Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

सोमवार, 15 जुलाई 2013

बेचारा रुपया - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों ,
प्रणाम !

१५ जुलाई २०१० को भारतीय रुपये को अपना प्रतीक चिन्ह मिला था ... सरकार द्वारा बताया गया कि इस प्रतीक चिन्ह से रुपये को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नई पहचान और लोकप्रिय बनाने मे मदद मिलेगी !

१५ जुलाई २०१३ फिलहाल वही सरकार इस कोशिश मे लगी है कि मौजूदा दौर मे भारतीय रुपया राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर अपनी पहचान ही न खो दे ... लोकप्रियता को तो साहब फिलहाल जाने ही देते है !

ऐसे मे केवल इतना ही कह सकते है कि बेचारा भारतीय रुपया लोकप्रियता के चक्कर मे अपनी पहचान ही खोये  जा रहा है !

सादर आपका 

============================================

कविता - उस रात

झील व बतखें

चुहुल - ५४

बात हो चाहे कितनी पुरानी कहूँ

पहचान

वो अपने हुनर मे 

मैं और मेरा उत्तराखंड

जरूर सोचना....

P.S.:- सावधान, ये कोई सेंटी पोस्ट नहीं है...

यथार्थ बोध

अब बस यादों में रह जायेगा टेलीग्राम

सतर्क और सावधान रहें !

बॉसिज्म..

क़ानून को बदला लेने का हथियार न बनाएं

गर खुदा मुझसे कहे कुछ मांग ये बन्दे मेरे मैं ये मांगू महफ़िलो के दौर यू चलते रहे

 ============================================
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

17 टिप्पणियाँ:

Tamasha-E-Zindagi ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन | जय हो

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

सुंदर लिंक्स,आभार.

रामारम.

अनाम ने कहा…

सुंदर लिंक्स,आभार.

Darshan jangra ने कहा…

सुंदर लिंक्स,आभार.

अनाम ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन

ANULATA RAJ NAIR ने कहा…

बहुत बढ़िया बुलेटिन....
आज के लिंक्स खोजने में काफी जतन किये हो लगता है....

शुक्रिया
सस्नेह
अनु

kavita verma ने कहा…

sundar links ..abhar ...

HARSHVARDHAN ने कहा…

हर बार की तरह इस बार भी लाजवाब बुलेटिन पेश की है शिवम भाई। सारे लिंक्स एक बार में ही पढ़ डाले :)

कविता रावत ने कहा…

बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति ....

के. सी. मईड़ा ने कहा…

शानदार बुलेटिन.. आदरणीय शिवम जी.. बहुत अच्छे लिंक्स ...

shikha varshney ने कहा…

बेचारा रुपिया और बेचारे हम :)
बढ़िया बुलेटिन.

आशा बिष्ट ने कहा…

अच्छे लिंक्स
शामिल करने हेतु धन्यवाद शिवम जी।।

आशा बिष्ट ने कहा…

अच्छे लिंक्स
शामिल करने हेतु धन्यवाद शिवम जी।।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बढिया लिंक्स, अच्छा बुलेटिंन

अभिमन्‍यु भारद्वाज ने कहा…

बहुत सुन्‍दर रचना आभार
नवीन लेख
How to keep laptop happy लैपटॉप को खुश कैसे रखें

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर सूत्र, अपने रपटे में फिसलता रुपया।

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार