Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 29 अप्रैल 2017

जाने किसकी आखिरी चिट्ठी गैरमौजूदगी में पहुँची




घर से तो हम निकल आए थे
उसके बाद भी तो डाकिया आया होगा
कुछ बन्द लिफाफे रख गया होगा
....
जाने किसी ने खोला या नहीं !!!

घर की सफाई करते हुए 
फेंक दिया होगा बाहर 
सड़क पर खेलते बच्चों ने खोला होगा
चिट्ठी की नाव बनाई होगी 
किसी नाले में बहाया होगा 
जाने किसकी आखिरी चिट्ठी गैरमौजूदगी में पहुँची
मन करता है पढ़ूँ
सम्भवतः किसी ने मनाया होगा
...

Search Results

इच्छामृत्यु की सुविधा - मेरा मन - blogger

मौजूदा हालतों में साहित्य की भूमिका और दखल



संवेदनाओं से लद कर झुकी हुई
प्रेम में पग कर परिपक्व
मेरा ऐसा झुकना और पगना
पसंद भी करोगे तुम?
शायद नहीं..
तुम फूलों के रस रूप रंग से मादक हो
और मैं फूल के बस खिल जाने से सम्मोहित..
महसूस करने का ये अंतर
युगों का फ़ासला है..😊

वस्त्र
जिंदगी के पास होते हैं
सिर्फ तीन वस्त्र
भूत, वर्तमान और भविष्य
रोज़ बदलती है वो भूत वाला वस्त्र
कुछ रेशे चिपके ही रह जाते है
यादों पर
मन पर भी कुछ कुछ
ज्यादा झाड़ों तो कमबख़्त रेशे
कांटे जैसे गढ़ जाते हैं.....
मेरा कहा मानो
आज जब जिंदगी वर्तमान पहने तो
उतरे हुए वस्त्रों को
अन्तर्मन की गंगा में
प्रवाहित कर दो.....

1 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार