Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 22 मई 2013

खुद को बचाएँ हीट स्ट्रोक से - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम !

मई का महीना चल रहा है। अभी जून ने दस्तक दी भी नहीं और सूरज की तपिश,जलती लू ने लोगों का जीना बेहाल कर दिया है। जिस तरह से पारा बढ़ता जा रहा है और धूप सिर चढ़कर बोल रही है, ऐसे में हीट स्ट्रोक का शिकार होना बिल्कुल स्वाभाविक है। आप गर्मी को तो रोक नहीं सकते लेकिन इससे बचने के लिए कुछ उपाय जरुर अपना सकते हैं।
 
हीट स्ट्रोक से बचने के उपाय :

-धूप में ज्यादा देर काम न करें।

-सिर पर हुड वाली टोपी पहने।

-चश्में का इस्तेमाल करें।

-धूप में निकलने से पहले संसक्रिम का इस्तेमाल किया जा सकता।

-खूब ठंडा पानी पीयें।

तपती गर्मी और गर्म हवाओं का सीधा असर हमारे स्वास्थ पर पड़ता है। वैसे तो हीट स्ट्रोक किसी को भी हो सकता है परंतु बुजुर्गो, नवजात शिशु व बच्चों तथा फेफड़ा व किडनी के मरीजों को इसका ज्यादा डर रहता है।

किसको होता है हीट स्ट्रोक

पूरा उत्तर भारत भीषण गर्मी के चपेट में है। शरीर की त्वचा को झुलसा देने वाली सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणों से बरसते आग से लोग बीमार हो रहे हैं। अस्पतालों में भी गर्मी से होने वाली बीमारियों के मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। जिसमें सन बर्न (त्वचा झुलसना) तो आम बात है। स्वास्थ्य के प्रति थोड़ी सी लापरवाही होने पर यह भीषण गर्मी हीट स्ट्रोक का शिकार भी बना सकती है। ऐसे में तेज धूप में काम करना खतरनाक साबित हो सकता है।

फिलहाल पूरे उत्तर भारत का तापमान 45 डिग्री के करीब पहुंच गया है। डॉक्टरों के अनुसार मौसम का तापमान बढ़ने पर शरीर से पसीना निकलता है ताकि शरीर का तापमान सामान्य बना रहे। परंतु, जब मौसम का तापमान अधिक बढ़ जाता है और तेज धूप में अधिक देर तक काम किया जाए तो पसीना बनना बंद होने का खतरा रहता है। इस स्थिति में शरीर का तापमान बढ़ने लगता है। शरीर जब बाहरी तापमान से तालमेल नहीं बैठा पाता है तो उसका तापमान बढ़ने लगता है।
शरीर का तापमान 40 डिग्री (104 डिग्री फारेनहाइट) होने की स्थिति में दिल व दिमाग पर असर पड़ता है और रक्तचाप घटने लगता है जो हीट स्ट्रोक का कारण बनता है। अभी जिस तरह की गर्मी पड़ रही है, उसमें हीट स्ट्रोक का खतरा सबसे ज्यादा है। हीट स्ट्रोक में कई बार मरीज की मौत भी हो जाती है।
तेज धूप में अल्ट्रावायलेट किरणों ज्यादा निकलती है। जिससे त्वचा जलने तथा चेहरा व आंखों में सूजन होने की समस्या होती है। इसलिए सूर्य की गर्मी से खुद को बचाना जरूरी है।

सादर आपका 


==================================

मैं की तलाश ............

जारी है 

माँ और बेटियाँ

जैसे सहेलियाँ 

दगाबाज तोरी बतियाँ कह दूंगी..हाय राम कह दूंगी !

किस से 

मीत के गुण्डा की गुण्डई के किस्से

सुने है आपने  

चार वर्षीय असफल यात्रा की बधाई

आप को भी 

महान और सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति

आज कल कहाँ 

नेता जी के प्रवचन !

या बोलवचन 

परबत की पीर बहे ।

जग दरिया लाख कहे

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे, पेटेंट के झगड़े, एंजलीना जॅाली और हम

हम्म 

जैसे वह मुझसे कुछ कहना चाहता है ...

पता कीजिये क्या 

इश्क-ए-हक़ीकी और उसकी नाराजगी

गज़ब 

नीलेश रघुवंशी की कवितायें

वाह

घर बैठे वेद की शिक्षा

जय हो 

क्षणिकाएं

बहुत खूब 

बैठे बैठे सूझा कुछ नया ....

सही सूझा 

स्वयं से भागते, हम लोग

आखिर कब तक 

कश्मीर : रुसी पोपलर वृक्ष का कहर...

किस पर 

मैं खोज रहा हूँ भाषा

मिले तो बताइएगा 

सीना चौड़ा कर रहे .......

चल मरदाने सीना ताने 

श्रीसंतों का कैसा हो बसंत ?

पिटाई होवे तुरंत

मन

मानता नहीं 

==================================

अब आज्ञा दीजिये ...

 जय हिन्द !!!

15 टिप्पणियाँ:

vibha rani Shrivastava ने कहा…

श्रीसंतों का कैसा हो बसंत ?
पिटाई होवे तुरंत
दो-चार हांथ मेरी तरफ से भी

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

लू से बचने के अच्छे उपाय मिले, ताजा लिंक्स की जानकारी उपयोगी, शुभकामनाएं.

रामराम.

मीनाक्षी ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन में हर बार लिंकस देने से पहले की जानकारी प्रभावित करती है..आज लू से बचने के उपाय भी बढ़िया लगे और लिंक शामिल करना भी...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सब धूप से बचें और बैठकर ब्लॉग पढ़ें।

दीपक बाबा ने कहा…

@प्रवीण पाण्डेय ने कहा…
सब धूप से बचें और बैठकर ब्लॉग पढ़ें।

हो सके तो साथ ही साथ नीम्बू की शिंकजी सिप रहे...

shikha varshney ने कहा…

सुना है भारत में गर्मी चरम पर है..ऐसे में सुकून पहुंचाता सार्थक बुलेटिन.

अभिषेक मिश्र ने कहा…

अच्छी जानकारी के साथ बेहतरीन लिंक्स को साझा करने का आभार.

Anupama Tripathi ने कहा…

सार्थक प्रयास गर्मी से बचाने का शिवम भाई ....एक तो बढ़िया जानकारी ...और दूसरा अच्छे लिंक्स से सजा बुलेटिन ...!!

Rajendra Kumar ने कहा…

लू से बचने की उपयोगी जानकारी के साथ साथ बेहतरीन लिंकों का भी चयन,सादर आभार.

Dr. Kumarendra Singh Sengar ने कहा…

गरमी से बचाव के सुझाव साधारण से किन्तु बहुत काम के हैं...इन्हें साधारण समझकर बहुत से लोग इनका पालन नहीं करते और गरमी का शिकार हो जाते हैं.
हमारी पोस्ट को यहाँ शामिल करने पर ख़ुशी हुई...आभार आपका

सदा ने कहा…

उपयोगी जानकारी के साथ ही बेहतरीन लिंक्‍स एवं प्रस्‍तुति

आभार

shashi purwar ने कहा…

WAAH UPYOGI JAANKARI ............HEAT SE BACH GAYE BLOG PADHTE .SUNDAR PRASTUTI

Abhimanyu Bhardwaj ने कहा…

बहुत सुन्‍दर और सार्थक जानकारी आभार
हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की जादूई जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य पधारें और टिप्‍पणी के रूप में मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ साथ पर अनुसरण कर अनुग्रहित करें MY BIG GUIDE

नई पोस्‍ट अपनी इन्‍टरनेट स्‍पीड को कीजिये 100 गुना गूगल फाइबर से

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

mahendra mishra ने कहा…

सार्थक चर्चा शिवम् जी ...

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार