Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 3 अप्रैल 2017

सैम मानेकशॉ और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।
सैम मानेकशॉ
सैम मानेकशॉ (अंग्रेज़ी:Sam Manekshaw) पूरा नाम 'सैम होर्मूसजी फ़्रेमजी जमशेदजी मानेकशॉ' (जन्म: 3 अप्रैल 1914 - मृत्यु: 27 जून 2008) भारतीय सेना के अध्यक्ष थे जिनके नेतृत्व में भारत ने सन् 1971 में हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध में विजय प्राप्त किया था जिसके परिणामस्वरूप बांग्लादेश का जन्म हुआ था। अदम्य साहस और युद्धकौशल के लिए मशहूर, भारतीय सेना के इतिहास में स्वर्णिम दस्तखत करने वाले सबसे ज्यादा चर्चित और कुशल सैनिक कमांडर पद्म भूषण, पद्म विभूषण सैम मानेकशॉ भारत के पहले 'फ़ील्ड मार्शल' थे। अपने 40 साल के सैनिक जीवन में उन्होंने दूसरे विश्व युद्ध के अलावा चीन और पाकिस्तान के साथ हुए तीनों युद्धों में भी भाग लिया था। उनके दोस्त उन्हें प्यार से 'सैम बहादुर' कहकर बुलाते थे।



आज भारत माता के वीर जवान सैम मानेकशॉ के 103वें जन्म दिवस पर हम सब उनके योगदान को याद करते हुए उन्हें शत शत नमन करते हैं। जय हिन्द। जय भारत।।  


अब चलते हैं आज की बुलेटिन की ओर...

















आज की बुलेटिन में सिर्फ इतना ही कल फिर मिलेंगे, तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।।

11 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

कल मिस किया बुलेटिन को :(
आज की सुन्दर बुलेटिन में 'उलूक' के चोर सिपाही को जगह देने के लिये आभार हर्षवर्धन।

yashoda Agrawal ने कहा…

शुभ संध्या भाई हर्षवर्धन जी
अच्छी रचनाएं पढ़वाई आपने
आभार
सादर

अर्चना चावजी Archana Chaoji ने कहा…

ऐसे वीर जांबाज को सैल्यूट
और आपका आभार

Sudha Devrani ने कहा…

उम्दा रचनाओं से सजी ब्लॉग बुलेटिन....
वाह!!!

Digamber Naswa ने कहा…

देश के अमर सिपाही को नमन है मेरा ....
सुन्दर बुलेटिन ... आभार मुझे शामिल करने का ...

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति
अमर वीर जवान को नमन!

sadhana vaid ने कहा…

खूबसूरत सूत्रों का नायाब संकलन आज का बुलेटिन ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद हर्षवर्धन जी !

Anita ने कहा…

सैम बहादुर की पुण्य स्मृति को सादर नमन..आभार !

HARSHVARDHAN ने कहा…

आप सभी का सादर ... आभार।

JEEWANTIPS ने कहा…

बहुत प्रभावपूर्ण रचना......
मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपके विचारों का इन्तज़ार.....

Manju Mishra ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ! मेरी रचना को यहाँ स्थान देके के लिए अाभार

सादर
मंजु मिश्रा
www.manukavya.wordpress.com

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार