Subscribe:

Ads 468x60px

शुक्रवार, 27 दिसंबर 2013

मिर्ज़ा गालिब की २१६ वीं जयंती पर विशेष ब्लॉग बुलेटिन

सभी चिठ्ठाकार मित्रों को सादर नमस्कार।।

चित्र साभार : bhavtarangini.blogspot.com
1850 की दिल्ली में धूल और धुएं का गुब्बार नहीं था। यहां था तो बहादुरशाह जफ़र के रूप में मुगलिया सल्तनत का एक ऐसा वारिस, जिसकी नज़र में पस्तहाल मुगलिया सल्तनत को समझने की संवेदना और संस्कृति से जुड़ी रहने वाली दृष्टि थी। यूं तो हिन्दुस्तान की वास्तविक शासक ईस्ट इंडिया कंपनी थी, लेकिन कई बार इस शासन के लिए वह भी मुगलिया सल्तनत के नाम का सहारा लेती थी। बहरहाल यह अंतिम बादशाह लालकिले की चारदीवारी के भीतर अपने दरबार-ए-खास सजाता था। उसके दरबार में 'जौक' नामक मशहूर उर्दू मसनवीकार भी रहते थे। उनसे मिलने इसी वर्ष आगरे से एक व्यक्ति पहुंचा। लालकिले में पहुंचते ही उस व्यक्ति ने जो शेर पढ़ा, उसे सुनकर उस्ताद 'जौक' परेशान हो गये और बहादुरशाह जफ़र हैरान रह गए। वह शेर था -


'हैं और भी दुनिया में सुखनवर बहुत अच्छे, कहते हैं ग़ालिब का है अंदाज़-ए-बयां और।'


 आज मिर्ज़ा गालिब की २१६ वीं जयंती पर पूरा हिंदी ब्लॉगजगत और हमारी ब्लॉग बुलेटिन टीम उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करती है। सादर।।


अब चलते हैं आज कि बुलेटिन की ओर ....















कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि।। 

7 टिप्पणियाँ:

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

हैं और भी दुनिया में सुख़नवर बहुत अच्छे,

कहते हैं कि ग़ालिब काम्है अन्दाज़-ए-बयाँ और!!

एक शायर जिसकी ज़ुबान की मिठास शायरी और ग़ज़लों का पर्याय बन गई.. सो सिम्पल-सो ग्रेट!!!

मनोज कुमार ने कहा…

सुंदर चर्चा।

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर सूत्रों के साथ मिर्जा गालिब को कर रहा है याद आज का बुलेटिन !

संजय भास्‍कर ने कहा…

आभार .... मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए ...

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुंदर सूत्रों के साथ मेरी रचना को भी शामिल करने के लिए आभार..मिर्ज़ा गालिब की २१६ वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि

कविता रावत ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति
गालिब जयंती पर श्रद्धा सुमन!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

जय हो हर्ष बाबू ... चचा गालिब को खूब याद किया आपने ... साबित कर दिया कि चचा के असली भतीजों मे से एक हो |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार