Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 3 जुलाई 2016

भारतीय सेना के दो महानायकों को समर्पित ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |




पहले महानायक हैं ...


अमर शहीद ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान,महावीर चक्र विजेता (मरणोपरांत)


ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान (जन्म:15 जुलाई 1912 आज़मगढ़ – मृत्यु: 3 जुलाई 1948) भारतीय सेना के एक उच्च अधिकारी थे जो भारत और पाकिस्तान के प्रथम युद्ध (1947-48) में शहीद हो गये। उस्मान 'नौशेरा के शेर के' रूप में ज्यादा जाने जाते हैं। वह भारतीय सेना के सर्वाधिक प्रतिष्ठित और साहसी सैनिकों में से एक थे, जिन्होंने जम्मू में नौशेरा के समीप झांगर में मातृभूमि की रक्षा करते हुए अपने प्राण गंवा दिए थे। मरणोपरांत उन्हें महावीर चक्र से सम्मानित किया गया।  

 

आज नौशेरा के शेर - ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान की ६८ वीं पुण्यतिथि पर हम सब उनको शत शत नमन करते है |

 

और दूसरे महानायक हैं ...
 

अमर शहीद कैप्टन मनोज कुमार पाण्डे,परमवीर चक्र विजेता (मरणोपरांत) 
कैप्टन मनोज कुमार पाण्डे, (२५/०६/१९७५ - ०३/०७/१९९९) भारतीय सेना की १/११ गोरखा राइफल्स के अधिकारी थे ... १९९९ के कारगिल युद्ध के दौरान उनके अदम्य साहस और वीरतापूर्ण रण कौशल के लिए उन्हें परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था | यह सम्मान उन्हें मरणोपरांत पदान किया गया था |
आज परमवीर अमर शहीद कैप्टन मनोज कुमार पाण्डे की १७ वीं पुण्यतिथि के अवसर पर हम सब उनको शत शत नमन करते है |
सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

कोई तीर घाट, कोई मीर घाट

और मित्र ने मुझे ब्लॉक कर दिया !

गली के उस मोड़ पर......!!!

बाज़ार में।

सो जा बिटिया रानी .

पार्थ फ़िर गाँडीव में टंकार को पैदा करो.

मनु भाई मोटर चली पम पम पम |

भारत पाक सुचेतगढ़ सीमा दर्शन -- एक विशिष्ठ अनुभूति।

कर्मानुसार फलप्राप्ति

आज के नेता

३ जुलाई - भारतीय सेना के दो महानायकों की पुण्यतिथि

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ... 

जय हिन्द !!!

जय हिन्द की सेना !!! 

11 टिप्पणियाँ:

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

महानायकों को शत शत नमन.

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

शहीदों को नमन । सुन्दर बुलेटिन ।

sadhana vaid ने कहा…

आज के बुलेटिन में मेरी प्रस्तुति 'आज के नेता' को सम्मिलित करने के लिये आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार शिवम जी !

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

शहीदों को सादर नमन।

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

शहीदों को सादर नमन।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!
दोनों अमर वीर शहीदों को सादर नमन।

Choudhary Anuragdhetarwal ने कहा…

उनके बलिदान को बयान करने के लिए हर शब्द बौना परतीत होता है।

Sampat Kumari ने कहा…

हम अपने घरों में चैन से सोते हैं क्योंकि वो वहां जान हथेली पर लिए बैठे हैं।

HARSHVARDHAN ने कहा…

अमर शहीदों को शत शत नमन।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

M. Rangraj Iyengar ने कहा…

आभार,ॉ
मेरी रचना को स्थान दिया,
सादर ,
अयंगर.

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार