Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शनिवार, 2 फ़रवरी 2019

डिप्रेशन में कौन !?

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

एक महिला डिप्रेशन के इलाज के लिए डाक्टर के पास गई।

डाक्टर ने पूछा कि डिप्रेशन की शुरुआत कैसे होती है?

महिला ने जवाब दिया - बुरे-बुरे ख़याल आते हैं। उल्टे सीधे ख़याल आते हैं।

डाक्टर ने कहा - कोई उदाहरण दीजिए कि कैसे ख़याल आते हैं?

महिला ने कहा - अब आप अपने क्लीनिक का ही उदाहरण ले लीजिए। मैं जब यहाँ आई तो देखा कि आपके पास एक भी मरीज़ नहीं है तो मुझे खयाल आया कि आपने डाक्टरी की पढ़ाई की है। ख़ूब पैसे ख़र्च हुए होंगे, शायद एजुकेशन लोन भी ले रखा हो। इतना बड़ा क्लीनिक बनाया है, महँगा एक्विपमेंट है, स्टाफ है। इसके लिए अलग से लोन लिया होगा। इन सब पर तो रोज़ाना का ख़र्चा ही बहुत आता होगा। बिना मरीज़ के कैसे चलेगा ? क्लीनिक बंद हो जाएगा, क़र्ज़ अलग से चढ़ जाएगा। स्टाफ़ का क्या है, दूसरी जगह नौकरी कर लेंगे पर डाक्टर साहब का क्या होगा?

महिला का क्या हुआ ये तो पता नहीं, पर उसके बाद से डाक्टर साहब डिप्रेशन में हैं।


सादर आपका
शिवम् मिश्रा

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

प्रेमफरवरी-1

पिता का साथ

जिंदगी कैसी है पहेली हाय ------------- mangopeople

धूप आँगन की

फुर्र

अन्नदाता याद आया

सतरंगी यादें

604. काला जादू

पहले मुर्गी आई या अंडा --

भगवान को सरल जन ही प्रिय हैं !

मुझसे मिलना ये मेरे दोस्त !

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिए ... 

जय हिन्द !!!

10 टिप्पणियाँ:

Anita saini ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति
सादर

Digvijay Agrawal ने कहा…

महिला का क्या हुआ ये तो पता नहीं, पर उसके बाद से डाक्टर साहब डिप्रेशन में हैं।
व्वाह...
बढ़िया बुलेटिन..
सादर..

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति।

shashi purwar ने कहा…

तहें दिल से आभार सुंदर चर्चा

Meena Bhardwaj ने कहा…

बेहतरीन प्रस्तुति ।

noopuram ने कहा…

मिश्र जी ह्रदय तल से आभार.
हँसा दिया मतलब डिप्रेशन को हरा दिया ! बढ़िया !!
सुबह-सुबह बुलेटिन पर आना ...रिफ्रेश बटन दबाना हो गया !
सभी को बधाई !

Anuradha chauhan ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति

Kusum Kothari ने कहा…

बहुत सा आभार आदरणीय¡ मेरी रचना को शामिल किया गया ब्लॉग बुलेटिन में। बहुत शानदार प्रस्तुति।
भुमिका हास्य रंग लिये आकर्षक।
सभी रचनाकारों को बधाई सभी रचनाएँ पठनीय सुंदर।
सादर ।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

anshumala ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन में मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए धन्यवाद

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार