Subscribe:

Ads 468x60px

शुक्रवार, 6 जनवरी 2017

ब्लॉग बुलेटिन - हमारे बीच नहीं रहे बेहतरीन अभिनेता ~ ओम पुरी

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।।
om puri के लिए चित्र परिणाम
ओम राजेश पुरी ( Om Puri; जन्म- 18 अक्टूबर, 1950, अम्बाला, पंजाब ) हिन्दी फ़िल्मों के उन प्रसिद्ध अभिनेताओं में से एक थे, जो अपनी अभिनय क्षमता से किसी भी किरदार को पर्दे पर जीवंत करने में सक्षम थे। वे भारतीय सिनेमा के एक कालजयी अभिनेता थे। उनके अभिनय का हर अन्दाज दर्शकों को प्रभावित करता है। रूपहले पर्दे पर जब ओम पुरी का हँसता-मुस्कुराता चेहरा दिखता है तो दर्शकों को भी अपनी खुशियों का अहसास होता है और उनके दर्द में दर्शक भी दु:खी होते हैं। हिन्दी फ़िल्मों में उनके बहुमूल्य योगदान के लिए उन्हें 'राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार', 'फ़िल्म फ़ेयर पुरस्कार' और 'पद्मश्री' आदि से भी सम्मानित किया गया था। ओम पुरी हिन्दी सिनेमा के वह सितारे थे, जिन्हें लोग हर भूमिका में देखना पसंद करते थे। कलात्मक सिनेमा हो या कमर्शियल सिनेमा, वह सभी जगह अपना प्रभाव छोड़ने में सफल रहे।

कहा जाता है कि ओम पुरी को पहली फ़िल्म के मेहनताने में मूंगफलियां मिली थीं। ओम पुरी के फ़िल्मी कॅरियर की शुरुआत 1976 में मराठी फ़िल्म 'घासीराम कोतवाल' से हुई थी। यह फ़िल्म विजय तेंडुलकर के मराठी नाटक पर आधारित थी। ओम पुरी का कहना था कि तब उन्हें अच्छे काम के लिए मूंगफलियां मिली थीं। ओम पुरी ने एक चरित्र अभिनेता के अलावा निगेटिव किरदार भी निभाए। उनकी कॉमिक टाइमिंग गजब की थी। उन्होंने 'जाने भी दो यारों' जैसी डार्क कॉमिडी से लेकर आज के जमाने की हंसोड़ फ़िल्मों में काम किया। हाल ही में उन्होंने हॉलिवुड एनिमेशन फ़िल्म 'जंगल बुक' में एक किरदार को अपनी आवाज़ भी दी थी। उनकी आखिरी कमर्शल फ़िल्म 'घायल वन्स अगेन' थी। उनकी मशहूर आर्ट फ़िल्मों में 'अर्ध सत्य', 'सद्गति', 'भवनी भवाई', 'मिर्च मसाला' और 'धारावी' आदि शामिल हैं। 'हेराफेरी', 'सिंह इज किंग', 'मेरे बाप पहले आप', 'बिल्लू' जैसी फ़िल्मों में उन्होंने दर्शकों को खूब हंसाया।

अपने बेजोड़ अभिनय से भारतीय सिनेमा में कभी न मिट सकने वाली पहचान बनाने वाले अभिनेता ओम पुरी का निधन 6 जनवरी, 2017 की सुबह दिल का दौरा पड़ने से उनके अंधेरी, मुम्बई स्थित आवास में हुआ।


आज हम सब भारत के इस बेहतरीन अदाकार और सशक्त अभिनय के महारथी ओम पुरी जी के आकस्मिक निधन पर शोक और संवेदना व्यक्त करते हैं। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। विनम्र श्रद्धांजलि।।


अब चलते हैं आज की बुलेटिन की ओर .... 













आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे। तब तक के लिए अलविदा। सादर।।

8 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

ओम पुरी जी को श्रद्धांंजलि ।

Babita Singh ने कहा…

ओम पुरी एक बेहतरीन अभिनेता थे । इनका निधन हम सब के लिए बहुत बडी क्षति है ।

Babita Singh ने कहा…

ओम पुरी एक बेहतरीन अभिनेता थे । इनका निधन हम सब के लिए बहुत बडी क्षति है ।

Anita ने कहा…

ओमपुरी जी का अभिनय सदा याद किया जायेगा। इस महान कलाकार को भावभीनी श्रद्धांजलि ! सुंदर सूत्रों से सजा बुलेटिन, आभार !

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति
ओमपुरी जी को सादर श्रद्धांंजलि

anshumala ने कहा…

ओमपुरी जी को श्रद्धांंजलि !

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

अदाकारी की दुनिया में एक ठण्डी हवा के झोंके की तरह आये और चले गए! परमात्मा उनकी आत्मा को शान्ति दे!

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

अदाकारी की दुनिया में एक ठण्डी हवा के झोंके की तरह आये और चले गए! परमात्मा उनकी आत्मा को शान्ति दे!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार