Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 18 जनवरी 2017

डॉ. हरिवंश राय 'बच्चन' और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।।
हरिवंश राय बच्चन ( जन्म: 27 नवंबर, 1907 - मृत्यु: 18 जनवरी, 2003) हिन्दी भाषा के प्रसिद्ध कवि और लेखक थे। इनकी प्रसिद्धि इनकी कृति 'मधुशाला' के लिये अधिक है। हरिवंश राय बच्चन के पुत्र अमिताभ बच्चन भारतीय सिनेमा जगत के प्रसिद्ध सितारे हैं।
27 नवंबर, 1907 को इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश में जन्मे हरिवंश राय बच्चन हिन्दू कायस्थ परिवार से संबंध रखते हैं। यह 'प्रताप नारायण श्रीवास्तव' और 'सरस्वती देवी' के बड़े पुत्र थे। इनको बाल्यकाल में 'बच्चन' कहा जाता था जिसका शाब्दिक अर्थ 'बच्चा या संतान' होता है। बाद में हरिवंश राय बच्चन इसी नाम से मशहूर हुए। 1926 में 19 वर्ष की उम्र में उनका विवाह 'श्यामा बच्चन' से हुआ जो उस समय 14 वर्ष की थी। लेकिन 1936 में श्यामा की टी.बी के कारण मृत्यु हो गई। पाँच साल बाद 1941 में बच्चन ने पंजाब की तेजी सूरी से विवाह किया जो रंगमंच तथा गायन से जुड़ी हुई थीं। इसी समय उन्होंने 'नीड़ का पुनर्निर्माण' जैसे कविताओं की रचना की। तेजी बच्चन से अमिताभ तथा अजिताभ दो पुत्र हुए। अमिताभ बच्चन एक प्रसिद्ध अभिनेता हैं। तेजी बच्चन ने हरिवंश राय बच्चन द्वारा 'शेक्सपीयर' के अनुदित कई नाटकों में अभिनय किया है।

( साभार : http://bharatdiscovery.org/india/हरिवंश_राय_बच्चन )



आज महान कवि स्वर्गीय डॉ. हरिवंश राय 'बच्चन' जी की 14वीं पुण्यतिथि पर पूरा हिन्दी ब्लॉग जगत और हमारी बुलेटिन टीम उन्हें शत शत नमन करते है।


अब चलते हैं आज की बुलेटिन की ओर...


उनके ऊंट की पूंछ पर लटकता था ब्रिटिश आर्मी का झन्डा

बोल-बोल सकारात्मक बोल!

धूर्त लोगों का भला सोच समझ कर करें

गांव तुम्हारा - शहर हमारा...

राहुल गांधी और अखिलेश साथ साथ

इस कड़ाके की सर्दी में...

विकास ज़ोरों -शोरों पर

बंकर बस्ती - निदा नवाज़ की कविता

समानता

हिरण ने लिखा सलमान को पत्र, कहा "भाई थैंक यू वैरी मच"


आज की ब्लॉग बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।।

4 टिप्पणियाँ:

kuldeep thakur ने कहा…

शुभ प्रभात आप सभी को आनंद आ गया आज की प्रस्तुति पढ़कर मेरी रचना को इस मंच पर स्थान दिया गया बहुत बहुत आभार आपका

kuldeep thakur ने कहा…

शुभ प्रभात आप सभी को आनंद आ गया आज की प्रस्तुति पढ़कर मेरी रचना को इस मंच पर स्थान दिया गया बहुत बहुत आभार आपका

Sushil Bakliwal ने कहा…

सुप्रभात...! आभार आपका मेरी पोस्ट गांव तुम्हारा... को अपनी चुनिंदा प्रस्तुतियों में स्थान देने के लिये । पुनः धन्यवाद सहित...

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

मेरे प्रिय कवि को उनकी पुण्य-तिथि पर सादर नमन!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार