Subscribe:

Ads 468x60px

शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2015

कॉल ड्राप पर मिलेगा हर्जाना - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

देश भर के मोबाइल ग्राहकों के लिए अच्छी खबर है. अब आपको 1 जनवरी से हर कॉल ड्राप पर 1 रूपया मिलेगा. टेलिकॉम नियामक ट्राई ने इस सम्बन्ध में नोटिफिकेशन जारी कर दिया है. नोटिफिकेशन के मुताबिक, टेलिकॉम कंपनियों को 1 जनवरी 2016 से प्रत्येक कॉल ड्राप होने पर 1 रुपया देना होगा. एक दिन में अधिकतम 3 कॉल ड्राप के लिए टेलिकॉम कंपनियों को ग्राहकों को हर्जाना देना होगा.

कितना पैसा मिलेगा ग्राहक को?
टेलिकॉम नियामक ट्राई ने कहा है की अधिकतम 3 कॉल ड्राप के लिए पैसा देना होगा. यानी, एक दिन में अधिकतम 3 रुपये. महीने का 90 रुपये. कुल मिलाकर ऐसे समझ सकते हैं की अगर आपके नेटवर्क पर खूब कॉल ड्राप होती है तो भी आपको महीने में अधिकतम 90 रुपये ही मिलेंगे.

कौन तय करेगा की कॉल ड्राप हुई?
टेलिकॉम कंपनियां ही तय करेंगी की कॉल ड्राप है या नहीं. टेलिकॉम मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया की टेलिकॉम कंपनियों के पास ऐसा सिस्टम मौजूद है जिससे ये पता चल जाता है की कब टेक्निकल दिक्कत की वजह से कॉल ड्राप हुई है. फिलहाल, टेलीनॉर ऐसी टेलिकॉम ऑपरेटर है जो कॉल ड्राप होने पर अपने ग्राहकों को हर्जाना देती है. अधिकारी ने बताया की कॉल ड्राप का सिस्टम लागू करने के लिए ही कंपनियों को दिसंबर अंत तक का समय दिया गया है.

कैसे बताएगी कंपनी की कॉल ड्राप हुई?
ट्राई के नोटिफिकेशन के मुताबिक, प्रीपेड ग्राहकों को टेलिकॉम कंपनियां कॉल ड्राप होने पर 4 घंटे के अंदर SMS भेजकर बताएंगी की आपकी कॉल ड्राप हुई थी और आपके अकाउंट में इतने पैसे भेज दिए गए हैं. पोस्टपेड ग्राहकों के केस में उनके मासिक बिल में कॉल ड्राप का ब्यौरा दिया जाएगा और बिल की रकम से कॉल ड्राप की रकम को कम कर दिया जाएगा.

टेलिकॉम कंपनियो का विरोध?
टेलिकॉम कंपनियां ट्राई के इस कदम का विरोध कर रही हैं. सेलुलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (COAI) का कहना है की ट्राई की इस रूलिंग से हम बेहद निराश हैं. ट्राई की ये रूलिंग टेलिकॉम कंपनियों के लाइसेंस नियमों के खिलाफ है. लाइसेंस नियम कहते हैं की टेलिकॉम कंपनियों को 90% कवरेज देना होगा. कंपनियों को आउटडोर कवरेज देना होगा. यानी, की कंपनियां इंडोर कवरेज देने के लिए बाध्य नहीं हैं. इसके अलावा लाइसेंस नियम कहते हैं की ब्लॉक स्तर से आगे सिर्फ 30% कवरेज देना ज़रूरी है. COAI का कहना है की बहुत से ऐसे हैंडसेट होते हैं जिनकी सिग्नल कैच करने की क्षमता दुसरे हैंडसेट के मुकाबले कम होती है. ऐसे में अगर कॉल ड्राप हैंडसेट की कमी की वजह से होती है तो फिर कंपनी क्यों हर्जाना भरे. वहीं अगर कॉल ड्राप कॉल रिसीव करने वाले ग्राहक के नेटवर्क की वजह से होगी तो फिर कॉल करने वाले ग्राहक की कंपनी क्यों हर्जाना भरे?

टेलिकॉम कंपनियों के सूत्रों का कहना है कि ट्राई के साथ इन सभी मुद्दों पर बात करने की ज़रूरत है. अगर ट्राई के साथ बात नहीं बनती है तो इस फैसले के खिलाफ कंपनियां टेलिकॉम ट्रिब्यूनल TDSAT का दरवाज़ा खटखटा सकती हैं.

सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

मछलियाँ और स्त्रियां...

67 की उम्र में 70 किलोमीटर साईक्लिंग

छात्र बनकर रूस यात्रा बाया "स्मृतियों में रूस"

योगः कर्मसु कौशलम्

Rajasthani Look

दाल रोटी खाओ और प्रभु के गुण गाओ ...

आज़ादी और विवेक के पक्ष में प्रलेस, जलेस, जसम, दलेस और साहित्य-संवाद का साझा बयान

तो क्या एबीपी न्यूज की 'आपरेशन भूमिहार' प्लांटेड स्टोरी थी?

रवीन्द्रनाथ टैगोर ने ‘नाइटहुड’ सम्मान लौटते हुए क्या कहा था ?

~** सूना आशियाना **~ १०० वीं पोस्ट

कोलकाता के दुर्गा पूजा पंडाल : भाग 1

मुनव्वर राना ने कहा, थके हुए लोग लौटा रहे हैं पुरस्‍कार और सम्‍मान

१००० वीं पोस्ट - डॉ॰ ए पी जे अब्दुल कलाम साहब की ८४ वीं जयंती

कोलतार की शै

रजस्वला ​ धर्म और कर्म कांड

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

9 टिप्पणियाँ:

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

इस असुविधा का सबसे बड़ा नुकसान हम दोनों मित्रों ने भोगा है. ज़ुबान से निकलने वाली गाली (हर कॉल ड्रॉप के साथ) असभ्य बनाती रही है. सरकार ने माना और जुर्माना भी किया है. लेकिन ट्विस्ट इन द टेल यह है कि अगर कॉल ड्रॉप 2 मिनट के बाद होगी तो इसे सामान्य माना जाएगा.
आज लगभग दस दिनों बाद चैतन्य जी से बात हुई (आज ही लौटे हैं वो छुट्टी से) तो ठीक दो मिनट बाद कॉल ड्रॉप हो गयी. और हमारी गालियों का सिलसिला शुरू. अब हमारी ज़ुबान ख़राब हो रही है और कभी पब्लिकली कुछ निकल जाए तो दोष हमारा नहीं. यहाँ कह दिया ताकि सनद रहे!

Swati Vallabha Raj ने कहा…

कॉल ड्राप पर उचित निर्णय ...हम सब भुक्त भोगी हैं ...
अच्छे लिंकों का चयन ...अनीह ईषना को जगह देने के लिए दिल से आभार....

parmeshwari choudhary ने कहा…

कॉल ड्राप की समस्या हर्जाने से दूर नहीं होने वाली है....फिर भी दिल बहलाने को ख्याल अच्छा है कि कुछ हर्जाना मिलने की गुंजाईश हुई . अच्छे सूत्र .आभार आपका !

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन शिवम जी ।

Sumitra Singh Chaturvedi ने कहा…

मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए धन्यवाद शि‍वम

Kavita Rawat ने कहा…

उपयोगी जानकारी प्रस्तुति के साथ बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार

ब्रजकिशोर सिंह ने कहा…

मेरे पोस्ट पर नजरे इनायत करने के लिए तहेदिल से शुक्रिया

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर = RAJA Kumarendra Singh Sengar ने कहा…

ये तो ड्रॉपर से बूँद टपकाने जैसा ही कुछ हुआ....

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार