Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 22 अप्रैल 2013

भारत की 'ह्यूमन कंप्यूटर' - शकुंतला देवी - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों ,
प्रणाम !

अपनी अद्भूत गणितीय क्षमता व ज्योतिष ज्ञान की बदौलत पूरी दुनिया में चर्चित भारतीय गणितज्ञ शकुंतला देवी का रविवार की सुबह 83 वर्ष की उम्र में यहां निधन हो गया। कुछ ही पलों में बड़ी से बड़ी संख्यात्मक गणना कर देने के विलक्षण गुण के कारण उन्हें 'ह्यूमन कंप्यूटर' के नाम से जाना जाता था।
वह गुर्दे की बीमारी से पीड़ित थीं। उनके साथ लंबे समय तक रहीं कविता मल्होत्रा ने मीडिया को बताया कि हृदय गति रुक जाने के कारण सुबह 8.15 बजे उनकी मौत हुई। उन्हें तीन अप्रैल को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी किडनी 80 फीसद कमजोर हो गई थी। उन्हें सांस लेने में भी तकलीफ थी लेकिन आइसीयू में भी उनका दिमाग पूरी तरह काम कर रहा था। वह अस्पताल से जल्दी घर जाना चाहती थीं। शकुंतला देवी की बेटी अनुपमा ने कहा, आप विश्वास करें वह अंत तक पूरी तरह ऊर्जावान थीं। उनके अंतिम संस्कार के समय उनके सैकड़ों प्रशंसक, रिश्तेदार और मित्र मौजूद थे। वह 15 साल की उम्र में पिता के साथ लंदन चली गई थीं और पिछली सदी के छठे दशक में भारत लौटीं थीं।
शकुन्तला देवी एक अजूबी गणतज्ञा थीं। आप का जन्म ४ नवम्बर १९३९ में बेंग्लूर,भारत में हुआ था।उनके पिता सर्कस मे काम करते थे। उनमे जन्म से ही गणना करने में पारंगत हासिल थी। वह ३ वर्ष की आयु से ही पत्तों का खेल अपने पिता के साथ खेलतीं थी। छ: वर्ष कि आयु मे उन्होंने अपनी गणना करने कि व स्मरण शक्ति का प्रदर्शन मैसूर विश्व्विद्दालय में किया था , जो कि उन्होने अन्नामलाइ विश्व्वविद्दालय मे आठ वर्ष की  आयु में दोहराया था। उन्होने १०१ अंको वाली संख्या का २३वाँ मूल २३ सेकेण्ड मे ज्ञात कर लिया था। उन्होने 13 अंको वाली 2 संख्याओ का गुणनफल जल्दी बता दिया था |
संगणक से तेज़ गणना करने के लिये शकुन्तला देवी का नाम ग़िनीज़ बुक ऑफ़ व्ह्रल्ड रिकॉर्डस में भी दर्ज है।

शकुंतला देवी के निधन से भारत ने अपना एक और जीनियस खो दिया ! 

पूरे हिन्दी ब्लॉग जगत और पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से हम सभी स्व॰ शकुंतला देवी को शत शत नमन करते है !


सादर आपका 
=========================

सजा कैसा हो ?

फ़िज़ूल है मन की बात कह देना

पेशावर विद्रोह की वर्षगांठ (23 अप्रैल:) पर विशेष

किताबों की दुनिया - 81

येहूदा आमिखाई : यही फ़ितरत होती है दिल की

बादशाहत ...

पुराने नियम बदल डालो !!!!!!

माँ,बहन,बीवी,बेटी

रुनझुन -रुनझुन

बात एक अनकही सी

हम ऐसा क्यों नहीं कर सकते ?

 =========================
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

22 टिप्पणियाँ:

निवेदिता श्रीवास्तव ने कहा…

कुछ रचनाये पढ़ आये ,बहुत अच्छे सूत्र संजोये हैं ......

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

शकुंतला जी को विनम्र नमन

बढ़िया लिनक्स आभार...

shikha varshney ने कहा…

अच्छे लिनक्स हैं.

vibha rani Shrivastava ने कहा…

स्व॰ शकुंतला देवी को शत शत नमन ......

jyoti khare ने कहा…

उन्हें नमन
श्रधा सुमन अर्पित

शालिनी कौशिक ने कहा…

shakuntala ji ke bare me sundar sarthak jankari dee hai aapne . आभार जिम्मेदारी से न भाग-जाग जनता जाग" .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MANजाने संविधान में कैसे है संपत्ति का अधिकार-2

अरुणा ने कहा…

शिवम् शर्मा जी सर्व प्रथम आपका आभार आपने मेरी रचना को इस योग्य समझा ...............कुछ फूल और कुछ शूल के साथ बहुत अच्छा गुलदस्ता बना है ....... ..पहली बार आई हूँ यहाँ .बहुत अच्छा लगा ................

अरुणा ने कहा…

स्व॰ शकुंतला देवी जी को मेरा भी शत शत नमन ...

Sadhana Vaid ने कहा…

शकुंतला देवी को भावभीनी श्रद्धांजलि ! उनके निधन से भारत ने वास्तव में अपना एक बहुमूल्य रत्न खो दिया है ! मेरे सुझावों को मुखर होने के लिये आपने यहाँ एक मंच दिया आभारी हूँ ! अन्य सभी लिंक्स भी बहुत अच्छे हैं !

Anupama Tripathi ने कहा…

हमेशा की तरह सार्थक बुलेटिन ..!!
शकुंतला देवी जैसी अद्भुत प्रतिभा को मेरा नमन ....!!

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

शकुंतला देवी जैसी विलक्षण प्रतिभा को नमन !!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

@अरुणा जी ,
ज़रा गौर करें ... शिवम शर्मा नहीं शिवम मिश्रा ... :)

सदा ने कहा…

स्‍व. शकुंतला जी को सादर नमन ....
अनुपम लिंक्‍स संयोजित किये हैं आपने ... आभार

Maheshwari kaneri ने कहा…

विलक्षण प्रतिभाशाली शकुंतला देवी जी को नमन बहुत सुन्दर लिंक्‍स संयोजित किये हैं शिवम जी..

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

Ashok Khachar ने कहा…

श्रधा सुमन अर्पित

मनोज पटेल ने कहा…

आभार शिवम जी!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मानव कम्प्यूटर को नमन..सुन्दर सूत्र..

shashi purwar ने कहा…

आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ...सादर।

उदय - uday ने कहा…

shrddhaanjali ... saarthak post ...

कविता रावत ने कहा…

स्व॰ शकुंतला देवी जी को हमारा शत शत नमन ..
बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार ...

अरुणा ने कहा…

@अरुणा जी ,
ज़रा गौर करें ... शिवम शर्मा नहीं शिवम मिश्रा ... :)



क्षमा कीजिये शिवम् मिश्रा जी ...........

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार