Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 19 फ़रवरी 2014

छत्रपति शिवाजी महाराज की ३८४ वीं जयंती और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को सादर नमस्कार।।

चित्र साभार : बुरा भला
छत्रपति शिवाजी महाराज जी की ३८४ वीं जयन्ती पर पूरा हिन्दी ब्लॉगजगत और ब्लॉग बुलेटिन टीम उन्हें शत शत नमन करती  है। सादर।।


अब चलते हैं आज कि बुलेटिन की ओर  ………… 




चला बिहारी ब्लॉगर बनने से ये कहानी है पुरानी

कस्‍बा से हिन्दी की आधुनिकता

न दैन्यं न पलायनम् से संतुलन, गति, क्रम

कुमाउँनी चेली से  यह तो होना ही था केजरीवाल जी !

vijai path से  आलेख : मैं और हम

Yuvarocks से एक वोटर के सवाल एक पीएम प्रत्याशी से

एक से झाँकी हिंदुस्तान की : जागो मोहन प्यारे

काव्यान्जलि से  आँसुओं की कीमत.

समाचार NEWS से भारत में लुप्त नहीं हुई हैं प्राचीन धरोहरें और पूरी दुनिया में मुफ्त इंटरनेट "आउटरनेट" के जरिए।


कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि।।

9 टिप्पणियाँ:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

सुंदर सूत्र ...! मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार ! हर्षवर्धन जी

RECENT POST - आँसुओं की कीमत.

Amit Kumar Nema ने कहा…

एक से झाँकी हिंदुस्तान की : जागो मोहन प्यारे, मेरी इस प्रस्तुति को आज की छत्रपति शिवाजी महाराज की ३८४ वीं जयंती पर ब्लॉग बुलेटिन में शामिल करने हेतु आपका हार्दिक धन्यवाद ! हर्षवर्धन जी , आपका प्रोत्साहन सदैव मुझे बल प्रदान करता है |

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर बुलेटिन !

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

शिवाजी महाराज को स्मरण करते हुए एक सुन्दर बुलेटिन!! अच्छे लिंक्स!! मेरी पोस्ट को भी सम्मिलित करने के लिए आभार!!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बढ़िया संकलन हर्ष ... आभार मुझे इस मे शामिल करने के लिए |

Kulwant Happy ने कहा…

आभार के लिए शब्द नहीं। आपका कदम सराहनीय है। Salute to HARSHVARDHAN

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रोचक और पठनीय सूत्र, आभार..

sadhana vaid ने कहा…

शानदार सूत्रों से सुसज्जित बढ़िया बुलेटिन ! शिवाजी महाराज की जयंती पर उन्हें हार्दिक अभिनन्दन !

शेफाली पाण्डे ने कहा…

dhanyvaad aapka

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार