Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 25 मार्च 2014

इंसान का दिमाग,सही वक़्त,सही काम - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज का ज्ञान :-

इंसान के दिमाग का सही काम करना कोई बड़ी बात नहीं है, बल्कि दिमाग का सही वक़्त पर सही काम करना बहुत बड़ी बात है।

सादर आपका 
शिवम मिश्रा 
==============================

आज की पत्रकारिता पर कचरा !

जय भारती के पूत आज !!

आखिरकार

अरब देशों का भम !

♥♥इल्ज़ाम…♥♥

कुरुक्षेत्र

कहाँ है तू

एक जंगल ऐसा जहां शेर खुले मे और इंसान पिंजरे मे बंद होते हैं ---

कुछ मन की भड़ास

नया पुराना

तुम्हारा प्यार

==============================
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

11 टिप्पणियाँ:

आशीष अवस्थी ने कहा…

अच्छे सूत्र व बढ़िया बुलेटिन , शिवम् भाई व ब्लॉग बुलेटिन को धन्यवाद !
Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

Asha Lata Saxena ने कहा…

सुन्दर संयोजन सूत्रों का |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद शिवम् जी |

Anupama Tripathi ने कहा…

सभी सूत्र बढ़िया ॥बहुत आभार शिवम मेरी कृति को स्थान दिया ...!!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

डॉ टी एस दराल ने कहा…

आभार आपका !

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर !

सविता मिश्रा 'अक्षजा' ने कहा…

सुन्दर संयोजन ..................मेरी रचना शामिल करने के लिए शिवम् भाई और ब्लॉग बुलेटिन को धन्यवाद

PBCHATURVEDI प्रसन्नवदन चतुर्वेदी ने कहा…

वाह...सुन्दर और सामयिक पोस्ट...
नयी पोस्ट@चुनाव का मौसम

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर और पठनीय सूत्र।

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

सारे लिंक्स बहुत अच्छे है , वैसे ब्लॉग के प्रति जिस ईमानदारी से तुम काम कर रहे हो इसके लिए तुम्हें धन्यवाद ही कहूँगी।

prritiy----sneh ने कहा…

achhe links mein meri lekhni ko sthan dene ke liye abhaar.

shubhkamnayen

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार