Subscribe:

Ads 468x60px

शुक्रवार, 8 जून 2012

रुको भी ....थोड़ा पढ़ो भी ... ब्लॉग बुलेटिन



रुको भी .... लिंक्स तो हैं ही , उससे पहले जो लिख रही हूँ , उसे पढ़ते हुए आगे जाएँ - रुकावट के लिए कोई खेद नहीं है , क्योंकि जो भी लिखा है वह आपके ही लिए है . कुछ प्रश्न हैं , देने हैं जवाब सच सच

१. क्या आप बड़े हो गए हैं ?
२. समझदारी आ गई ?
३. क्या अब गुब्बारे देख आपका मन नहीं ललचता ?
४. क्या मनपसंद चीज बांटने में आज भी बेईमानी नहीं होती ?
५. क्या आप हर दिन अपना लिंक्स यहाँ नहीं चाहते ?

पता है , पता है - सब मेरा जवाब चाहते हैं .... तो थोड़ी सी इमानदारी , थोड़ी सी बेईमानी लेकर देती हूँ जवाब -

बड़ी क्या बहुत बड़ी हो गई हूँ , पर मन नहीं होता बड़ी कहे जाने का ..... :)
समझदारी :) भला अपने को कोई बुद्धू कहता है ...
किसी के हाथ में गुब्बारे , खिलौने देख मुझे बहुत ईर्ष्या होती है , यानि जबरस्त लालच है .... :)
बच्चों के साथ कोई बेईमानी नहीं , .... बाकी कहना ज़रूरी है क्या ? :)
जिस दिन अपना लिंक नहीं होता बहुत दुःख होता है :) ......... तो आज की शुरुआत अपने ही लिंक से


25 टिप्पणियाँ:

shikha varshney ने कहा…

अरे बहुत हैं ..जाते हैं पढ़ने :)

वाणी गीत ने कहा…

थोड़ी बहुत बेईमानी हम सबमे हैं ...
बड़े और हम , कब हुए ?
जन्मे ही समझदार थे .
गुब्बारे से नहीं , चॉकलेट से जरुर ललचाता है .
देखना चाह्ते हैं हर दिन यहाँ ...आज क्यों नहीं है मेरे पोस्ट :(
चलिए , कोई गल नहीं , आज दूसरों की ही पहले से पढ़ी हुई भी पढ़ लेते हैं !

रश्मि प्रभा... ने कहा…

थोड़ी शरारत न हो ... तो पढ़ने में क्या मज़ा :)

expression ने कहा…

:-)

न चाहते हुए भी बड़े हुए जा रहे हैं......
चाहते हुए भी समझदारी आती नहीं......
:-(

रश्मि प्रभा... ने कहा…

जाआआआ

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

छोटा और प्यारा बुलेटिन..

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

आभार रश्मि दी :-)

शिवम् मिश्रा ने कहा…

हम तो नहीं कह रहे लिंक्स कम है ... किसने कहा ... पहले सब पढ़ तो लें ... बाकी बातें बाद मे !

रश्मि प्रभा... ने कहा…

प्रश्नोत्तर ? भाई लोग :)

rashmi ravija ने कहा…

बढ़िया लिंक्स संजोये हैं...

अजय कुमार झा ने कहा…

बहुते बढियां दीदी ..

थोडा रुके ,फ़िर पढे , फ़िर पढने के लिए चले । एकदम चकाचक बुलेटिन आ सुंदर लिंक्स

sushila ने कहा…

मन बड़ा होना ही नहीं चाह्ता और इच्छाओं की कोई सीमा नहीं। खुद को यहाँ देखने की भी चाह कम नहीं!

कुछ पढ़े, बहुत अच्छे लगे बाकी रूक कर....:)

रश्मि ने कहा…

सबके मन मे है वो बात...जो आपने कही...लिंक्‍स पढ़ने योग्‍य...शुक्रि‍या

मुकेश पाण्डेय चन्दन ने कहा…

सतसैया के दोहरे ज्यो नाविक के तीर
देखन में छोटे लगे , घाव करे गंभीर
रश्मि जी , सुन्दर लिंक्स तो है ही , पर बातें बड़ी मासूम है !
भोत प्याली !!

dheerendra ने कहा…

सुंदर संतुलित बेहतरीन लिंक्स,,,,,

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बढिया बुलेटिन

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

रश्मि जी,
आपके उत्तर में मैं भी शामिल हूँ. ''उम्र भले बढ़े पर...दिल तो बच्चा है जी'' मन खुश हो गया मेरा लिंक देखकर और आपका ये अनोखा अंदाज़ देखकर. धन्यवाद. शुभकामनाएँ.

Maheshwari kaneri ने कहा…

काश ! बचपन वही ठहर जाता ,भगवान तेरा क्या जाता..पर हम तो खुश होते न....जैसे कि आज मैं बहुत खुश हूँ..यहाँ लिंक देख कर...आभार....

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

जवाब तो यही बनते हैं :N ,N ,Y ,Y ,Y
पहली बार ब्लॉग बुलेटिन में स्थान मिला, आपका आभार.

बड़ा वक़्त ने कर दिया, मन है अब तक बाल
समझदार अब तक नहीं , श्वेत हो रहे बाल
श्वेत हो रहे बाल , ललचते गुब्बारे को
थोड़ा बट्टा मार , बाँट देते सारे को
कौन न चाहे लिंक , यहाँ पर नित जुड़वाना
इसकी खातिर हमें , पड़ेगा किसे मनाना

रश्मि प्रभा... ने कहा…

जिन लोगों ने जवाब दिया है , वो एक ही नाव के सवारी हैं और बाकी तो लिंक्स पढ़ने में परीक्षा देने से भाग गए - भागनेवाले एक क्लास पीछे

sushma 'आहुति' ने कहा…

khubsurat link....

सदा ने कहा…

आपकी प्रस्‍तुति और अंदाज हमेशा की तरह लाजवाब करता हुआ ...समझदारी का तो आपको पता ही है ... अब शेष नहीं कुछ कहने को .. आभार

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

बढ़िया लिंक्स

BiTTU ने कहा…

शानदार ब्लॉग जानदार पोस्ट

मीनाक्षी ने कहा…

अरे वाह यहाँ आने का मौका तो आज ही मिला....देर हो गई है फिर भी जवाब देने का मन करता है लिंक कल पढ़ेगे....
१. क्या आप बड़े हो गए हैं ?--- उम्र और तन से हाँ मन से नहीं
२. समझदारी आ गई ? -- लोग समझते हैं और हम समझते है मन तो बच्चा है
३. क्या अब गुब्बारे देख आपका मन नहीं ललचता ? - ललचाता है और बेझिझक हाथ में लेकर खुश होते है...
४. क्या मनपसंद चीज बांटने में आज भी बेईमानी नहीं होती ? - कदापि नहीं...
५. क्या आप हर दिन अपना लिंक्स यहाँ नहीं चाहते ? - हर दिन तो नहीं हाँ कभी कभी ज़रूर.. :)

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार