Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 15 जून 2014

फादर्स डे




फादर्स डे दुनिया के अधिकांश देशों में मनाया जाता है और इसके पीछे की कहानी बड़ी दिलचस्प है। फादर्स डे परंपरा की शुरुआत करने का श्रेय अमेरिका में रहने वाली श्रीमती सोनोरा स्मार्ट डोड के संघर्ष को दिया जाता है। उन्हें इसकी प्रेरणा अपने पिता से मिली, जो अपने 6 बच्चों की परवरिश अकेले ही कर रहे थे। 1909 में सोनोरा के मन में यह विचार कौंधा कि जब मदर्स डे मनाया जा सकता है तो पिता को सम्मान देने के लिए फादर्स डे क्यों नहीं। यह ठीक है कि शुरू में उनके विचार का खंडन किया गया, लेकिन बाद में अपना लिया गया। सोनोरा फादर्स डे 5 जून को अपने पिता के जन्मदिन के दिन मनाना चाहती थी, लेकिन इसे जून के तीसरे संडे को मनाया जाना तय किया गया। पहला फादर्स डे 19 जून 1910 को आयोजित किया गया।

आज फादर्स डे है  … मेरी बड़ी बहन नीलम प्रभा की रचना इस दिन के नाम सबकी ओर से -

तेरे आशीषों की छाँव तले 
ये लता हर पल फूले फले 
…………… 
जीवन पात्र मेरा खाली रह जाता 
पिता के रूप में जो तुम्हें नहीं पाता 
ऊँचा आकाश है मंदिर ऊँचा 
पर कब हमने इनको है पूजा 
सरे किस्मत तेरे दर से उठे ना  ……। 

पिता एक स्तम्भ - जो वटवृक्ष की तरह जीवन में होता है, जिसके आगे हर तूफ़ान दिशा बदल लेते हैं  … 

पापा बस पापा - सोच का सृजन - Blogger

ताकि पापा न कहें कि "मैं हार गया !!"


इस लिंक के साथ फेसबुक के ख़ास पल पापा के नाम 


हम हमेशा से यह सुनते आए हैं कि पति-पत्नी का रिश्ता सात जन्मों का होता है। परन्तु मुझे इस बात पर यकीन नहीं होता। पति-पत्नी के आपसी रिश्ते कैसे भी हों उन्हें सात ही जन्मों का ही माना जाता है। जब भी कोई स्त्री व्रत रखती हैं तो भी वह पति के साथ अपने सात जन्मों का ही साथ मांगती हैं। लेकिन किसी और रिश्ते में ऐसा क्यों नहीं है। जैसे बहन-भाई, माता-पिता और उनके बच्चों, चाहे उनमें कितना भी प्यार हो, ऐसी मान्यता क्यों नहीं है कि ये सभी रिश्ते भी सात जन्मों के लिए ही हों। यहां तक कि मां भी अपने बेटे-बेटी के लिए व्रत रखती पर उसमें सात जन्मों का साथ नहीं मांगती बल्कि उनकी दीर्घायु और सुख-समृद्धि ही मांगती है।
-शशि

.....प्यारे पापा...


कितना खूबसूरत है इस दुनिया में पिता होना...!

8 टिप्पणियाँ:

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर लिंक्स...आभार

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

पितृ दिवस पर शुभकामनाऐं । बहुत सुंदर बुलेटिन ।

ऋता शेखर मधु ने कहा…

सुन्दर बुलेटिन ...फादर्स डे की शुभकामनाएँ !!

Satish Saxena ने कहा…

मंगलकामनाएं आपको !

Maheshwari kaneri ने कहा…

पितृ दिवस पर शुभकामनाऐं

शिवम् मिश्रा ने कहा…

पितृ दिवस पर सभी को हार्दिक शुभकामनाऐं । इस सुंदर बुलेटिन के लिए आपका आभार दीदी |

संजय भास्‍कर ने कहा…

पितृ दिवस पर शुभकामनाऐं

vibha rani Shrivastava ने कहा…

थोड़ी देर हो गई क्षमा करें
मेरे पोस्ट को स्थान देनेके शुक्रिया
हर्दिक शुभकामनाए

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार