Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 13 फ़रवरी 2018

ब्लॉग की भागीरथी : विशेष ब्लॉग-बुलेटिन

ज़माना चाहे केतनो एडभांस हो जाए, अन्धबिस्वास खतम नहीं होता है अऊर लोग अजीब अजीब तरह का अन्धबिस्वास पालने लगता है. अब ई अन्धबिस्वास का न गोड़ होता है न हाथ, मगर चलता त है. अब बताइये कि दही खाकर जाने से काम सफल होता है, त इसमें दही का कमाल है कि ऊ आदमी का, जो मेहनत किया! करिया बिलाई के रास्ता काटने से खतरा. सोचिये कि कहीं गलती से बिलाई का एक्सीडेंट हो गया त ऊ बिलाई का सोचेगी. लेकिन हम त बिलाई रास्ता काट जाए त जानकर पार कर लेते हैं कि रास्ता में आने-जाने वाला मुसाफिर लोग को दिक्कत न हो.

अन्धबिस्वास का सम्बन्ध खाली आदमी, जानवर या छींकने-खांसने भर से नहीं है, बल्कि आँकड़ा यानि नंबर से भी है. हस्पताल में तेरह नंबर का बेड नहीं होता है अऊर अभी जब हम फ़्लैट खरीदने गए त देखे कि उसमें भी १३वां फ्लोर नहीं होता है. बहुत सा लोग ई सब चक्कर में पडता है.

अब हमसे कोई कहे त हमको १३ नम्बर से कोई सिकायत नहीं है. अऊर होना भी नहीं चाहिए. बचपन में मास्टर लोग सजा देने के लिये तेरह का पहाड़ा पूछते थे. मगर हमको मुँहजबानी याद था, त काहे घबराएं हम. अब आज तेरह तारीख है, त सब लोग छुट्टी लेकर घरे बइठ त नहीं जाएगा.

ई सब छोड़ दीजिए, अऊर सोचिये कि हम आपको अगर बताएँ कि आज फरवरी महीना का तेरह तारीख है त आप का सोचेंगे?? अब ई मत कहियेगा कि आज हम एक दिन के हो गए थे. चलिए हम बता देते हैं – 


आज के दिन हमारे ब्लॉग-बुलेटिन की बरिष्ठ सदस्य, हम सब की दीदी अऊर आप लोगों को ब्लॉग के जादुई दुनिया का सैर करवाने वाली रश्मि प्रभा जी का जनमदिन है.

दीदी के बेक्तित्व के बारे में कहने के लिये एक पोस्ट पूरा नहीं पडेगा, एतना बिस्तृत है इनका बेक्तित्व. दादी-नानी का दायित्व निभाते हुए भी साहित्त के प्रति अपना दायित्व निभाना नहीं भूलती हैं. एगो लगातार बहते रहने वाला नदी के धारा के तरह बिना रुके अपना सिरजन संसार में मगन रहती हैं. कभी पौराणिक पात्र के अस्थान पर अपने आप को रखकर इतिहास से सवाल पूछती हैं, कभी अपने जवाब से पूरा इतिहास को चुनौती देती हैं. अपना जीवन का बिसाल अनुभव छोटा छोटा बक्तव्य में सारा दुनिया के साथ बांटती हैं.

रश्मि दीदी का जीवन एतना उतार चढ़ाव से भरा रहा है कि अगर कोनो उपन्यासकार को मौक़ा मिलता त ऊ अइसा उपन्यास लिख देता कि जिसको न जाने केतना सम्मान, पुरस्कार अऊर का कहते हैं बेस्ट-सेलर का दर्जा मिल जाता. का मालूम कोई लिखकर पुरस्कार भी पा चुका होगा. मगर दुनिया का एही रीत है कि सफलता के सीढी पर चढता हुआ अदमी नीचे वाला सीढी को पैर से दबाता है अऊर ऊपरवाला को चूमता जाता है. उपन्यास सफल हो जाए त नाम लेखक का, किसको याद रहता है कि उसमें कऊन चरित्र था, का कहानी था, घटना का था.

खैर रश्मि दी का सादगी उनका सबसे सरल परिचय है. अपना बहुत सा कबिता ऊ हमको भेजती हैं, उसपर हमरा बिचार पूछती हैं, हमसे बिमर्स करती हैं अऊर हमारा सुझाया हुआ सुधार चाहे परिबर्तन करते हुये तनिक्को संकोच नहीं करती हैं. नहीं त इहाँ लोग के अहंकार का बैलून एतना भरा हुआ होता है कि आपके आलोचना का सुई उसमें बिस्फोट करने के लिये काफी होता है, अऊर त अऊर, जिन्नगी भर के लिये बोलचाल बन्द हो जाता है सो अलग.

खैर जाने दीजिये, आज के दिन जस्न का दिन है. इसलिये ब्लॉग-बुलेटिन के टीम के साथ-साथ सब पाठक लोग मिलकर सुभकामना का सोर मचाएँ उस भागीरथी के लिये जिसका एक-एक लहर कबिता के छन्द से बना है!



हैप्पी बर्थ-डे, रश्मि दी !!!

                                      सलिल वर्मा


मेरी भावनायें...: इससे ऊपर कोई परिचय क्या ?



9 टिप्पणियाँ:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

सागर तो हूँ
लगता है मुझे भी
लेकिन कोई सीप मोतीवाला है अंदर
नहीं जान पाई ...
जाने कौन मेरा नाम बनकर लिखता है
अजनबी होकर ही खुद को पढ़ा है
...
सलिल भाई के इस स्नेहिल सम्मान को बहुत आशीष

vibha rani Shrivastava ने कहा…

आज लेखन की दुनिया में बहुत ऐसे एकलव्य होंगे जिनके द्रोण रश्मि जी होंगी तो कुछ मेरे जैसे पाठक भी टिके हैं ब्लॉग की दुनिया में उनकी ही वजह से
असीम शुभकामनाओं के संग हार्दिक बधाई जन्मदिन की रश्मि जी 🎂

SKT ने कहा…

Hamari bhi shubhkamanayen

Meena Sharma ने कहा…

जाने कौन मेरा नाम बनकर लिखता है
अजनबी होकर ही खुद को पढ़ा है ....
इन पंक्तियों में ही आदरणीय रश्मि प्रभा जी के दर्शन हो गए.... जन्मदिन की उन्हें अनंत शुभकामनाएँ...सादर, सस्नेह ।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

प्रणाम दीदी!!

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह सलिल जी इससे अच्छा जन्मदिन नहीं मनाया जा सकता है। साधुवाद। आदरणीय रश्मिप्रभा जी के लिये अनन्त शुभकामनाएं। स्वस्थ रहें खुश रहें।

sanjay jha ने कहा…


हैप्पी बर्थ-डे, रश्मि दी !!!......Bajariye...salil bhaiji .......pranam.

sadhana vaid ने कहा…

बहुत सुन्दर परिचय दिया सलिल जी रश्मि प्रभा जी का ! रश्मि प्रभा जी को जन्मदिन की अनंत अशेष शुभकामनायें ! उन्हें कौन नहीं जानता लेकिन आपके माध्यम से उन्हें इस तरह जानना बहुत अच्छा लगा ! महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें !

शिवम् मिश्रा ने कहा…

रश्मि दीदी को सादर प्रणाम सहित जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार