Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 10 जनवरी 2012

स्नान और ब्लॉग बुलेटिन से मिलती है ताजगी

प्रिय ब्लॉगर मित्रो ,
प्रणाम !

सर्दियां अपने पूरे शबाब पर हैं। इस मौसम में अक्सर लोग नहाने से बचते हैं। जबकि गुनगुने पानी से स्नान करने के कई फायदे होते हैं। इससे जहां शरीर साफ सुथरा रहता है वहीं आपको ताजगी मिलती है। 

बस इसके लिए कुछ जरूरी बातों का रखें ध्यान :

मसाज करें

स्नान से पहले शरीर पर किसी तेल से हल्की मसाज जरूर करें। अगर आप रोज यह नहीं कर सकते तो कम से कम हफ्ते में तीन दिन तो ऐसा अवश्य करें। इससे रक्त संचार तेज होने के साथ ही आपकी त्वचा खिल उठेगी। सर्दियों में मसाज के लिए बादाम का तेल सबसे अच्छा रहता है।

सही साबुन चुनें

किसी भी साबुन से स्नान कर लेने केबजाय हमें प्राकृतिक चीजों से निर्मित साबुन का इस्तेमाल करना चाहिए ताकि त्वचा को किसी तरह का नुकसान न हो। साथ ही उसमें माइश्चराइजर और ग्लिसरीन, दोनों ही मिले हों।

कितनी देर करें स्नान

आप कितनी देर स्नान कर सकते है, यह भी एक अहम बात है। अगर 20 मिनट से अधिक समय तक पानी में रहते हैं तो आपकी त्वचा से प्राकृतिक तेल निकलने लगते हैं। इससे आपकी त्वचा रूखी हो सकती है।

नहाने के बाद

स्नान के बाद शरीर को पोंछना भी एक कला है। कुछ लोग रगड़कर बदन पोंछते हैं। इससे त्वचा रूखी हो जाती है। स्नान के बाद बदन को तौलिए से हल्के हाथों से पोंछे। बाद में हाथ पैरों पर माइश्चराइजर लगाना न भूलें।

वैसे कुछ साथियो का यह भी कहना है कि ब्लॉग बुलेटिन भी ताजगी पहुँचाने में काफी सहायक साबित होती है ... आप का क्या कहना है इस बारे में ???

 सादर आपका 

शिवम् मिश्रा 

==================================================


कुछ महीने पहले सहेलियों के साथ मुंबई एक पास एक हिल स्टेशन 'माथेरान' गयी थी. जब फेसबुक पर फोटो लगाई तो कई लोगो ने कहा....'तस्वीरें यहाँ देख ली...विवरण तो ब्लॉग पर पढ़ने को मिलेगा." परन्तु मैने कहा.."कुछ ख़...
posted by Shah Nawaz at प्रेमरस.कॉम 
"यह मेरी वसीयत है. मैं मोहम्मद बिन अब्दुल्लस्सलाम बिन हुमायद बिन अबू मानयर बिन हुमायद बिन नयिल अल फुह़शी गद्दाफ़ी, कसम खाकर कहता हूँ कि दुनिया में अल्लाह़ के अलावा कोई खुदा नहीं, और मोहम्मद ही उस अल्लाह क...
एक बार मैनें लिखी थी एक कविता हमारे बारे में, तुम्हारी हँसी को याद करके, कुछ तुम्हारे बारे में, डायरी के पन्नों में कुछ किस्से लिखे थे, तुम्हारी पिछली बातें पढ़ के, कुछ तुम्हारी लिखीं सच्ची बातें, अपने मन...
posted by डॉ टी एस दराल at अंतर्मंथन 
फोटोग्राफी का शौक तो हमें भी बहुत है । कई बार ऐसे ऐसे काम भी किये हैं जिन्हें याद कर आज भी हंसी भी आती है और हैरानी भी होती है । लेकिन किसी को फोटोग्राफी का शौक इस हद तक दीवाना बना सकता है , यह एक इ- मेल द...
posted by Puja Upadhyay at लहरें 
जान, अच्छा हुआ जो कल तुम्हारे पास वक़्त कम था...वरना दर्द के उस समंदर से हमें कौन उबार पाता...मैं अपने साथ तुम्हारी सांसें भी दाँव पर लगा के हार जाती...फिर हम कैसे जीते...कैसे? बहुत गहरा भंवर था समंदर में...
posted by बी. एस. पाबला at ज़िंदगी के मेले 
अभी तक तो मैं पढ़ते सुनते आया हूँ कि एक ठग ने कैसे किसी को सम्मोहित कर किसी इनसान से उसके हजारों लाखों रूपये हड़प लिए या फिर आधुनिक युग में बैंक में सेंधमारी करने वाले कैसे सीसीटीवी कैमरे बंद कर डाका डाल ल...
posted by Archana at मेरे मन की 
पल्लवी और नेहा--------------एक गीत तुम्हारे लिये------- अनुराग जी की मदद से ऑडियो तो हासिल कर लिया पर तंग आ गई इसका ऑडियो नहीं बजने को तैयार हुआ डिव शेअर मुझसे रूठा...
यह कदंम का पेड़ यह कदंम का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे मैं भी उस पर बैठ कन्हैया बनता धीरे-धीरे ले देतीं यदि मुझे बांसुरी तुम दो पैसे वाली किसी तरह नीची हो जाती यह कदंब की डाली तुम्हें नहीं कुछ कहता पर ...

posted by महफूज़ अली (Mahfooz Ali) at लेखनी...
*अपने न्यू इयर रिज़ोल्यूशन* के मुताबिक़ फ़िर से हाज़िर हूँ. अब भाई लिखना तो है ही... लिखने से क्या होता है ना मन के अंदर का बहुत कुछ बाहर आ जाता है... नहीं तो अपने फीलिंग्स को या फ़िर विचार को सिर्फ एक बं...

posted by shikha varshney at स्पंदन SPANDAN 
*रद्दी पन्ना -* सफ़ेद कोरे पन्ने सी थी मैं जिस पर जैसी चाहे इबारत लिख सकते थे तुम पर तुमने भी चुनी काली स्याही यह सोच कर कि उसी से चमकेगा पन्ना पर भूल गए तुम उन काले शब्दों को उकेरना होता है बेहद एहत...

जिस तरह के हालात हमारे देश के दिख रहे है और रोज रोज न्यूज़ पर आ रहे आन्दोलनों की ख़बरों को सुनने के बाद मुझे तो अब यही लगने लगा है की अगर हालत ये ही रहे तो वो दिन ज्यादा दूर नहीं जब हमारे देश के हालात नीचे...
posted by हास्यफुहार at हास्यफुहार 
खदेरन नेट पर बैठकर अपने सभी रिश्तेदारों और जानपहचान के लोगों को मेल कर के उठा कि उसकी नज़र फाटक बाबू पर पड़ी। फाटक बाबू ने पूछा, “क्या हो रहा था खदेरन?” खदेरन ने बताया,“फाटक बाबू, एक ठो ब्लॉग देख रहे थे,...
जब ये पोस्ट यहाँ स्केचुल पब्लिश्ड होगी, तब मैं अपना ये शहर छोड़ एक दूसरे शहर में पहुँच चूका हूँगा या फिर पहुँचने वाला हूँगा.मेरा ये शहर बैंगलोर, जहाँ मैं अभी हूँ और आज की सुबह यहाँ की आखिरी सुबह है(वैसे एक...
 ==================================================

एक दुखद समाचार  

बड़े दुःख के साथ सूचित किया जा रहा है कि हमारे ब्लोगर दोस्त श्री राजीव तनेजा जी की माता जी का कल शाम ७:३० पर स्वर्गवास हो गया |

अभी कुछ देर पहले आई इस पोस्ट  से यह जानकारी मिली !

ब्लॉग बुलेटिन की पूरी टीम की ओर से माता जी को विनम्र श्रद्धांजलि और तनेजा परिवार को हार्दिक संवेदनाएं !

==================================================

14 टिप्पणियाँ:

vidya ने कहा…

बहुत बढ़िया पोस्ट्स..
धन्यवाद..

तनेजा जी को हमारी ओर से संवेदनाएं..ईश्वर उन्हें संबल दें.
सादर.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

स्नान के बाद शरीर तरोताजा , ब्लॉग बुलेटिन के साथ दिल दिमाग तरोताजा ...
तनेजा जी को हमारी ओर से संवेदनाएं...माता जी को विनम्र श्रद्धांजलि

वन्दना ने कहा…

बढिया बुलेटिन है सारी खबरें कवर कर रहा है ……………राजीव जी की माता जी को विनम्र श्रद्धांजलि

RITU ने कहा…

राजीव जी की माता जी को विनम्र श्रधांजलि .....
बुलेटिन में सर्दियों के स्नानं का लाभ दर्शाया ..अच्छा लगा
kalamdaan.blogspot.com

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हमें तो स्नान के पहले ब्लॉग से ही ताजगी आ जाती है। तनेजाजी के परिवार को संबल मिले।

Archana ने कहा…

बुलेटिन की शोभा बढ़ा रही है मेरी बेटियाँ ...आभार
साथ में दुखद खबर !!! विनम्र श्रद्धांजली ....
ब्लॉग बुलेटिन --कभी धूप- कभी छाँव...

dheerendra ने कहा…

शिवम जी,मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार,...
ब्लॉग बुलेटिन में सुंदर लिको की प्रस्तुति अच्छी लगी,....

एक सुझाव,जितने लोग एक सप्ताह में आपके बुलेटिन में क्मेट्स के
माध्यम से जुड़ते है उतने लोगो की पाठकों की रेटिग या उनके कमेंट्स की रेटिग कि किसके पोस्ट में कितने पाठक पहुचे मेरिट से १० लोगो के नाम दे, इससे ब्लॉग बुलेटिन में पाठकों की सख्या बढ़ेगी,तथा एक दूसरे के पोस्ट पर अधिक से अधिक लोग पहुचेगे.

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

शिवम जी की बात न मानें.. नहाने से परहेज करें तो करें, मगर बुलेटिन से बिलकुल परहेज न करें!! ये मेरा आजमाया हुआ नुस्खा है!!
लिंक सारे बेहतरीन और चुनिन्दा हैं..
अंत में, राजीव जी के शोक में हम बराबर के शरीक हैं.. परमात्मा दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करे!!

मनोज कुमार ने कहा…

इस बार के अंक में ताज़गी है ... स्नान के बाद वाला।

shikha varshney ने कहा…

सर्दियों में अच्छे टिप्स के साथ,बढ़िया बुलेटिन.

Atul Shrivastava ने कहा…

बढिया बुलेटिन।
काफी सारे लिंक मिले पढने को।
तनेजा जी की माता जी को श्रध्‍दासुमन....

सदा ने कहा…

बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

अनूप शुक्ल ने कहा…

राजीव तनेजा जी की माता के प्रति विनम्र श्रद्धांजलि।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार