Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 1 फ़रवरी 2012

थिस इज़ बेटर देन ओरिजिनल जी... - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रो,

प्रणाम !

एक बार मुझ को एक पुलिस वाले ने गाड़ी को ओवर स्पीड से चलाने के लिए सिग्नल पर रोका !

 मैंने उस पुलिस वाले को पहचान लिया ये वही था जिसने मुझ को एक बार मोटरसाईकिल से उतारा था और मेरे साथ झगड़ा किया था और बाद में मेरा चालान भी काट दिया था मैंने सोचा आज तो इसको मजा चखा कर ही रहूँगा!

 मैंने जैसे उसकी बात सुनी ही नहीं और वहां से गाड़ी बड़ी तेजी से आगे बड़ा दी!

 ये देख कर पुलिस वाले को गुस्सा आया और उसने अपनी मोटर साईकिल स्टार्ट की और मेरी गाड़ी का पीछा करने लगा मैंने थोड़ी दूर जाकर गाड़ी को रोक दिया मेरे पीछे पुलिसवाला भी वहां पहुँच गया !

अब मेरे और उस पुलिस वाले के बीच क्या क्या बात हुयी आपको सिलसिलेवार तरीके से बताता हूँ !

 पुलिसवाले ने रौब दिखाते हुए कहा चलो अपना लाइसेंस दिखाओ!

 मैं :-  नहीं है!

 पुलिसवाले ने कहा गाड़ी के कागज दिखाओ 

मैं :-  नहीं है! सर, मैं आपको ये सब कुछ दिखा देता पर आपको पता नहीं कि ये गाड़ी चोरी की है और पहले मैंने इसके मालिक को लूट लिया फिर उसको जान से मार दिया अगर आपको यकीन नहीं हो रहा तो ये ट्रंक देख लीजिये इसमें उसकी लाश पड़ी है!

 ये सब सुनकर पुलिस वाला चौंक गया और उसने अपने ऑफिसर को फोन पर सारी बात बता दी!

 कोई दस मिनट बाद वहां वह पुलिस ऑफिसर पहुँच गया और उसने मुझ से पूछताछ शुरू कर दी!

 ऑफिसर ने मुझ को कहा चलिए गाड़ी से बाहर उतरिये!

 मैं :-  सर कोई प्रॉब्लम है क्या?

 ऑफिसर जी हाँ हमे खबर मिली है कि ये गाड़ी चोरी की है और आपने इसके मालिक को मार दिया है!

 मैं :-  हैरान होकर गाड़ी के मालिक को मार दिया है!

 पुलिस ऑफिसर क्या आप इस ट्रंक को खोल कर दिखाएँगे, मैंने ट्रंक खोला पर वो बिल्कुल खाली था!

 ऑफिसर सर क्या ये आपकी गाड़ी है!

मैं :- जी हाँ, बिल्कुल ये देखिये गाड़ी के कागज और ये रहा मेरा लाइसेंस ऑफिसर ने गौर से देखा और कहा:

 ऑफिसर: सर हमें इस गुस्ताखी के लिए माफ़ कीजिये पर मुझे किसी मेरे साथी ने फोन करके बताया था कि आपके पास न लाइसेंस है न गाड़ी के कागज और गाड़ी चोरी की है गाड़ी के मालिक को लूटने के बाद  मार दिया है!



मैं : - उस कमीने ने आपको ये नहीं बताया कि मैं गाड़ी भी ओवर स्पीड से चला रहा था! 


===========================================================

अब तक तो आप सब यह समझ ही गए होंगे कि मैंने यहाँ एक लतीफा अपने ऊपर सेट कर के चैप दिया है ... तो साहब जब आप यह जान ही गए है तो इस लतीफे को एक बार फिर से पढ़ लीजिये ... और जी भर कर मुस्कुराइए ... तब तक मैं आज की ब्लॉग बुलेटिन सजाता हूँ !


सादर आपका


 ===========================================================

posted by अमित तिवारी at रेडियो प्लेबैक इंडिया 
*गाना: **पहली तारीख है* * चित्रपट:पहली तारीख संगीतकार:सुधीर फड़के गीतकार: कमर जलालाबादी गायक:किशोर कुमार* * * दिन है सुहाना आज पहली तारीख है दिन है सुहाना आज पहली तारीख है खुश है ज़माना आज पहली तारीख...
posted by noreply@blogger.com (विष्णु बैरागी) at एकोऽहम्
मेरी उत्तमार्द्ध ‘बहनजी’ हैं। ‘बहनजी’ याने शिक्षक। रोज सुबह उन्हें स्कूल छोड़ना और शाम को स्कूल से लाना मेरी दिनचर्या का अनिवार्य अंग है। 26 जनवरी को जब मैं उन्हें ले कर लौट रहा था तो बोलीं - ‘जब से इस स्क...
posted by संगीता पुरी at आज का राशि फल
मेष लग्नवालों के लिए .... 1 , 2 और 3 फरवरी 2012 को धन की स्थिति मजबूत होगी , इसे मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा। ससुराल पक्ष का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी का...
posted by देव कुमार झा at मेरी दुनिया मेरा जहाँ.... 
अबे ये १०४.८ ओये एफ़ एम का रिमिक्स जबरदस्त है भाई..... सुनिये.... न... है न बेटर थेन ओरिजिनल..... सुप्पर..... पिछले दिनों जब टीवी और इन्टरनेट बन्द था तो इसनें हमारा बडा मनोरंजन किया भाई... ...
posted by IRFAN at ITNI SI BAAT
posted by नवीन प्रकाश at Hindi Tech - तकनीक हिंदी में
फ़ायरफ़ॉक्स का एक और नया स्थिर संस्करण अब आप उपयोग कर सकते हैं नया Firefox 10.0 । इस बार फ़ायरफ़ॉक्स ने ये नया संस्करण के silent update रूप में भी जारी किया है इसलिए अगर आपके पास फ़ायरफ़ॉक्स पहले से है ...
posted by रश्मि प्रभा... at मेरी भावनायें...
एक हर्फ़ से जिंदगी की पूरी तस्वीर वही बना सकते हैं जिन्होंने उस हर्फ़ को जीया है ... वरना ज़िन्दगी दस्तावेजों में होती है कुछ पन्ने सिडे कुछ हरे कुछ नीले ... अंतिम पन्ने खाली सफ़ेद रह जाते हैं और यह भाष...
posted by RITU at कलमदान
*रस छंद माधुरी कहाँ से लाऊँ ,* *वो मृदु बांसुरी कहाँ से लाऊँ ,* *ऐसा सागर जिसमे में समां जाऊं ,* *वो कृपू अंजुरी कहाँ से लाऊँ ..* * * *रूप वरण गागरी कहाँ से लाऊँ * *तारण तरण भागरी कहाँ से लाऊँ * *तन कंचन मन...
posted by पी.सी.गोदियाल "परचेत" at अंधड़ !
*धड़कन का दिल में बसने,* *जीवन के सहभागी बनने हेतु * *रिश्तों की बुनियाद में * *यकीन नाकाफी क्यों? * *इकरारनामे को मुद्रांकित * *करवाने की हठ-धर्मिता कैंसी? * *तुम जानती हो कि * *अनुबंध असीम नहीं होते, * *...
posted by Archana at मेरे मन की 
सबसे पहले हुई मेंहंदी की रस्म... पल्लवी की......16 जनवरी....गीत सुनते जाईये और आप भी शामिल हो जाईये.. १ - २- ३-
posted by varsha at likh dala 
प्याज  जाने क्या है   तुम और नमीं  कदम-ताल मिला कर ही आते हो और आज तो दस्तक भी शामिल हो गयी थी अधकटे  प्याज के साथ खोल दिया दरवाज़ा एक बार फिर मैंने छिपा लिया था तुम्हें और तुम्हारे लिए अपना जज़्बा. **...

posted by डॉ टी एस दराल at अंतर्मंथन 
चिकित्सा के क्षेत्र में नॉलेज जितनी जल्दी बदलती है , उतनी शायद किसी और क्षेत्र में नहीं बदलती होगी । इसीलिए इस क्षेत्र में निरंतर शोध होती रहती है। शोध परिणामों को विभिन्न मेडिकल जर्नल्स में छापा जाता है ...

posted by Smart Indian - स्मार्ट इंडियन at खस्ता शेर - खुदा खैर 
*(अनुराग शर्मा)* कभी ये भी मालामाल थे कभी इनके सर पे भी बाल थे इन्हें आज की न मिसाल दो कभी ये भी बन्दा कमाल थे ये मुँह तो शादी से बन्द है पहले ये बहुत ही वाचाल थे अब अपने आप ही क्या कहैं कभी ये भी बन्दा कम...

बोधि प्रकाशन जयपुर द्वारा प्रकाशित कृति *"स्त्री होकर सवाल करती है " *स्त्री विषयक काव्य संग्रह एक उपलब्धि से कम नहीं ...........माया मृग जी और डॉक्टर लक्ष्मी शर्मा जी के अथक प्रयासों का जीवंत रूप है ...

posted by मनोज पटेल at पढ़ते-पढ़ते 
*प्रसिद्द ईरानी फिल्मकार अब्बास कियारोस्तामी की अनोखे चाक्षुष बिम्बों वाली कविताएँ आप इस ठिकाने पर पहले भी पढ़ते रहे हैं. आज कुछ और कविताएँ प्रस्तुत हैं... * * * * * *अब्बास कियारोस्तामी की कविताएँ * (अन...

posted by रेखा श्रीवास्तव at मेरा सरोकार 
जिन्दगी वह महा समर है जिसको जीतने के लिए शायद ही कोई ऐसा होगा जिसने जीवन में संघर्ष न किया हो। ऐसा नहीं इसके कुछ अपवाद होते हें जिन्होंने कभी इस प्रकार का कोई भी अनुभव जीवन में न लिया हो लेकिन ९९ प्रतिशत ...
posted by "रुनझुन" at रुनझुन 
लगभग ढाई महीने से रुनझुन के ब्लॉग पर ख़ामोशी थी.... कहीं कोई हलचल नहीं.... किन्तु ब्लॉग पर भले ही कोई हलचल न हो ज़िन्दगी तो हर वक़्त हलचलों से ही भरी रहती है... हर पल कुछ न कुछ नया घटित होता रहता है.... ...

posted by अमित श्रीवास्तव at "बस यूँ ही " .......अमित 
साइकिल दीवार के सहारे खड़ी कर जैसे ही मै जीने पर पाँव रखता ,उसका छोटा भाई चिल्ला उठता ,दीदी तुम्हारे 'सर' आ गए । प्रारम्भ में मुझे केवल उस लड़की को पढ़ाने के लिए ही रखा गया था, पर...

*'स्मृतियों में रूस'* को लेकर मैं बहुत पहले से काफी उत्साहित था.शायद आजतक मैं किसी भी किताब को लेकर इतना उत्साहित कभी नहीं रहा.इसकी वजह भी थी.जब से*शिखा दी *ने इस किताब की प्लानिंग की तब से ही मैं भी इस क...
posted by आवेश तिवारी at नेटवर्क6 
ये एक थके -हारे घोड़े को स्टेरायड देने जैसा है |कल जब लखनऊ में जामा मस्जिद के इमाम अहमद बुखारी वोटरों से सपा को जितना के अपील कर रहे थे तो सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के चेहरे पर एक आश्वस्त मुस्कान दिख रह...

posted by सुमित प्रताप सिंह at सुमित के तड़के (कविता) 
आया चुनाव निकट स्थिति बनी विकट मन में लेकर आस गये नेता जी दूसरे नेता के पास हौले-हौले प्रेम से बोले झगड़े की न रखो बात-बात हो जाओ हमारे साथ-साथ बनेगी जोड़ी खास-खास तुम नागनाथ, हम साँपनाथ तुम डाल-डाल, ...
  ===========================================================

अब आज्ञा दीजिये ...
जय हिंद !!!

33 टिप्पणियाँ:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

दमदार बुलेटिन..

Archana ने कहा…

ओSSSSSSSSSइतने सारे लिन्क्स और वो भी एक से बढ़ कर एक( सबको नहीं पढ़ पाई हूं अभी, पर खोल चुकी हूं)दिन भर है पढ़ ही लूंगी)हा हा हा..मेरी बेटी को सबसे मिलवाने का शुक्रिया..

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

बहुत शानदार ढंग से सजाये बुलेटिन के लिए आभार शिवम् जी !

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छी चर्चा।

RITU ने कहा…

मुझे जगह देने के लिए आभार व धन्यवाद ,सभी लेख पढेंगे ..
kalamdaan.blogspot.com

"रुनझुन" ने कहा…

इतनी सुन्दर चर्चा में मुझे शामिल करने के लिए बहुत-बहुत शुक्रिया!!!

Shah Nawaz ने कहा…

भाईसाब गजब का लतीफा था... हा हा हा...

लिंक भी सब के सब बढ़िया हैं...

ana ने कहा…

bahut badhiya

Arif Jamal ने कहा…

blog ki duniya men nai chamak .....bdhai

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

मैं भी सोचूँ कि यह घटना तो मेरे साथ घटी थी, ये शिवम भाई कैसे बयाँ कर रहे हैं.. फिर लगा, छोटे भाई हैं जाने दो!! मज़ा आ गया सुबह सुबह!! दिन बन गया!!!

सुमित प्रताप सिंह Sumit Pratap Singh ने कहा…

बिना खर्चा (???)
सुन्दर चर्चा...
शुक्रिया...

वन्दना ने कहा…

वाह बहुत सुन्दर लिंक्स संजोये हैं………बढिया बुलेटिन्।

रश्मि प्रभा... ने कहा…

हाहाहा मजेदार कहानी ... मज़ा आ गया , लिंक्स की बहार है और मैं भी हूँ बासंती बयार में - शुक्रिया

Dr. Ravinder S. Mann ने कहा…

बहुत से अच्छे लिन्क देने के लिए शुक्रिया.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

आभार, किसी फ़िल्म में गोविन्दा के साथ भी यही हुआ था।

varsha ने कहा…

shukriya,kuch links to bahut achche hain.

अनुपमा त्रिपाठी... ने कहा…

शिवम् जी हसाने के लिए आभार ...
पढ़कर बहुत मज़ा आया ...
बुलेटिन भी बढ़िया है ...

सदा ने कहा…

बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

shikha varshney ने कहा…

कहानी मजेदार है :).
और बुलेटिन सार्थक.

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

प्रत्‍येक घटना और दुर्घटना संभव है
प्‍यार और यातायात में
क्‍यों सही कहा न शिवम् भाई।

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत शानदार बहुत जानदार बुलेटिन..

Vibha Rani Shrivastava ने कहा…

सोचती रह गई ,और लिखना भूल ही गई , इसलिए थोड़ी देर हो गई.... !!
अपने पर मज़ाक-लतीफे , हौसले की दाद देनी पड़ेगी , और अच्छे लिंक्स की उत्तम प्रस्तुति..... !!

देव कुमार झा ने कहा…

वाह जी वाह... खुद को शीर्षक रूप में पाकर मजा आया...
मुंबई में रहता हूँ, आये दिन ट्रैफिक के कांस्टेबल से पाला पड़ता रहता है....

अच्छी भूमिका और बहुत ही मेहनत से सजा बुलेटिन...

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

shaaandaar buletin..:)

डॉ टी एस दराल ने कहा…

गज़ब का लतीफ़ा था । हैरान कर गया ।
बढ़िया चर्चा ।

अमित श्रीवास्तव ने कहा…

यह बुलेटिन नहीं बुलेट है ,शानदार |

मनोज पटेल ने कहा…

बेहतर लिंक्स, शुक्रिया शिवम् जी !!

Reena Maurya ने कहा…

सुन्दर लिंक्स है
बढ़िया

अजय कुमार झा ने कहा…

बहुत सन्नाट धरे हैं मिसर जी ..एकदम कटिंगदार और पेना बुलेटिन जारी किए हैं ....लतीफ़ा तो वजीफ़ा सरीखा रहा जी । बेहतरीन पीस

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

विष्णु बैरागी ने कहा…

आपकी कल्‍पनाशीलता आपकी कहानी से झलकती है परिश्रम इस संयोजन से। सलाम।

dheerendra ने कहा…

शिवम भाई,...आपने इस खुशी के मौके पर मेरे पोस्ट में पहला कमेंट्स देकर मेरे सारे गिले शिकवे भुला दिये..आभार
लाजबाब प्रस्तुतीकरण...

NEW POST...40,वीं वैवाहिक वर्षगाँठ-पर...

avanti singh ने कहा…

आप के लेखन का तरीका बहुत ही अच्छा है ,पूरा बुलेटिन पढ़े बिना रहा ही नहीं गया

ऐसे ही लिखते रहें.....शुभकामनाये .......

आप ने जो चुटकला खुद पर फिट किया बहुत बढिया लगा ........

गौ माता के लिए कुछ करने की दृष्टि से एक मंच का निर्माण हुआ

आप भी सादर आमंत्रित है.....पधारियेगा....

गौ वंश रक्षा मंच



gauvanshrakshamanch.blogspot.com

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार