Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 11 जनवरी 2018

श्रद्धा-सुमन गुदड़ी के लाल को : ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय साथियो,
आज का दिन भारतीय इतिहास में काले दिन के रूप में याद किया जाना चाहिए. आज, 11 जनवरी को गुदड़ी के लाल कहे जाने वाले लाल बहादुर शास्त्री जी का निधन हो गया था. सन 1966 में ताशकंद समझौते के बाद ताशकंद में ही शास्त्री जी का निधन हो गया था. कहा जाता है कि उनको दिल का दौरा पड़ा था मगर तत्कालीन स्थितियाँ कुछ और ही कहती थीं. सूत्र बताते हैं कि उनकी देह नीली पड़ गई थी और उनका पोस्टमार्टम भी नहीं करवाया गया था. उनकी मृत्यु को लेकर आज तक संशय बना हुआ है और इसे लेकर कोई आधिकारिक रिपोर्ट भी सामने नहीं लाई गई है. उनके परिजन भी समय-समय पर उनकी मौत का सवाल उठाते रहे हैं. यह देश के लिए एक शर्म का, दुर्भाग्य का विषय है कि उसके इतने योग्य नेता की मौत का कारण आज तक साफ नहीं हो पाया है. (लाल बहादुर शास्त्री जी के बारे में विस्तार से यहाँ से जानें)


शास्त्री जी एक प्रसिद्ध भारतीय राजनेता, महान् स्वतंत्रता सेनानी और भारत के दूसरे प्रधानमंत्री थे. वे एक ऐसी हस्ती थे जिन्होंने प्रधानमंत्री के रूप में देश को न सिर्फ सैन्य गौरव का तोहफा दिया बल्कि हरित क्रांति और औद्योगीकरण की राह भी दिखाई. शास्त्री जी किसानों को देश का अन्नदाता मानते थे और सैनिकों के प्रति भी उनके मन में अगाध प्रेम था. इसी के चलते उन्होंने जय जवान, जय किसान का नारा दिया. उनकी दूरदर्शिता भारत-पाकिस्तान युद्ध में नजर आई. उनके प्रधानमंत्री बनने के बाद सन 1965 में पाकिस्तान ने कश्मीर घाटी को भारत से छीनने की योजना बना कर देश पर हमला कर दिया. उसके नापाक इरादों का जवाब देते हुए शास्त्री जी ने दूरदर्शितापूर्ण कदम उठाते हुए पंजाब के रास्ते लाहौर में सेंध लगा पाकिस्तान को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया. पाकिस्तान ने अपनी पराजय के बाद तत्कालीन सोवियस संघ से समझौते के लिए संपर्क साधा. न चाहते हुए भी विश्व समुदाय के दवाब के चलते शास्त्री जी सन 1966 में पाकिस्तान के साथ शांति समझौता करने के लिए राजी हो गए और ताशकंद पहुँच गए. इस समझौते पर हस्ताक्षर के कुछ घंटों बाद ही उनका देहांत हो गया.




आज उनकी पुण्यतिथि पर बुलेटिन परिवार की ओर से उनको श्रद्धा-सुमन अर्पित हैं...

++++++++++














5 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

नमन शास्त्री जी को उनकी पुण्यतिथी पर। सुन्दर बुलेटिन।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति !
लाल बहादुर शास्त्री जी को श्रद्धा सुमन!

संजय भास्‍कर ने कहा…

सुन्दर बुलेटिन।

yashoda Agrawal ने कहा…

आदरांजली लालबहादुर जी शास्त्री को
एक सधी हुई बुलेटिन
आभार
सादर

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

आपका हृदय से आभार आदरणीय

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार