Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 1 दिसंबर 2015

प्रतिभाओं की कमी नहीं - एक अवलोकन 2015 (१)




समय एक प्रवाह है 
चाहो न चाहो - बहा ले जाता है 
एक क्षण में आदमी कहाँ से कहाँ होता है ! 

ब्लॉग से हम जुड़े करीबन 2006 - 2007 से, आज हम 2015 के आखिरी पायदान पर हैं, इस बीच हमें फेसबुक मिला, ट्विटर से हम जुड़े, ऑरकुट खत्म हुआ  .... 
ब्लॉग बुलेटिन पर प्रतिभाओं की कमी नहीं का अवलोकन शुरू हुआ 2011 से, अभी मैं हूँ तो 2015 का अवलोकन भी प्रस्तुत है  … आगे, कुछ वर्ष होंगे अपने हाथ में, ऐसा सोचती हूँ ! 
मैं न पूर्ण हूँ, न सार  … पर कुछ पढ़ना सीखा है अपने नज़रिये से, उसी नज़रिये से अवलोकन करती हूँ, 2015 के प्रायः समापन तक की एक श्रेष्ठ रचना आपलोगों के समक्ष रखती हूँ।  इस बार इस अवलोकन में फेसबुक भी शामिल होगा, क्योंकि कई कलमकारों को मैंने वहीँ पढ़ा है  … 


अनुपम ध्यानी मेरा फोटो

स्थिर और स्थाई 



स्थिर और स्थाई में अंतर है
एक बहना नहीं जानता
एक बहा पहले निरंतर है
स्थिर और स्थाई में अंतर है

स्थिर, थिरका करता था कभी
अब पद्मासन में विलीन है
अनुभव की धारा में
बह बह के थिरकन थमी है
जिसमे आत्म्बोध की
सुनहरी परत जमी है
जिसने सूर्य की सलामी ली है
मदिरा सी जवानी जी है
जिसने भाग्य को ललकारा है
भय को जिसने डकारा है
जो आदि से है, अनंत तक
और चेतना से, अमर है
वो स्थिर है

स्थाई लंबायमन है
ना गौरव है ना शान है
जिसमे भय को ललकारने की
गर्मी नहीं है
और इस बात से पानी हो जाने की
बेशर्मी नहीं है
जो जीना नहीं जानता
जो अमरता नहीं मानता
जो मर कर भी
उस पार नहीं फांदता
जो ना बांझ है
ना उपजाऊ है
ना भाला है किसी के हाथ का
किसी के पैर का ना है खड़ाऊ
जिसने विजय का प्याला नही चखा
ना ही मूह की कभी खाई है
वो स्थाई है
स्थिर और स्थाई में अंतर है
एक बहना नहीं जानता
एक बहा पहले निरंतर है
स्थिर और स्थाई में अंतर है

4 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति । इंतजार रहेगा हर अगली कड़ी का एक नई प्रतिभा के उजास के साथ ।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

इस अवलोकन के बहाने न जाने कितनों से दोबारा परिचय होगा ... साधुवाद आपको |

Kavita Rawat ने कहा…

अनुपम ध्यानी जी की सुन्दर सार्थक प्रस्तुति हेतु आभार!

kuldeep thakur ने कहा…

सुंदर...

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार