Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

ब्लॉग बुलेटिन - ब्लॉग रत्न सम्मान प्रतियोगिता 2019

बुधवार, 20 फ़रवरी 2019

नमन - नामवर सिंह और ब्लॉग बुलेटिन

सभी हिंदी ब्लॉगर्स को नमस्कार।
26 जुलाई 1926 में यूपी के चंदौली जिले के जीयनपुर गांव में पैदा हुए डॉ. नामवर सिंह हिंदी साहित्य के बड़े रचनाकार हजारी प्रसाद द्विवेदी के शिष्य थे। उनकी गिनती हिंदी साहित्य जगत के बड़े समालोचकों में थी।

हिंदी के मशहूर साहित्यकार और समालोचक डॉक्टर नामवर सिंह का निधन हो गया है। दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में मंगलवार रात तकरीबन 11.50 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली। खराब सेहत की वजह से पिछले कुछ समय से वह एम्स में भर्ती थे।

इसी साल जनवरी में वह अपने घर में अचानक गिर गए थे। इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। परिजनों के मुताबिक लोधी रोड स्थित श्मशान घाट पर बुधवार दोपहर बाद उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। 26 जुलाई 1926 में यूपी के चंदौली जिले के जीयनपुर गांव में पैदा हुए डॉ. नामवर सिंह हिंदी साहित्य के बड़े रचनाकार हजारी प्रसाद द्विवेदी के शिष्य थे। उनकी गिनती हिंदी साहित्य जगत के बड़े समालोचकों में थी। उन्हें साहित्य अकादमी अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया था।

डॉ. नामवर सिंह ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के अलावा दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में लंबे अरसे तक अध्यापन कार्य किया था। बीएचयू से हिंदी साहित्य में एमए और पीएचडी की डिग्री हासिल करने वाले नामवर सिंह ने हिंदी साहित्य जगत में आलोचना को नया मुकाम दिया। जेएनयू से पहले उन्होंने सागर और जोधपुर यूनिवर्सिटी में भी पढ़ाया। जनयुग और आलोचना नाम की दो हिंदी पत्रिकाओं के वह संपादक भी रहे। 1959 में उन्होंने चकिया-चंदौली सीट से भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से चुनाव लड़ा लेकिन हार के बाद बीएचयू में पढ़ाना छोड़ दिया।

वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी ने उनके निधन पर ट्वीट में लिखा, 'हिंदी में फिर सन्नाटे की खबर। नायाब आलोचक, साहित्य में दूसरी परम्परा के अन्वेषी, डॉ नामवर सिंह नहीं रहे। मंगलवार को आधी रात होते-न-होते उन्होंने आखिरी सांस ली। कुछ समय से एम्स में भर्ती थे। 26 जुलाई को वह 93 के हो जाते। उन्होंने अच्छा जीवन जिया, बड़ा जीवन पाया। नतशीश नमन।'

रचनाएं
बकलम खुद - व्यक्तिव्यंजक निबन्धों का संग्रह, कविताओं तथा विविध विधाओं की गद्य रचनाओं के साथ संकलित

शोध 
हिन्दी के विकास में अपभ्रंश का योग - 1952
पृथ्वीराज रासो की भाषा - 1956 (अब संशोधित संस्करण 'पृथ्वीराज रासो: भाषा और साहित्य' नाम से उपलब्ध)

आलोचना
आधुनिक साहित्य की प्रवृत्तियां - 1954
छायावाद - 1955
इतिहास और आलोचना - 1957
कहानी : नयी कहानी - 1964
कविता के नये प्रतिमान - 1968
दूसरी परंपरा की खोज - 1982
वाद विवाद और संवाद - 1989


आज हम सब हिंदी साहित्य में नामवर सिंह जी के स्थान और योगदान का स्मरण करते हुए उन्हें शत शत नमन करते हैं।

~ आज की बुलेटिन कड़ियाँ ~













आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।।

9 टिप्पणियाँ:

Digamber Naswa ने कहा…

नामवार एक शशक्त हस्ताक्षर थे आज के ... उनकी कमी हमेशा रहेगी ...
अच्छा संकलन है आज का ... आभार मेरी रचना को जगह देने के लिए ...

Shah Nawaz ने कहा…

शुक्रिया इस ब्लॉग बुलेटिन के ज़रिये नामवर सिंह जी के बारे में जानकारी देने के लिए और मेरा ब्लॉग भी इस बुलेटिंग में शामिल करने के लिए...

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

नमन हिन्दी के स्तम्भ को।

Abhilasha ने कहा…

सादर नमन हिंदी साहित्य के आधार स्तम्भ को।

anshumala ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन में मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए धन्यवाद |

noopuram ने कहा…

डॉक्टर नामवर सिंह को विनम्र श्रद्धांजलि.

आज का बुलेटिन बहुत अच्छा लगा. धन्यवाद.
विभिन्न विषयों पर विविध सामग्री. रोचक.

Virendra Singh ने कहा…

डॉ नामवर सिंह जी को विनम्र श्रद्धांजलि। उनका जाना हिंदी साहित्य जगत की अपूर्णीय क्षति है।

संजय भास्‍कर ने कहा…

डॉक्टर नामवर सिंह को विनम्र श्रद्धांजलि

Anita saini ने कहा…

सादर नमन हिंदी साहित्य के आधार स्तम्भ को।
बहुत सुन्दर प्रस्तुति
सादर

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार