Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 9 मई 2013

ख़्वाब

प्रणाम मित्रों,
सादर नमस्कार .....

प्रस्तुत है आज का बुलेटिन इस कविता के साथ .....

हर शब् आते रहे
बहके महके ख़्वाब
ज़हन में
तुम्हारा आवा दरफ्त
जारी रहा
बेचैन दिल में
सन्नाटे का शोर
चीख चीख कर
कहता रहा
क्यों देखता है ख़्वाब
इस नींद के खुमार में
कुछ सोच कर
जब वापस गया
तो सारे ख़्वाब
टूट चुके थे
खो गए थे
काली रात के अंधियारे में
बिस्तर की सिलवटों में
तकिये पर सर रख कर
'निर्जन' फिर से खो गया
एक नए ख़्वाब के
इंतज़ार में ....

आज की कड़ियाँ 

बड़के भईया जी इश्माईल प्लीज - शिवम् मिश्रा

झरीं नीम की पत्तियाँ - देवदत्त प्रसून

मजदूर का हितैषी ठेकेदार - सुशील

प्यार की सौंधी खुश्बू - चेतन रामकिशन "देव"

सरबजीत का बदला सनाउल्लाह से - पंकज श्रीवास्तव

फूलों के बीज - सुमन

नहीं आया जीना मुझे - महेश्वरी कनेरी

नदिया - अनीता मौर्या

गूगल ग्लास - अभिमन्यु भरद्वाज

चाँद पूर्ण रूप में - विवेक रस्तोगी

ग़ज़ल : चोरी घोटाला और काली कमाई - अरुण कुमार

अब आज्ञा दें | धन्यवाद्
तुषार राज रस्तोगी 

जय बजरंगबली महाराज | हर हर महादेव शंभू  | जय श्री राम 

7 टिप्पणियाँ:

सुशील ने कहा…

'निर्जन' फिर से खो गया
एक नए ख़्वाब के
इंतज़ार में ....

बहुत सुंदर !
आभार !

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

सुन्दर!!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन तुषार भाई ... आभार !

रश्मि प्रभा... ने कहा…

ख्वाब आते रहे ख्वाब जाते रहे
इंतज़ार चलता गया
कोई ख्वाब आये तो कोई बात बने
रुके एहसासों को सांस मिले ........................... लिंक्स बहुत अच्छे

Asha Saxena ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन तुषार जी |
आशा

Maheshwari kaneri ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन तुषार..मुझे स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद..तुषार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर सूत्र..

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार