Subscribe:

Ads 468x60px

शुक्रवार, 28 फ़रवरी 2014

आप, Whatsapp और ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज कल Whatsapp बड़ी चर्चा मे है ... खास कर फेसबुक द्वारा उसका खरीदे जाना ... मुझे यकीन है कि हम मे से भी काफी मित्रों ने भी इन खबरों मे काफी रुचि ली होगी और नियमित रूप से Whatsapp का उपयोग भी करते होंगे | पर क्या आप जानते है कि Whatsapp का उपयोग करने वालों को भी वर्ग के आधार पर वर्गीकृत किया गया है |

लीजिये देखिये कि आप इसमें से कौन से वर्ग में आते है?

 1. Whatsapp मुर्गा!
 रोज सुबह, "गुड मॉर्निंग" के मैसेज देना और लोगो को 'गुड मॉर्निंग' बोल कर जगाना इनका प्रिय काम है।

 2. Whatsapp बाबा!
 ये सिर्फ भगवान के ही मैसेज भेजते हैं और प्रवचन करते फिरते हैं।

 3. Whatsapp चोर!
 ये लोग दूसरों का मैसेज बस आगे भेजते हैं।

 4. Whatsapp देवदास!
 ये लोग हमेशा दर्द भरे और निराशाजनक मैसेज और शायरी भेजते हैं और अपना दुःख दुनिया को दिखाके लोगों को भी दुखी करते हैं।

 5. Whatsapp न्यूज रिपोर्टर!
 दुनिया में क्या चल रहा है, ऐसी न्यूज ये लोगो को भेजते हैं।

 6. Whatsapp विदुषक!
 ये लोग उनकी जिंदगी में कितने भी दुखी हों लेकिन सबको जवाब भेजते हैं और मैसेज में हंसते रहते हैं।

 7. Whatsapp मौनी बाबा!
 ये लोग चुपचाप मैसेज पढते हैं और कभी जवाब नहीं देते।

 8. Whatsapp विचारक!
 ये लोग अच्छे विचार अपने मैसेज के जरिये लोगों तक पहुंचाने का प्रयत्न करते हैं।

 9. Whatsapp कवि और कवियित्री !
 इनको कविता छोडके कुछ भी नहीं जमता, ये कविता भेज के लोगो को बोर करते रहते हैं।

 10. Whatsapp चैटर!
 इनको चैट के बिना कुछ नहीं आता और कुछ जमता भी नहीं। यह हमेशा आपको ONLINE मिलते हैं।

 11. Whatsapp बन्दर!
 ये लोग जवाब में कुछ भी नहीं बोलते है सिर्फ हा हा - ही ही करते रहते हैं।

 12 . Whatsap कलेक्टर!
 ये लोग सिर्फ जाईन करते हैं पर कभी मैसेज नहीं करते सिर्फ ग्रुप जाईन कर घूमते हैं।

हाँ तो आप किस वर्ग मे आते है ... मैंने तो २ - ३ वर्गों मे खुद को पाया ... जैसे कि ३, ६ और ७ |

सादर आपका 

======================

भारत में विज्ञान की बदहाली

विज्ञान नहीं जानता कि वह कल्पना का कितना कर्जमंद है -Ralph Waldo Emerson

एक बहादुर को एक कायर भी कभी सलामी देता है

'रुसवा..'

“ एक थी माया” – कहानी संग्रह

" रिटायरमेंट पार्टी ..............."

उसका मन?

वसन्त पर कुछ हाइकु कवितायें

सम्राट अशोक की विडंबना

टुकड़े

दस्त के घरेलू नुस्खे, घरेलू इलाज

 ======================

अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

13 टिप्पणियाँ:

मुकेश पाण्डेय चन्दन ने कहा…

सुन्दर लिंक संयोजन
Whats app का बढ़िया वर्गीकरण

Priyanka Jain ने कहा…

सादर आभार..!!

parul chandra ने कहा…

मेरी रचना को अपने बुलेटिन में जगह देने के लिए आपका शुक्रिया..

parul chandra ने कहा…

मेरी रचना को अपने बुलेटिन में जगह देने के लिए आपका शुक्रिया..

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

एक तो समय की कमी और दूसरे व्हाट्स-एप्प पर ऑफिस से टार्गेट के मेसेज आने लगे तो बन्द कर दिया... !! इसीलिए हम लास्ट कैटेगरी में हैं!
लिंक्स देखते हैं...!!

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

जितना है उतना ही नहीं सँभाला जा रहा है इसलिये ये बबाल अभी शुरु ही नहीं किया :)
सुंदर बुलेटिन शिवम ।

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

अरे उल्लूक का सूत्र भी है :)
"एक बहादुर को एक कायर भी कभी सलामी देता है" को जगह दी आभारी हूँ :)

Meenu Khare ने कहा…

धन्यवाद शिवम मेरी रचनाओं को इस बुलेटिन में जगह देने के लिए.

Kailash Sharma ने कहा…

whatsapp का बहुत सुन्दर विश्लेषण..रोचक सूत्र...आभार

Ramaajay Sharma ने कहा…

बहुत ही सुंदर वर्गीकरण किया आप ने ...आप के हर पॉइंट से सहमत हूँ ....

http://ramaajays.blogspot.jp/2014/03/blog-post.html

यहाँ भी पधारें

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हमने बन्द कर दिया है, ५ दिन के लिये रहे। सुन्दर पठनीय सूत्र।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Dr. sandhya tiwari ने कहा…

bahut badhiya shivam ji ..............whatsapp ke baare me jankar ..........sabhi links behatarin....

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार