Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 19 अप्रैल 2012

इस ब्लॉग बुलेटिन से दिमाग का दही नहीं होगा ... ना मानो तो पढ़ लो ...

प्रिय ब्लॉगर मित्रो ,
प्रणाम !

हमारे खानपान में कई ऐसी चीजें शामिल होती हैं, जिनमें खूबसूरती और स्वास्थ्य का अनमोल खजाना छुपा होता है। इनमें एक है दही। दही में दूध की अपेक्षा कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है। इसके अलावा इसमें प्रोटीन, लैक्टोज, आयरन, फास्फोरस आदि पाया जाता है, इसलिए दही को अधिक पोषक माना जाता है।

अन्य गुण

- आयुर्वेद में बताया गया है कि रात को दही नहीं खाना चाहिए। हमेशा ताजे दही का इस्तेमाल करना चाहिए।
- चेहरे पर दही लगाने से त्वचा मुलायम होने के साथ उसमें निखार भी आता है। अगर दही से चेहरे की मसाज की जाए तो यह ब्लीच के जैसा काम करता है। इसका प्रयोग बालों में कंडीशनर के तौर पर भी किया जाता है।
- गर्मियों में त्वचा पर सनबर्न हो जाने पर दही मलने से राहत मिलती है।
- दही का सेवन करने से पाचन दुरुस्त रहता है और प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत होता है।
- दही में कैल्शियम के चलते हड्डियां और दांत मजबूत होते हैं। यह ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारी से लड़ने में भी मददगार है।
- हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों को रोजाना दही का सेवन करना चाहिए।
- दही में अजवायन डालकर खाने से कब्ज दूर होता है।
- दही में बेसन मिलाकर लगाने से त्वचा में निखार आता है। मुंहासे दूर होते हैं।
- दही को आटे के चोकर में मिलाकर लगाने से त्वचा को पोषण मिलता है और त्वचा कातिमय बनती है।
- सिर में रूसी होने पर भी दही फायदेमंद होता है। ये रूसी को हटाकर बालों को मुलायम बनाता है। 

वैसे गर्मी में तो सब से ज्यादा लस्सी के काम आता है दही ... है कि नहीं ... तो फिर असी तुसी पीसी लस्सी और पढ़इंग ब्लॉग बुलेटिन !

सादर आपका 


---------------------------------------------------------------------------- 

आज सिर्फ हेडलाइन्स :-
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
----------------------------------------------------------------------------

अब आज्ञा दीजिये ...
 
जय हिंद !!
     

16 टिप्पणियाँ:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

कल जरा दही के साथ दिन बिताते हैं ... अभी लिंक्स के साथ

मनोज कुमार ने कहा…

रश्मि जी की टिप्पणी मज़ेदार है। मुझे चुराने का मन कर गया। मैं भी वही कहता हूं , यानी ..
कल जरा दही के साथ दिन बिताते हैं ... अभी लिंक्स के साथ

अजय कुमार झा ने कहा…

वाह वाह मौसम के अनुकूल एकदम वैद्य जी की सलाह वाला बुलेटिन और तिस पर सुंदर लिंक्स ......सोने पे सुहागा है जी मिसर जी

dheerendra ने कहा…

भाई मै तो रोज दही का सेवन करता हूँ
ब्लॉग बुलेटिन की सुन्दर प्रस्तुति,

MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

Vibha Rani Shrivastava ने कहा…

मिथिलांचल की मिट्टी और दही का चर्चा न हो असंभव असंभव और बस असंभव ..... बुरा नेय न आखिन अप्रिल ......

मैनपुरी के रसिक लोग कल रात भर रचना का आनन्द लेंगे, अपन भी जा रहे हैं नयी नयी रचनाओं के साथ....

पर बाकी .... बादे(बाद)में ....

वाणी गीत ने कहा…

इस गर्मी में दही और अच्छे लिंक्स का घालमेल बढ़िया लगा !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

कई नये सूत्र पढ़ने हैं।

संध्या शर्मा ने कहा…

दही के गुणगान के साथ बढ़िया लिंक... वाह

वन्दना ने कहा…

दहीमय ब्लोग बुलेटिन की जय हो ………सुन्दर लिंक्स:)

सदा ने कहा…

बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स का चयन किया है आपने ...आभार ।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

दही कभी भी मेरा पसंदीदा भोज्य पदार्थ नहीं रहा.. मगर मेरी बिटिया को बहुत रुचता है.. अब उसकी पसंद - मेरी पसंद!! आपसे जब 'स्वास्थ्य' के बारे में बताते हैं तो विश्वास करना ही पड़ता है..!! :)

Shah Nawaz ने कहा…

अरे वाह! दही में इतने गुण होने हैं!!!!

shikha varshney ने कहा…

दही से अच्छा कुछ नहीं ..हम भी पहले रश्मि जी की ..फिर मनोज जी की चुराई हुई टिप्पणी उधार लेते हैं..:)

rashmi ravija ने कहा…

बढ़िया लिंक्स के साथ इतनी सारी जानकारी भी..शुक्रिया

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

पोस्ट भी अच्छी है और आपका दावा भी सच्चा है कि
‘इस पोस्ट से दिमाग़ का दही नहीं बनेगा‘

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार