Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 8 जनवरी 2012

सचिन का सेंचुरी नहीं - सलिल का हाफ-सेंचुरी : ब्लॉग बुलेटिन


डी.एन.ए. अखबार में एगो बड़ा बढ़िया बात पढने को मिला. लेख था सुमित चक्रबोर्ती का. कमाल का बात लिखे हैं, सदी के “महानतम” बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के सतक का सतक के बारे में.
“अगर आपने सचिन के सौवें शतक में कोइ निवेश नहीं किया है – भावनात्मक, आर्थिक या किसी भी तरह का – तो आपको बहुत मजेदार ड्रामा देखने को मिलेगा जो इस घटना के चारों ओर गढा गया है. हर खेल के पहले एक ‘हाइप’ खडा करना और हर असफलता के बाद उनकी चाटुकारिता करना, जैसा कि हमारे कमेंटेटर उनकी हर असफलता के कारणों की व्याख्या करने में बिछे जाते हैं.”
अब अगर आप भी एही अफ़सोस में मुरझाए जा रहे हैं कि उनका सेंचुरी नहीं बन रहा है, त हम आपको एगो हाफ-सेंचुरी पर मुस्कुराने का मौक़ा देने जा रहे हैं. अब ई मत पूछियेगा कि कौन हाफ-सेंचुरी, सचिन के सेंचुरी से बढकर खुसी देने वाला हो गया. त ध्यान से सुन लीजिए कि सचिन का सेंचुरी के मुकाबले में आपके सामने हाजिर है सलिल का हाफ-सेंचुरी... आपका ई प्यारा बुलेटिन का पचासवां पोस्ट!!
 
१३ नवंबर २०११ दिन रविवार को सुरू हुआ ई बुलेटिन आज ८ जनवरी २०१२ को केवल ५६ बौल में (माने ५७ दिन में) ५० का आंकड़ा छूने को तैयार बैठा है. अऊर अभी त हम नौट-आउट हैं. आप लोग अइसहीं स्टेडियम में बैठकर बुलेटिन के हर खिलाड़ी का जोस बढाते रहिएगा त ई बुलेटिन का मालूम केतना सेंचुरी बनाते हुए आगे बढता जाएगा.

त आप लोग खेल का आनंद लीजिए हम तनी दू-चार-दस-पन्द्रह कैच पकडकर आते हैं.


********************************************

एक
  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ जी हर माँ-बाप का उम्मीद बयान कर रहे हैं, जो ऊ लोग अपना बाल-बच्चा से लगाता है.
दो
    महेंद्र वर्मा जी भी गहरा सीख दे रहे हैं अपना गजल के माध्यम से
तीन
मांसाहार और शाकाहार के बीच भेद बता रहे हैं निरामिष के टीम सदस्य
चार 
आइये चलें कल्पना एयरलाइंस के उड़ान पर... पर में दिल्ली, पल में कर्नाटक... 
हमारे मुख्य वैमानिक हैं श्रीमती मृदुला प्रधान जी
पाँच
प्रसासनिक सेवा और कलम का जादूगरी – अजीब कोम्बिनेशन है... 
अश्वनी शर्मा जी को पढ़ने का अनोखा आनंद है, कविता हो या गज़ल
छः
साहित्य में प्रगतिवाद तक का सफर तय कर लिया है मनोज भारती जी ने.. 
यात्रा अभी भी जारी है
 सात
मीडिया की खबर लेने वाले मीडिया-क्रूक्स 
आज खबर ले रहे हैं सचिन, सेंचुरी और सनसनीखेज बयानों का  
 आठ
पंडित जी का सलाह मानिए – चुनाव के दौरान ध्यान देने लायक सलाह "क्वचिदन्यतोsपि" पर 
डॉ. अरविन्द मिश्र का चुनाव तैयारी
नौ
बनारस से ही देवेन्द्र पांडे जी आपको ले चलेंगे बनारस के घाट के सैर पर
 दस
गांधी जी जीवन का एक पन्ना ई भी है... 
बच्चा लोग के साथ तैराकी का से जुदा एगो प्रेरक प्रसंग.. मनोजकुमार जी के सौजन्य से
ग्यारह
बेतरतीब याद, रूमानियत और एक खाली जगह.. 
देखिये कि जो खाली जगह अली सैयद साहब छोड़ दिए हैं 
उसको भरने का साहस है कि नहीं आप में


अऊर अंत में
ज्ञानदत्त पांडे जी का कथरी के साथ याद कीजिये 
कि कैसे मर जाता है हमारा पारंपरिक सिल्प और कैसे मशीनी हो जाता है आदमी का हुनर

 

आप आनंद लीजिए ई पचासवां बुलेटिन का अऊर हमको दीजिए इजाजत!! मिलते हैं एगो छोटा सा ‘एक ब्लांग’ वाला ब्रेक के बाद!!

28 टिप्पणियाँ:

shikha varshney ने कहा…

अर्ध शतक की बधाई.चलता रहे बुलेटिन.

मनोज भारती ने कहा…

शानदार शॉट से अर्ध-शतक पूरा हो रहा है जी ...ब्लॉग बुलेटिन टीम को बधाइयां!!!

Vivek Rastogi ने कहा…

बहुत बधाई

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

कल अर्जुन टेंडुलकर अपने बाउजी से कह रहा था....

तुमी सेंचुरी किव्हां बनावना रे बाबा...!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

वाह सलिल दादा खूब रिकॉर्ड रखें है आप ... हर पोस्ट का हिसाब है आपके पास ... जय हो दादा ... आज तो एकदम कलासिक शोट मार कर पूरा किये है अर्ध-शतक ... बधाइयाँ आपको और पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम को ... साथ साथ सभी पाठको को भी बहुत बहुत बधाइयाँ और धन्यवाद उनके लगातार समर्थन के लिए !

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

यह बुलेटिन पढकर बहुत आनन्द आया। सभी लिंकित आलेख भी रोचक और ज्ञानवर्धक रहे। इस विविधता के लिये आपका हार्दिक आभार!

mahendra verma ने कहा…

मेरी रचना सम्मिलित करने के लिए आभार।

mahendra verma ने कहा…

अर्धशतकीय पोस्ट के लिए बधाई।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

पचासवीं पोस्ट की बधाई!! यूं ही चलाती रहे यह गाड़ी और कभी खत्म न हो ये मैच!!

Rajput ने कहा…

खुबसूरत रचना के लिए . बधाई

mridula pradhan ने कहा…

badhayee bhi aur dhanybad bhi.......bahut khushi hui padhkar.

santosh tiwary ने कहा…

एक कल्पना... सचिन दरअसल पिछले लिटिल मास्टर के पुत्र की दशा से चिंतित हैं. वो नहीं चाहते की 'अर्जुन' भी 'रोहन' की तरह.. पूरी उमर-'न्यू कमर' बने रहें.अब तो जगमोहन जी भी नहीं के कोल्कता से खिला दें...वहाँ पहले ही दादा खार खाए बैठे हैं. साथ में डर ये की...इन्होने सौवां शतक ठोका नहीं..और इनकी उम्र की दुहाई देने वाले 'बूढ़े चयनकर्ताओं' ने..'बिना राजनीति के' एकमत होकर इनको..जूता/छाता/गीता/ थमा के विदा किया नहीं..! तो इन्होने तय किया है के शतक ४ साल बाद बनायेंगे...और उस से पहले अर्जुन को १४ वर्ष की उम्र में टेस्ट खिल्वायेंगे!फिर...एक छोर पर सचिन... एक पर..अर्जुन.सौवां शतक पूर्ण!लिटिल मास्टर के पुत्र को कोई सूत्र नहीं ढूँढना पड़ेगा...!

dheerendra ने कहा…

इसी तरह अगर रन बनते रहे,तो सचिन से पहले आपकी सेंचुरी लग जायेगी,अर्ध शतक की बधाई,बहुत बढिया प्रस्तुति,शुभकामनाए
WELCOME to--जिन्दगीं--

JAYESH DAVE ने कहा…

बहुत खूब Salil Varma जी....

संजय भास्कर ने कहा…

बधाई बधाई बधाई

रश्मि प्रभा... ने कहा…

बुलेटिन की छवि बहुत अच्छी हो गई है .... आनंद ही आनंद

SKT ने कहा…

आप भी कहाँ-कहाँ मौजूद हो...हमें मालूम ही नहीं था! आप लारा के रिकॉर्ड को तोड़ें, यही दुआ..!!

मनोज कुमार ने कहा…

आपका ई दोसरका स्पेल में फेंका गया, दू ओवर का बारहो बॉल एकदम से फ़्लाइटेड था और हमको त अपना फिरकी के जाल में ओझरा लिया।

निरामिष ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की मनमोहक सज्जा के साथ सलिल भाई का प्रस्तुत बुलेटिन रूचिप्रद व ज्ञानवर्धक है।

"निरामिष" पर खबर दृष्टि अवलोकन का अनंत आभार!!

ब्लॉग बुलेटिन के अर्ध-शतकीय अंक के लिए शुभकामनाएं!!

RITU ने कहा…

बधाई..प्रगति पथ पर अग्रसर रहे..
kalamdaan.blogspot.com

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

:)) behtareen bulletin... jaldi hi shatak bhi pura hoga:))

ali ने कहा…

यही रफ़्तार रही तो सचिन की रिकार्ड सेंचुरी से पहले आपका बुलेटिन शतक पूरा हो जाएगा :)

सदा ने कहा…

बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

बनाते रहिये हाफ-सेंचुरी!!! फिर सेंचुरी!!बधाई!!

सञ्जय झा ने कहा…

ardh-shatak ke lye century subhkamnayen........

pranam.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वो मारा अर्धशतक

देव कुमार झा ने कहा…

ज़बरदस्त, सुपर बुलेटिन.... अर्द्ध शतक लग गया, अभी तो लारा का चार सौ का रिकार्ड तोडना है..

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार