Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 20 अप्रैल 2017

काम की बात - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज ज्यादा बातचीत न करते हुये सीधे सीधे आप को एक काम की बात बताता हूँ ...

आप किसी की भी 'तारीफ' कर सकते हैं, लेकिन बेइज़्जती' नाप-तौल कर करनी चाहिये, क्योंकि . . ये वो उधार है, जो हर कोई 'सूद' समेत वापस करता है!

तो ज़रा ख़्याल रखिएगा |

सादर आपका

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ 

चुटकी भर प्यार

राक्षस धर्म और संस्कृति

प्यार किया उनसे तो यह रिश्ता है निभाना

{३४०} नज़रों से दरकिनार मत करना

पान मसाला छोड़ने के १५ साल बाद भी...

अवध बनाम लखनऊ

आस्तिक देश के नास्तिक लोग...

अचारी पनीर बनाने की विध‍ि

असहमति में बसते हैं लोकतन्त्र के प्राण

अंगूठा

यूँ ही तुम्हारे साथ इक सफर याद आ गया...!!!

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

10 टिप्पणियाँ:

मनोज भारती ने कहा…

एक सही संदेश !!!

yashoda Agrawal ने कहा…

शुभ प्रभात
वाह..बहुत सुन्दर शिक्षा
बेइज़्ज़ती करे ही क्यूँ
वही करें न जो
सूद सहित वापस मिले..
इज़्ज़त व तारीफ़...
सही व सटीक सीख दी है
भाई शिवम दी आपने
कायल हो गई आपकी मैं
सादर

विकास नैनवाल ने कहा…

एक जानकारीवर्धन करने वाला बुलेटिन. आपका आभार!

अर्चना चावजी Archana Chaoji ने कहा…

sahi salah !

anamika ghatak ने कहा…

SHUKRIYA....SABHI LINKS PADH KAR ACHHA LAGA....MEHANAT RANG LAI

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बढ़िया :)

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति

HARSHVARDHAN ने कहा…

सत्य वचन। आभार शिवम् भईया।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

anamika ghatak ने कहा…

सभी रचनाएँ उत्तम एवं पठनीय

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार