Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 17 सितंबर 2013

एम. एफ. हुसैन, अनंत पई और ब्लॉग बुलेटिन

सभी चिठ्ठाकार मित्रों को सादर नमस्ते।। अपनी तीन दिवसीय यात्रा से कल ही लौटा हूँ, इसलिए ब्लॉगजगत से थोड़ा दूर था। इस बुलेटिन से ब्लॉगजगत में वापसी कर रहा हूँ।  आभार।।


मकबूल फ़िदा हुसैन भारत के जाने - माने चित्रकार थे। इनका जन्म 17 सितम्बर, सन 1915 ई. में मुंबई (महाराष्ट्र) में हुआ था। ये एम. एफ. हुसैन के नाम से ज्यादा प्रसिद्ध हुए थे। ये भारत के सबसे मशहूर चित्रकारों में से एक हैं। क्रिस्टीज़ ऑक्शन में उनके द्वारा बनाई गई एक पेंटिंग 20 लाख अमेरिकी डॉलर में बिकी थी, इसी के साथ वो भारत के सबसे महंगे चित्रकार बन गए थे। उनकी एक और पेंटिंग 2008 में लगभग 16 लाख अमेरिकी डॉलर में बिकी थी। 2010 में उन्होंने क़तर की नागरिकता भी स्वीकार कर ली थी। हुसैन साहब कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित हुए। भारत सरकार द्वारा उन्हें 1955 में पद्मश्री, 1973 में पदमभूषण और 1991 में पदमविभूषण से सम्मानित किया गया। 1971 में साओ पोलो में उन्हें विश्व विख्यात कलाकार पिकासो के साथ विशेष अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया था। हुसैन जी का निधन 9 जून, सन 2011 ई. में लंदन (इंग्लैंड) में हुआ।


अनंत पई (17 सितम्बर 1929, कार्कल, कर्नाटक — 24 फरवरी 2011, मुंबई), जो अंकल पई के नाम से लोकप्रिय थे, भारतीय शिक्षाशास्री और कॉमिक्स, ख़ासकर अमर चित्र कथा श्रृंखला, के रचयिता थे । इंडिया बुक हाउज़ प्रकाशकों के साथ 1967 में शुरू की गई इस कॉमिक्स श्रृंखला के ज़रिए बच्चों को परंपरागत भारतीय लोक कथाएँ, पौराणिक कहानियाँ और ऐतिहासिक पात्रों की जीवनियाँ बताई गईं । 1980 में टिंकल नामक बच्चों के लिए पत्रिका उन्होंने रंग रेखा फ़ीचर्स, भारत का पहला कॉमिक और कार्टून सिंडिकेट, के नीचे शुरू की. 1998 तक यह सिंडिकेट चला, जिसके वो आख़िर तक निदेशक रहे ।
दिल का दौरा पड़ने से 24 फरवरी 2011 को शाम के 5 बजे अनंत पई का निधन हो गया । आगे पढ़े यहाँ …. 


आज पूरा हिंदी ब्लॉगजगत इन दोनों महान शख्सियतों को हार्दिक नमन और भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करता है। सादर।।


अब रुख करते हैं आज की बुलेटिन की ओर …. 















तब तक के लिए शुभ रात्रि। कल फिर मिलेंगे।।

9 टिप्पणियाँ:

Lalit Chahar ने कहा…

आपने लिखा....हमने पढ़ा....बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. !

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

वाह।
आभार भाई।

Manish Kumar ने कहा…

अमर चित्र कथा के जनक अनंत पाई से बचपन का नाता रहा है। उनका जन्मदिन याद दिलाने के लिए हार्दिक आभार !

vibha rani Shrivastava ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की ये बात ज्यादा अच्छी लगती है
शुक्रिया और आभार

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

सुन्दर सूत्रों का संकलन !!
आभार !!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

दोनों महान शख्सियतों को हार्दिक नमन और भावभीनी श्रद्धांजलि ... इस बेहद उम्दा बुलेटिन के लिए आपका आभार हर्ष !

दिगम्बर नासवा ने कहा…

नमन है देश की विभूतियों को ...
उम्दा बुलेटिन ...

Pallavi saxena ने कहा…

सुंदर सूत्रों का संकलन...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बड़े ही सुन्दर सूत्र..

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार