Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 3 दिसंबर 2011

सिर्फ़ सरकार ही नहीं लतीफे हम भी सुनाते है - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रो ,
 प्रणाम !


आज कोई भी ज्ञान नहीं ... बस एक लतीफा ... 


एक आदमी डॉक्टर के पास गया,और डॉक्टर से कहा: डॉक्टर साहब मुझे लगता है कि मेरी बीवी को सुनने में कुछ समस्या है, जितना सुनाई दिया जाना चाहिए उतना भी उसे मुश्किल से सुनाई देता है, आप ही बताएं कि मैं क्या करूँ?

 डॉक्टर ने कहा पहले तो आप वो कीजिये जो मैं कहता हूँ जब आपकी बीवी रसोई में खाना बना रही हो तो आप 15 कदम दूर से उनसे कुछ पूछना,अगर वो जवाब न दे तो थोड़ा पास जाकर फिर वही बात पूछना जब तक वो जवाब न दें!

 वह अपने घर गया उसने देखा कि उसकी बीवी रसोई में खाना पका रही है, वह कोई 15 कदम दूर खड़ा हो गया उसने आवाज लगाईं, अरे भई खाने में क्या बन रहा है?

 उसे कोई जवाब सुनाई नहीं दिया वह थोड़ा सा आगे गया!

 लगभग 10 कदम से आवाज लगाईं, उसने फिर से वही पूछा, फिर भी उसे कोई जवाब सुनाई नहीं दिया!

 आखिर में वो अपनी पत्नी के बिलकुल पीछे खड़ा हुआ और उसने फिर वही प्रश्न पूछा,अरे! आज खाने में क्या बन रहा है?

 चौथी बार कह रही हूँ चिकन! अच्छा है कि तुम अपने कान डॉक्टर को दिखा आओ! 


अब आप को यह लतीफा कैसा लगा यह तो आप बता ही देंगे ... फिलहाल ... चलते है आज की ब्लॉग बुलेटिन की ओर ...  


सादर आपका 



===================================











































=================================== 

  आज का ब्लॉग बुलेटिन यहीं तक ... अब आज्ञा दीजिये ...


जय हिंद !!           



23 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
सभी लिंक पठनीय हैं!

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

क्या कहने, बहुत सुंदर
अच्छे लिंक्स

Shah Nawaz ने कहा…

वाह!!! बेहतरीन काम किया शिवम भाई!

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

लिंकों साथ साथ चुटकुला भी बल्ले बल्ले

कुमार राधारमण ने कहा…

Apni taraf se jitni koshish kar len,koi na koi important post choot hi jati hai nazar se jise aap dhyaan men late hain.

anshumala ने कहा…

पहली बार आना हुआ आ कर अच्छा लगा , लतीफा सुना था पर अच्छा है और सही चीज दर्शा रहा है :)

सरकारी ऑनर किलिंग - - - - - - मंगोपोप्ले

इसे मंगोपोप्ले से मैंगो पीपल या mangopeople कर दे तो ठीक होता हम तो पोपले नहीं हो रहे है हा सरकार जरुर हमारी पोपली होती जा रही है हम तो दिन पर दिन ठोस होने से परेशान हुए जा रहे है :))

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

मजेदार

Gyan Darpan
.

मनोज कुमार ने कहा…

चुटकुला बहुत ही मज़ेदार रहा!
और बुलेटिन’चुटकुले जैसा!

Atul Shrivastava ने कहा…

बढिया बुलेटिन।
मजेदार लतीफा......

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

bahut se acchhe links mile. is bar aasani se apni post mil gayi :) . aabhar mujhe apne buletin me shamil karne k liye.

Vivek Rastogi ने कहा…

बढ़िया चकाचक ब्लॉग है ।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

अंशुमाला जी ... बहुत बहुत आभार आपका ... देख लीजिये भूल सुधार ली गई है !

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

लतीफा अच्छा है। पढ़ते ही सुनाई देने लगा...!

रश्मि प्रभा... ने कहा…

सरकार लतीफा नहीं सुनाती , हम उसे लतीफा बनाकर खुद को राहत देते हैं ... वैसे सुबह सुबह हंसकर तरोताजा हो गए , और फिर सबको पढ़ना - सोने पे सुहागा !

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

वन्दना ने कहा…

्सभी लिंक्स एक से बढक्र एक हैं…………बुलेटिन शानदार रहा।

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

खूबसूरत लिंक्स, बढिया बुलेटिन के लिए आभार

Suman ने कहा…

nice

AlbelaKhatri.com ने कहा…

waah !

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

बहुत बहुत आभार !

knkayastha ने कहा…

मज़ेदार लतीफा है साहब...
और लिंक्स भी बहुत अच्छे है... मेरे ब्लॉग की चीड़फाड़ करें कृपया... kavita-knkayasha.blogspot.com

देव कुमार झा ने कहा…

हा हा, बहुत बढिया....

anjali rastogi ने कहा…

padhne ki bhuk badh gayi sunder

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार