Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 16 जनवरी 2016

एक कटु सत्य - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

शादी बियाह के सीजन का एक कटु सत्य:


गाँव की शादी में सबसे ज्यादा इज्जत उसकी होती है, जिसे "टाई" बांधना आती है, 


और शहर की शादी में उसकी होती है जिसे "साफा" बांधना आता हो।

सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

सच से भागते हम

शिव सूत्र का अर्थ

व्यंग्य –सरकारी अस्पताल में नववर्ष

यात्रा में ढाबे में रुकने का अपना ही आनंद है....

गीता ज्ञान - 18 (भाग-2)

एक दिन

दर्द के बदले दर्द !

मुद्दा: सोशल मीडिया का जानलेवा रूप

कैक्टस के मोह में बिंधा एक मन - भाग १२: महेंद्र मोदी के संस्‍मरणों की श्रृंखला

सच

बम या रेशम

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

16 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन । आभार शिवम जी 'उलूक' के 'सच' को जगह देने के लिये ।

Vikram Pratap singh ने कहा…

शिवम् जी आभार।

Vikram Pratap singh ने कहा…

शिवम् जी आभार।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

ज्ञानवर्धक और पढनीय सूत्र, पढ़ते हैं जाकर।

Vishwajeet Sapan ने कहा…

सादर आभार मेरे ब्लॉग को शामिल करने के लिये. सादर नमन

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

सही है!!

महेन्द्र मोदी / mahendra modi /مہندر مودی ने कहा…

हार्दिक आभार

महेन्द्र मोदी / mahendra modi /مہندر مودی ने कहा…

हार्दिक आभार

कंचनलता चतुर्वेदी ने कहा…

सुन्दर

कंचनलता चतुर्वेदी ने कहा…

सुन्दर

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति
आभार!

JEEWANTIPS ने कहा…

सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार!

मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है...

Anita ने कहा…

विविधरंगी सुंदर सूत्रों से सजा बुलेटिन..आभार !

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

शुक्रिया भाई

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

शुक्रिया भाई

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार