Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 2 सितंबर 2017

हिन्दी ग़ज़ल सम्राट दुष्यंत कुमार से निखरी ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय मित्रों,


हिन्दी ग़ज़ल में जो लोकप्रियता दुष्यंत को मिली,
वो किसी विरले कवि को है मिलती.
हिन्दी के ऐसे कवि-ग़ज़लकार हैं वे अब तक,
जिनका लेखन गूँजता है सड़क से संसद तक.  
यूँ तो अनेक विधाओं में उनकी कलम चली,
किन्तु ग़ज़लों को ही अपार लोकप्रियता मिली.
जन्मस्थान बिजनौर का ग्राम राजपुर नवादा,
दिन था वो 1 सितम्बर 1933 का.
इलाहाबाद विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त करके,
आकाशवाणी भोपाल में असिस्टेंट प्रोड्यूसर बने.
नाम दुष्यंत कुमार त्यागी स्वभाव से सहज-मनमौजी,
आरम्भ में रचनाएँ की बनकर दुष्यंत कुमार परदेशी.
साहित्य की दुनिया में पदार्पण किया था जब,
प्रगतिशील शायरों, कवियों का राज था तब.  
ग़ज़लों में ताज भोपाली औ क़ैफ़ भोपाली छाये थे,
अज्ञेय और मुक्तिबोध हिन्दी की कठिन बनाये थे.
तब सहज ग़ज़ल लिख उसे कठिनता से निकाला,
प्रसिद्धि पाई और हिन्दी में ग़ज़ल को निखारा.
साये में धूप एकमात्र ग़ज़ल संग्रह उनका,
आज भी साहित्य-प्रेमियों के बीच जाता है सराहा.
30 दिसम्बर 1975 को हिन्दी गज़लकार सो गया,
42 वर्ष की अल्पायु में उनका निधन हो गया.
उनका नाम अमर रहेगा हिन्दी ग़ज़ल में,
आवाज़ बन उभरेगा जन-जन के दिल में.


हिन्दी ग़ज़ल के निर्विवाद नायक को काव्यात्मक श्रद्धांजलि के साथ काव्यात्मक-बुलेटिन

++++++++++














8 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

नमन दुष्ययंत जी को। बहुत सुन्दर बुलेटिन।

सदा ने कहा…

सादर नमन

डॉ. अपर्णा त्रिपाठी ने कहा…

दुष्यन्त जी के बारे में सटीक जानकारी। बुलेटिन में मेरी रचना को स्थान देने के लिये धन्यवाद

yashoda Agrawal ने कहा…

शुभ प्रभात राजा साहब...
सादर नमन
हिन्दी ग़ज़ल के जनक को
आभार आपको
सादर

Meena Sharma ने कहा…

आदरणीय,मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए हार्दिक आभार प्रकट करती हूँ। साथ ही अपने आपको भाग्यशाली मानती हूँ कि पहली बार जिस ब्लॉग बुलेटिन में आई हूँ वह मेरे अजीज़ शायर एवं कवि दुष्यंत कुमार जी से जुड़ा हुआ है । सादर धन्यवाद ।

Kavita Rawat ने कहा…

ग़ज़ल सम्राट दुष्यंत कुमार जी को हार्दिक श्रद्धा सुमन!
बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

आ0 विशेष आभार । दुष्यंत कुमार जी को सादर श्रद्धांजलि

Shilpa Agrawal ने कहा…

मेरी कविता " स्त्रीत्व का सृजन" को ब्लॉग बुलेटिन में स्थान देने के लिए सादर धन्यवाद |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार