Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 5 जनवरी 2017

प्रकाश पर्व की शुभकामनाओं सहित ब्लॉग बुलेटिन

नमस्कार मित्रो,
आज, 5 जनवरी 2017 को देश सिखों के दसवें गुरु गुरु गोबिंद सिंह जी का 350वीं जयंती को प्रकाश पर्व के रूप में मना रहा है. निर्भीक, साहसी गुणों से संपन्न श्री गुरु गोबिंद सिंहजी का जन्म संवत् 1723 विक्रम की पौष सुदी सप्तमी अर्थात 22 दिसम्बर सन् 1666 को हुआ था. उनके पिता नौवें सिख गुरु गुरु तेगबहादुर और माता गुजरी थी. उस समय देश में औरंगजेब के अत्याचार चरम पर थे. हिन्दुओं पर जजिया कर लगाने के साथ ही उनको शस्त्र धारण करने पर भी प्रतिबन्ध लगाया गया. उनको जबरन इस्लाम ग्रहण करवाया जाता था. ऐसे में एक दिन बालक गोबिंद ने सहज एवं साहसी भाव से इस्लाम धर्म स्वीकार न करने की बात अपने पिता से कही. बालक के इन वचनों को सुनकर गुरु तेगबहादुर का हृदय गदगद हो गया. उन्होंने औरंगजेब तक इस्लाम ग्रहण न करने का सन्देश भिजवाया. 


सन 1675 को कश्मीरी पंडितों की फरियाद सुनकर गुरु तेगबहादुर जी ने दिल्ली के चाँदनी चौक में बलिदान दिया. उस समय गुरु गोबिंद सिंह की आयु मात्र नौ वर्ष थी. अपने पिता के बलिदान के पश्चात् गुरु गोबिंद सिंह जी 11 नवंबर 1675 को दसवें गुरु के रूप में गद्दी पर विराजमान हुए. उन्होंने गुरु पद को अपने व्यक्तित्व व कृतित्व से गौरवान्वित किया. जनता में डर और गिरता मनोबल देखकर उन्होंने एक ऐसे पंथ का सृजन करने का संकल्प लिया जो समूचे विश्व में विलक्षण हो. जिसके शिष्य संसार के हजारों-लाखों लोगों में भी पहली नजर में ही पहचाने जा सकें. वे केवल बाहर से अलग न दिखें बल्कि आंतरिक रूप में भी ऊँचे और सच्चे विचारों वाले हों. इसी संकल्प के साथ उन्होंने सन 1699 में बैसाखी के दिन खालसा पंथ का निर्माण किया. उन्होंने खालसा पंथ के लिए शब्द के महत्व को समझाते हुए सिख धर्म के लिए पाँच केश, कड़ा, कंघा, कच्छा और कटार निर्धारित किये. ये शौर्य, शुचिता तथा अन्याय के विरुद्ध संघर्ष के संकल्प के प्रतीक माने गए. गुरु गोबिंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना कर सिंह उपनाम लगाने की परम्परा शुरु की. इसके साथ ही वाहे गुरुजी का खालसा, वाहे गुरुजी की फतेह नारा भी लगाया था. यह नारा आज सिख धर्म का प्रसिद्ध नारा है. गुरु गोबिंद सिंहजी एक साहसी योद्धा के साथ-साथ एक अच्छे कवि भी थे. इन्होंने बेअंत वाणी के नाम से एक काव्य ग्रंथ की रचना की.
उनको ब्लॉग बुलेटिन परिवार की ओर से विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए प्रस्तुत है आज की बुलेटिन.

++++++++++














9 टिप्पणियाँ:

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

सवा लाख पर एक चढाऊँ... पटना के पावन इतिहास का एक यह अध्याय भी है, पटना साहिब में गुरु गोबिंद सिंह जी का जन्मस्थान! आज ३३५० वें प्रकाश पर्व पर बहुत बहुत बधाइयाँ!!

सुशील कुमार जोशी ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
सुशील कुमार जोशी ने कहा…

३५० वें प्रकाश पर्व की सभी को बधाई और शुभकामनाएं । सुन्दर बुलेटिन ले कर आये हैंं राजा साहब आज ।

Udan Tashtari ने कहा…

३५० वें प्रकाश पर्व की सभी को बधाई और शुभकामनाएं..आभर स्थान देने के लिए

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुंदर बुलेटिन.३५० वें प्रकाश पर्व की सभी को बधाई और शुभकामनाएं
मुझे भी इस बुलेटिन का हिस्सा बनाने के लिए आभार.

Sushil Bakliwal ने कहा…

प्रकाश पर्व की सभी को बधाईयां व शुभकामनाएँ...
हँसते-ङँसते को भी इस विशेष बुलेटिन में शामिल करने हेतु आभार...

Kavita Rawat ने कहा…

प्रकाश पर्व पर अच्छी सामयिक लेखन-सह-बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!
प्रकाश पर्व की लख लख बधाइयाँ h

anshumala ने कहा…

प्रकाश पर्व की शुभकामनाएं !
मेरा ब्लॉग शामिल करने के लिए धन्यवाद ।

साहित्य - शिल्पी ने कहा…

प्रकाश पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं....

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार