Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शुक्रवार, 3 मार्च 2017

जमशेद जी टाटा और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।
जमशेदजी नुसीरवानजी टाटा (अंग्रेज़ी: Jamsetji Tata, जन्म- 3 मार्च, 1839, गुजरात; मृत्यु- 19 मई, 1904, जर्मनी) भारत के विश्व प्रसिद्ध औद्योगिक घराने "टाटा समूह" के संस्थापक थे। भारतीय औद्योगिक क्षेत्र में जमशेदजी ने जो योगदान दिया, वह असाधारण और बहुत ही महत्त्वपूर्ण माना जाता है। उन्होंने भारतीय औद्योगिक विकास का मार्ग ऐसे समय में प्रशस्त किया था, जब उस दिशा में केवल यूरोपीय, विशेष रूप से अंग्रेज़ ही कुशल समझे जाते थे। इंग्लैण्ड की अपनी प्रथम यात्रा से लौटकर जमशेदजी टाटा ने चिंचपोकली की एक तेल मिल को कताई-बुनाई मिल में परिवर्तित करके औद्योगिक जीवन का सूत्रपात किया था। टाटा साम्राज्य के जनक जमशेदजी द्वारा किए गये अनेक कार्य आज भी लोगों को प्रेरित एवं विस्मित करते हैं। भविष्य को भाँपने की अपनी अद्भुत क्षमता के बल पर ही उन्होंने एक स्वनिर्भर औद्योगिक भारत का सपना देखा था। उन्होंने वैज्ञानिक एवं तकनीकी शिक्षा के लिए बेहतरीन सुविधाएँ उपलब्ध करायीं और राष्ट्र को महाशक्ति बनने के मार्ग पर अग्रसर किया।




आज भारत के महान उद्यमी और टाटा समूह के संस्थापक जमशेद जी टाटा जी के 178वें जन्मदिवस पर हमारी ब्लॉग बुलेटिन टीम और हिंदी ब्लॉग जगत उनके अतुलनीय कार्यों और योगदान को स्मरण करते हुए उन्हें शत शत नमन करते हैं। सादर।।


अब चलते हैं आज की बुलेटिन की ओर ...  















आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।।

8 टिप्पणियाँ:

Madabhushi Rangraj Iyengar ने कहा…

हर्षवर्धन जी, आप इसी तरह हमारा हर्ष- वर्धन करते रहेंगे ऐसी कामना के साथ सहृदय धन्यवाद व आभार व्यक्त करता हूँ. कि आपने इतनी सुंदर कड़ियों के बीज मेरी रचना को स्थान दिया.
बहुत बहुत आभार.

अयंगर

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति हर्षवर्धन।

Madabhushi Rangraj Iyengar ने कहा…

हर्षवर्धन जी, आप इसी तरह हमारा हर्ष- वर्धन करते रहेंगे ऐसी कामना के साथ सहृदय धन्यवाद व आभार व्यक्त करता हूँ. कि आपने इतनी सुंदर कड़ियों के बीज मेरी रचना को स्थान दिया.
बहुत बहुत आभार.

अयंगर

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

हर्षवर्धन जी, आभार

Anita ने कहा…

जमशेदजी टाटा के सपनों का भारत आज हमारे सम्मुख है और भारतवासी सदा ही उनके अतुलनीय योगदान को याद करते रहेंगे. सुंदर प्रस्तुतिकरण के लिए बधाई !

RAKESH KUMAR SRIVASTAVA 'RAHI' ने कहा…

सुंदर लिंकों एवं देश चिंतन की लेखों से सजी आपकी ब्लॉग बुलेटिन हर्षवर्धन जी। जमशेद जी को मेरा नमन।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति

Asha Lata Saxena ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन में मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार