Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 4 नवंबर 2013

दीवाली की अगली सुबह .........ब्लॉग बुलेटिन





पहले देखिए दीवाली का अगला दिन भाई काजल कुमार की नज़र से



आप चाहे जो भी कहें , मगर इन सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर हमारी आपकी मौजूदगी और पल पल हमारे द्वारा दी जा रही दस्तकों का एक ये असर तो हुआ ही है कि अब गम , खुशी , त्यौहार , पर्व , समारोह , की तमाम यादें न सिर्फ़ हम सहेज़ रहे हैं बल्कि कोसों मीलों दूर बैठे अपने दोस्तों के साथ निरंतर साझा भी कर पा रहे हैं ,और हम सब ऐसा कर रहे हैं । कई बार इस मुएं सोशल नेटवर्किंग को कोसते हुए भी , मगर मुझे इसकी ये खासियत पसंद है ।


दीवाली की रात जितनी रोचक , चकाचौंधभरी और हां धमाकोंभरी होती है उतनी ही रोचक सुबह भी होती है । दरवाज़ों , बरामदों , छतों , गलियों और सडकों तक पर धज्जियां उडे हुए पटाखों के अवशेष , बीच बीच में पडे वे कमबख्त जो उस चिथडामय आपदा में भी बचे रह गए ताकि अगली सुबह बच्चों की खोजी निगाहें उन्हें तलाश कर एक किनारे लगा दें , उनका नंबर दीवाली की अगली दोपहर शाम को आता है फ़टने का । रंगोली के रंग एक दूसरे से मिलते हुए , फ़ूल थोडे से कुम्हलाए और पत्तों की सज़ावट में भी मुरझाहट ...पूजाघर में अब तक जलता हुआ बडा दीप , और देहरी में जलते हुए , टिमटिमाते हुए कई दीप .....चलिए छोडिए अब आज की पोस्टों को एक लाइना में पिरोया जाए



पता : तो यकीनन  लखनऊ का ही होगा :)



नित नया किनारा : किसने पार उतारा :)


कोरा कागज़ : मेरा जीवन , कोरा ही रह गया


हैप्पी दीवाली , कुछ उनकी , कुछ अपनी : दीवाली से धनतेरस , अपना सपना मनी मनी :)


धोते रविकर पाप , गर आज बापू होते : क्या पता वे भी धाडे मार के रोते :)


यही प्यार है : अहा! क्या इज़हार है


ह्यूमन कंप्यूटर की ८४ वीं जयंती : नमन नमन तुम्हें हे गुणवंती


ब्लॉगिंग पर एक छोटा सा फ़ुटनोट : ओहो जे बात , डायरेक्ट दिल पर चोट :)


कुछ सरकारी जोंक : देश को चूस गए :)


जल रहे हैं दीपक : और चाइनीज़ लाइट भी :)



7 टिप्पणियाँ:

Tushar Raj Rastogi ने कहा…

जय हो खूब बुलेटिन लगाये - लगे रहो भैया - शुभकामनायें त्योहारों की :)

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुंदर बुलेटिन ! अजय भाई , एकदम आपके स्टाइल में.
शुभकामनाएँ त्योहारों की !!

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर चर्चा !
भाई दूज की शुभकामनायें !

सदा ने कहा…

बेहतरीन प्रस्‍तुति

shashi purwar ने कहा…

aapko dipawali ki hardik shubhkamnayen

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रोचक व पठनीय बुलेटिन..

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बहुत खूब अजय भाई ... शानदार एक लाइना बुलेटिन लगाए महाराज ... जय हो !

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार