनिश्चितता और बढ़ती हुई महंगाई में बजट और परिवार की जरूरतों के बीच सामंजस्य न बैठा पाने से २) किसी भी रिश्ते में (भले वह आपका अपना कोई रिश्तेदार हो या मित्र हो या कोई परिवारी कोई भी हो ) अपने हिस्से की ईमानदारी न निभा पाने की विफलता। सोच कर देखिएगा यदि आपकी आर्थिक स्थिति सुरक्षित है और आपने भविष्य के लिए प्लानिंग कर रखी है तो वर्तमान अपने आप भला लगने लगेगा। और रही बात किसी खराब हो चले रिश्ते की तो याद रखिये "वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना न हो मुमकिन उसे एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा"... इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति का सभी को प्रसन्न रख पाना संभव ही नहीं है सो हर रिश्ते में अपने हिस्से की ईमानदारी रखिये और बाकी की चिंता करना बंद कर दीजिये।

बाकी तो जो है सो हइये है..... 
---------------------------------------------------------

आप सब को गांधी जयंती और शास्त्री जयंती की हार्दिक बधाइयाँ ... इन महापुरुषों से हम कुछ भी सीख पाएँ तो यह हमारा सौभाग्य ही होगा|

---------------------------------------------------------

1965 के जंग के दौरान ली गयी लाल बहादुर शास्त्री की कुछ तस्वीरें

जागरूक जनता ही करेगी स्वच्छ भारत का निर्माण

मेरी नजर से बूढी डायरी और अशोक जमनानी :)

रामलीला हो चुकी है

हैप्पी बर्थ डे टू यू बापू ‘उलूक’ दिन में मोमबत्तियाँ जलाता है

कुछ भी लिखा,ब्लॉग की खातिर ..

{३४५} शहीद हूँ मैं

अंतर्राष्ट्रीय वयोवृद्ध दिवस !

बातों वाली गली में निवास करती सशक्त एवं शालीन स्त्री: राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर

स्व॰ लीला राय जी की ११७ वीं जयंती

साख कायम रखनी है तो फर्जी खबरों से निपटना होगा

4 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

गांधी जयंती और शास्त्री जयंती की शुभकामनाओं के साथ पेश आज की एक सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति में 'उलूक' के पन्ने को भी जगह देने के लिये आभार देव जी।

Ravindra Singh Yadav ने कहा…

भूत ,वर्तमान और भविष्य पर सुन्दर विवेचना के साथ आज का ब्लॉग बुलेटिन सुन्दर रचनाओं का गुलदस्ता है। आज आदरणीय बापू और आदरणीय शास्त्री जी की जयंती पर उन्हें सादर नमन। सार्थक प्रस्तुति के लिए साधुवाद ,बधाई।

अर्चना चावजी Archana Chaoji ने कहा…

मुझे भी और अच्छे उत्तर की अपेक्षा थी,ये शो देखा था उस दिन .... अपनी तरफ से ईमानदार रहना एक अच्छा गुण है,खुद को अवसाद मुक्त रखने के लिए,क्योंकि इससे कई कारक प्रभावित होते हैं... और एक और तरीका है जिसका जिक्र करना जरूरी है,संतुष्टि ...किसी से तुलना,बराबरी,और प्रतिस्पर्धा अवसाद को बढ़ाते ही हैं ...अच्छा विषय चुना ...

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार