Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 16 अप्रैल 2012

चुनिन्दा पोस्टें है जनाब ... दावा है बदहजमी के शिकार नहीं होंगे आप - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रो ,
प्रणाम !

क्या आप बदहजमी से परेशान है ? अगर आपका जवाब हाँ मे है तो आगे पढ़ते जाइए ... नहीं तो सीधे नीचे जा कर आज की ब्लॉग बुलेटिन का जाएजा लीजिये !

बदहजमी की तमाम वजहें हो सकती हैं ... मसलन भूख से ज्यादा खाना, खाने को सही तरीके से नहीं चबाना, नींद पूरी न होना, खाना सही तरह से पका न होना या फिर एक्सरसाइज न करना। इसके अलावा तेज मसालेदार भोजन और जीवनशैली में बदलाव के कारण भी पाचन की समस्या पैदा हो सकती है। बदहजमी होने पर इन घरेलू नुस्खों को आजमाएं :
-एक चम्मच अजवाइन के साथ नमक मिलाकर खाने से बदहजमी से तुरंत छुटकारा मिलता है।
-एक गिलास पानी में पुदीने के रस की दो-तीन बूंदें डालकर हर तीन-चार घंटे के अंतराल पर पीएं।
-एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच नींबू, अदरक का रस और दो छोटे चम्मच शहद भी मिला लें। इसे पीने से पाचन संबंधी परेशानी दूर होगी।
-अगर एसिडिटी से परेशान हैं, तो एक गिलास पानी में नींबू निचोड़कर पीएं।
-अगर चाय पीना नहीं छोड़ सकते, तो हर्बल टी का प्रयोग करना शुरू कर दें।
-कॉफी, अल्कोहल और धूम्रपान से बचें। इनसे भी पाचन खराब होने की आशंका होती है।
-अधिक टाइट कपड़े और जींस न पहनें।
-डिनर सोने से कम से कम दो-तीन घंटे पहले कर लें।
- एक चम्मच धनिए के भुने हुए बीज को एक गिलास छाछ में मिलाकर पीएं।
-खाने के बाद एक चम्मच सौंफ अवश्य चबाएं।
-अगर आपके मुंह का जायका खराब हो रहा है तो अदरक के टुकड़े में काला नमक लगाकर खाएं।
-अपने भोजन में रेशेदार फल-सब्जियों को शामिल करें। मैदा से बनी चीजों का सेवन न करें।

उम्मीद है इन घरेलू नुस्खों से आप लाभ उठाएंगे !

सादर आपका

शिवम मिश्रा

---------------------------------------------------------------------------- 

*आजकल जादू की स्‍कूल की summer vacations हो गयी हैं। * *जादू आज सुबह जब उठा तो उसने फिर कहा कि एक दिन उसके स्‍कूल में ऋतिक रोशन आया था। थोड़े दिन पहले जब उसने ये बात पहली बार कही थी तो पापा ने टीचर से प...

posted by "रुनझुन" at रुनझुन 
हेलो फ्रेंड्स! पिछले कुछ दिनों से मैं आप सबसे सिर्फ़ अपनी घूमने की ही बातें की जा रही हूँ.... आप सब सोच रहे होंगे कि मैं सिर्फ़ घूमती ही रहती हूँ..लेकिन ऐसी बात नहीं है... मैं घूमने के साथ-साथ पढ़ने-लिखन...

posted by नीरज गोस्वामी at नीरज 
बात जयपुर की है. सन 1980-90 की. हमारे घर में बरसों से चले आ रहे जयपुर के एक प्रसिद्द समाचार पत्र के साथ साथ हमने 'नव भारत टाइम्स'' जो जयपुर से तब प्रकाशित होना शुरू हुआ था को दो कारणों से मंगवाना शुरू कर ...

posted by अमित श्रीवास्तव at "बस यूँ ही " .......अमित 
'त्वचा' ही एकमात्र ऐसी इन्द्रिय है जो मनुष्य का साथ मृत्यु तक देती है । 'आँख' ,'कान','जिह्वा' और 'नाक' तो अपने दायित्वों में असफल हो सकते हैं परन्तु 'त्वचा' जो एक प्रकार से मनुष्य का प्राकृतिक आवरण भी है...

posted by यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) at जो मेरा मन कहे
सरे आम पिटते देखा उसे मालिक के हाथों चाय की दुकान पर क़ुसूर सिर्फ इतना था उन मासूम हाथों से गरम चाय छलक गयी थी साहब के जूतों पर और मैं चाह कर भी बना रहा कायर क्योंकि उसकी नौकरी बचानी थी उसे घर जाकर माँ के ह...

posted by रवीन्द्र प्रभात at ब्लॉग परिक्रमा
विश्व में बोली जाने वाली अनेक भाषाओं में इंटरनेट के माध्यम से अभिव्यक्ति की बात की जाये तो एक ही शब्द जेहन में आता है और वह है ब्लॉग। इस शब्द को 1999 में पीटर मरहेल्ज नाम के शख्स ने ईजाद किया था। सबसे पहले...

posted by RITU at कलमदान
*हवा में उड़ने को जी करता है* *कभी पाँव रोकते हैं कभी ख्वाब रोकते हैं* *तस्सलिबक्ष जीवन में क्यों हम **आसमां **टटोलते हैं* * * *दरख़्त कांटो के कितने हमने सींचे* *सख्त बबूल पे पलाश देख हम क्यों रीझे* *फिर...

posted by सुमित प्रताप सिंह Sumit Pratap Singh at सुमित प्रताप सिंह 
प्यारे गूगल बाबा सादर खोजस्ते! आपके खोजूपन को नमन करते हुए पत्र प्रारंभ करता हूँ. वैसे आपके मन में यह उधेड़बुन चल रही होगी कि मैं तो आपसे रोज ही तो मिलता हूँ फिर भला यह पत्र लिखने की जरूरत कै...

posted by चला बिहारी ब्लॉगर बनने at चला बिहारी ब्लॉगर बनने 
*“वह, जो शेष है!”* *श्री राजेश उत्साही* की कविताओं का प्रथम संकलन है. *ज्योतिपर्ब प्रकाशन* द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक मेला – २०१२ में प्रगति मैदान, नई दिल्ली में हुआ. इस कवि...

*स्वरगोष्ठी – ६६ में आज* उस्ताद अली अकबर खाँ के सरोद में गूँजता राग मारवा *नौ वर्ष की आयु में उन्होने सरोद वाद्य को अपना मुख्य लक्ष्य बनाया और साधनारत हो गए। एक दिन अली अकबर बिना किसी को कुछ बताए मुम्ब...

स्टेशन से बाहर आने के बाद का नज़ारा लो जी हम भी घूम ही आए इस बार ईस्टर की छुट्टियों में स्कॉटलैंड, वैसे स्वर्ग क्या होता है यह तो स्वर्गवासी ही जाने .... मज़ाक था यदि किसी को बुरा लगा हो तो क्षमाप्रार्थी...

posted by केवल राम : at चलते -चलते...!
गतांक से आगे .......! व्यक्ति पर केन्द्रित होती राजनीति और उसके निर्णय को सर्वोपरि मानने जैसी प्रवृतियों ने हमारे सामने बड़ी विकट स्थिति पैदा की है . कुछ सत्ता के अभिलाषी लोग ऐसे लोगों को आश्रय देकर अपना स...

posted by डॉ टी एस दराल at अंतर्मंथन
श्री अरविन्द मिश्र जी की एक पोस्ट पर टिप्पणी देते हुए हमने लिखा था-- मंगल पर मंगल मनाने में तो पांच सौ साल लग जायेंगे। क्यों न अभी जंगल में ही मंगल मनाया जाए । १३ अप्रैल को हमारी शादी की २८ वीं वर्षगांठ के...

posted by Atul Shrivastava at अंदाज ए मेरा
भास्‍कर भूमि। मेरे नए अखबार का विमोचन शनिवार को हुआ। अखबार का विमोचन किया नक्‍सल घटनाओं में शहीद हुए जवानों के छोटे-छोटे बच्‍चों, बुजुर्ग मां-पिताओं और पत्नियों ने। इसके इंटरनेट संस्‍करण पर अभी काम चल रह...

posted by शिवम् मिश्रा at हर तस्वीर कुछ कहती है ...
आइए हम सब अटल जी शीघ्र स्वस्थ लाभ के लिए दुआ करें !

----------------------------------------------------------------------------

अब आज्ञा दीजिये ...
 
जय हिंद !!

21 टिप्पणियाँ:

मनोज कुमार ने कहा…

चुनिंदा लिंक्स! बेहतरीन बुलेटिन!!

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

बेहतरीन चुनाव... ज़बरदस्त प्रस्तुति.. आभार मेरी पोस्ट को शामिल करने का!!

RITU ने कहा…

सुन्दर संयोजन..
कलमदान को स्थान देने के लिए धन्यवाद..

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बहुत बहुत धन्यवाद भैया मेरी पोस्ट को यहाँ शामिल करने के लिए।

सादर

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

बढ़िया नुस्खे। बढ़िया लिंक।

रश्मि प्रभा... ने कहा…

बेहतरीन लिंक्स

Anupama Tripathi ने कहा…

bahut badhia buletin

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

यह तो जलन नहीं, शीतल फुहार है।

सुमित प्रताप सिंह ने कहा…

बदहजमी से बचने का एक और उपाय है हमारी तरह कसरत के बाद ताज़ा नारियल का पानी और उसकी मलाई प्रयोग करें...
बाकी इन लिंकों से बदहजमी का तो सवाल ही नहीं है, बल्कि हाजमा ठीक हो जाएगा... :)

Kulwant Happy "Unique Man" ने कहा…

achha bahut achha

रवीन्द्र प्रभात ने कहा…

बेहतरीन चुनाव... सुन्दर संयोजन.

यादें....ashok saluja . ने कहा…

शिवम जी,
बहुत-नहुत आभार!

वन्दना ने कहा…

बहुत बढिया लिंक संयोजन्।

"रुनझुन" ने कहा…

अंकल, मेरी पोस्ट को यहाँ शामिल करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !!!

"रुनझुन" ने कहा…

अंकल, मेरी पोस्ट को यहाँ शामिल करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !!!

shikha varshney ने कहा…

बहुत अच्छे लिंक्स मिले. बिलकुल बदहजमी नहीं हुई.

सुनीता शानू ने कहा…

चुनचुन कर सजायें है लिंक्स गुलदस्ते में। बेहतरीन चुनाव।

डॉ टी एस दराल ने कहा…

चुनिन्दा लिंक्स बढ़िया हैं . आभार .

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

शिवम् बहुत अच्छी तरह से प्रस्तुत किया है बुलेटिन और इससे बहुत सारे अच्छे अच्छे लिनक्स भी मिले .
अटल जी के लिए हम कामना करते हें कि वे स्वस्थ रहें और चिरायु हों. वो स्तम्भ जो अकेले हिम्मत रखता था कि एक दल उसके नाम पर चले और अपने देश के शेष्ठ प्रतिनिधि के रूप में जिसे विपक्षी सत्ता ने स्वीकार कर आगे किया . ऐसे देश के कर्णधार बार बार पैदा नहीं होते.

नीरज गोस्वामी ने कहा…

इन बेहतरीन चुनिन्दा पोस्ट्स में खाकसार की पोस्ट का चयन बाइसे फक्र है... बहुत बहुत शुक्रिया...इनायत बनाये रखें...

नीरज

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार