Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 2 नवंबर 2017

लोग और उनके प्रश्न !





.............

आपका नाम ?
कहाँ से ?
जाति ?
उम्र ?
पति कहाँ हैं ?
.... साथ नहीं रहती, सीधा जवाब देते स्त्री सोचती है अब सब स्पष्ट कर दिया ... पर नहीं !
कुछ देर के खोजिया स्थिति के बाद ...
कहाँ रहते हैं ?
दूसरी शादी कर ली क्या ?
वजह क्या थी ?
बच्चों के बारे में पूछते होंगे ?
बच्चों से तो प्यार होगा ही ?
.....
घूमकर ऐसी ही ज़िन्दगी जब इनके साथ इसी रूप में खड़ी होती है तो इनका विलाप होता है ...
उस आदमी को कीड़े पड़ें
शादी करे या जो मर्ज़ी हो, मैं बहुत सरल थी ... इसीलिए क्या भगवान तुमने ये सज़ा दी ! 


4 टिप्पणियाँ:

vibha rani Shrivastava ने कहा…

अनेकानेक सवाल पूछने वालों से एक सवाल उनके किसी निजी बातों पर पूछ दिया जाए तो....
उम्दा लिंक्स चयन

वाणी गीत ने कहा…

ऐसे पूछने वालों को शक का लाभ भी दिया जा सकता है...कई बार लोग अनजाने में भी पूछ लेते हैं...जब हम दुख में होते हो तो बात चुभ जाती है चाहे सामान्यत: ही कही गई हो.

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन ।

सदा ने कहा…

बेहतरीन लिंक्स संयोजन ...आभार

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार