Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 6 अप्रैल 2014

एक ही कामना




आओ एक नदी बनाते हैं आंसुओं की 
तुम भी जी भरके रो लेना 
हम भी रो लेंगे 
अंजुरी में ले आंसुओं का अर्घ्य सूर्य को देंगे 
एक ही कामना लिए - 
इस नदी में जब डूबना 
तो दर्द के भीगे अनकहे हालात को भस्म कर देना 
ताकि एक दिन यह नदी 
न्याय की तलाश में उफनती गंगा बन सके !!!


और गंगा में मिले कुछ विशेष लिंक्स =

9 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

मजाक मत करिये
मोदी के आँसू
सोनियाँ के आँसू
से कैसे मिलेंगे :)

सुंदर बुलेटिन :)

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर और पठनीय सूत्र।

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत ही सुन्दर सूत्र.. सुशील जी की बात पर ध्यान दीजिए..

रश्मि प्रभा... ने कहा…

:) सुशील जी

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

are waah mai to achanak hi pahunch gai blog bulletin men yahan pieasent surprise mila dhanyavad rashmi jee .....

आशीष भाई ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति , बुलेटिन को धन्यवाद !
Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

खारी गंगा में डूबना अच्छा लगा!!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

सार्थक बुलेटिन दीदी ... आभार |

Digvijay Agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना बुधवार 09 अप्रेल 2014 को लिंक की जाएगी...............
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार