Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 4 अक्तूबर 2014

अवलोकन - 2014




वर्ष अपने शेष महीनों में है
दर्द की ख़ामोशी स्तब्ध है
सन्नाटा मुखर है
तो इस मुखरता में वर्ष का अवलोकन ही आरम्भ करती हूँ
....
समय की गति थमे
या हम रुकें
ये तो हमारे बुज़ुर्गों को भी पसंद नहीं
तो उनके सम्मान में
उनकी याद में
मैं शुरू करती हूँ वार्षिक अवलोकन
ताकि लय में हो ज़िन्दगी
लोगों का आना-जाना बना रहे

कल से हम यहीं मिलते रहेंगे, जब तक मिलना तय है :)

आइये आज बातचीत ही करें,
अतीत वर्तमान का घनिष्ठ रिश्तेदार कहिये या मित्र
साथ बना रहता है
पर यह साथ ही होता है भविष्य के लिए
साथ होकर रुकना उद्देश्य नहीं
चलना है
मात्र अपने लिए नहीं
अपनों के लिए
जो हमें किसी मंज़िल पर देखना चाहते हैं
………………………
जब तक हम किसी विषय पर संघर्ष करते हैं - मुश्किलें उतना ही सर उठाती हैं,
पर जब हम संघर्ष बंद कर देते हैं तो एक तनावमुक्त सृजन कर पाते हैं
कुछ भी जानने समझने के लिए आपको उसके साथ जीना होगा, उसका अवलोकन करना ही होगा, आपको उसके सभी पहलू, उसकी सारी अंर्तवस्तु, उसकी प्रकृति, उसकी संरचना, उसकी गतिविधियां जाननी होंगी

1 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर । एक नई पहल नई शुरुआत के लिये साधुवाद ।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार