Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 1 अक्तूबर 2017

आविष्कार हो या परिवर्तन लाभ-हानि होते ही हैं !


तर्क, मान्यता , तर्क  ... कुछ समय बाद मान्यताओं की धज्जियाँ और कुतर्क 
कभी रुका है क्या ?
जो कुछ सोलहवीं सदी में था 
वह सतरहवीं में था क्या ?  .... वक़्त के साथ आविष्कार, परिवर्तन आदि होते ही रहते हैं , 
और आविष्कार हो या परिवर्तन 
लाभ-हानि होते ही हैं !


2 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

" तर्क, मान्यता , तर्क ... कुछ समय बाद मान्यताओं की धज्जियाँ और कुतर्क कभी रुका है क्या ?"

जी सही फरमाया । कभी नाव गधों पर कभी गधे नाँव के ऊपर समय कुतर्कों का है किये जा रहे हैं :)
आभार आज की छोटी सी बुलेटिन में 'उलूक' के पन्ने को भी जगह देने के लिये रश्मि प्रभा जी।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति ..

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार