Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 29 जनवरी 2017

बीटिंग रिट्रीट 2017 - ब्लॉग बुलेटिन

नमस्कार साथियो,
आज दिल्ली के विजय चौक पर हुये 'बीटिंग रिट्रीट' के साथ ही इस साल के गणतंत्र दिवस समारोह का समापन हो गया. बीटिंग रिट्रीट गणतंत्र दिवस समारोह की समाप्ति का सूचक है. इस कार्यक्रम में थल सेना, वायु सेना और नौसेना के बैंड पारंपरिक धुन के साथ मार्च करते हैं. आज इनके साथ बीएसएफ, सीआरपीएफ और दिल्ली राज्य पुलिस के बैंड्स ने भी अपनी सहभागिता की. यह सेना की बैरक वापसी का प्रतीक होता है जो परम्पराओं और आधुनिकता का निर्वहन करता है.


गणतंत्र दिवस के पश्चात हर वर्ष 29 जनवरी को बीटिंग रिट्रीट कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है. समारोह का स्थल रायसीना हिल्स के नजदीक स्थित विजय चौक होता है, जो राजपथ के अंत में राष्ट्रपति भवन के उत्तर और दक्षिण ब्लॉक द्वारा घिरा है. बीटिंग रिट्रीट गणतंत्र दिवस आयोजनों का आधिकारिक रूप से समापन घोषित करता है. रिट्रीट धुन के बजने के साथ ही राष्ट्रीय ध्वज को सम्मान-पूर्वक उतारकर ले जाया जाता है. सभी महत्‍वपूर्ण सरकारी भवनों को 26 जनवरी से 29 जनवरी के बीच रोशनी से सुंदरता पूर्वक सजाया जाता है.






प्रतिवर्ष 29 जनवरी की शाम को अर्थात गणतंत्र दिवस के बाद अर्थात गणतंत्र की तीसरे दिन बीटिंग रिट्रीट आयोजन किया जाता है. यह आयोजन तीन सेनाओं के एक साथ मिलकर सामूहिक बैंड वादन से आरंभ होता है जो लोकप्रिय मार्चिंग धुनें बजाते हैं. इस बार के आयोजन में सोलह मिलिट्री और सोलह पाइप बैंड ड्रमर इसमें शामिल हुए. बीटिंग रिट्रीट 2017 में राग यमन की प्रस्तुति पहली बार हुई है. पूरे आयोजन में इस बार कुल 26 प्रस्तुतियाँ हुईं जिनमें से ज्यादातर देशी धुनों पर आधारित रहीं. स्क्वाड्रन लीडर जी. रामचंद्रन आज के समारोह में प्रिंसिपल कंडक्टर रहे.



ड्रमर भी एकल प्रदर्शन (जिसे ड्रमर्स कॉल कहते हैं) करते हैं. ड्रमर्स द्वारा एबाइडिड विद मी (यह महात्मा गाँधी की प्रिय धुनों में से एक कही जाती है) बजाई जाती है, इसे विलियम एच० मग ने तैयार किया था. इसके अलावा ट्युबुलर घंटियों द्वारा चाइम्‍स बजाई जाती हैं, जो काफ़ी दूरी पर रखी होती हैं और इससे एक मनमोहक दृश्‍य बनता है. इसके बाद रिट्रीट का बिगुल वादन होता है, जब बैंड मास्‍टर राष्‍ट्रपति के समीप जाते हैं और बैंड वापिस ले जाने की अनुमति मांगते हैं. तब सूचित किया जाता है कि समापन समारोह पूरा हो गया है. बैंड मार्च वापस जाते समय लोकप्रिय धुन सारे जहाँ से अच्‍छा बजाते हैं. ठीक शाम 6 बजे बगलर्स रिट्रीट की धुन बजाते हैं और राष्‍ट्रीय ध्‍वज को उतार लिया जाता हैं तथा राष्‍ट्रगान गाया जाता है और इस प्रकार गणतंत्र दिवस के आयोजन का औपचारिक समापन होता है.



आज शाम को हुये इस कार्यक्रम को नीचे दिये वीडियो पर देख सकते है. यह वीडियो दूरदर्शन के यू ट्यूब चैनल से लिया गया है. इस साल भी दूरदर्शन ने पिछले सालों की तरह यू ट्यूब पर बीटिंग द रिट्रीट कार्यक्रम का सीधा प्रसारण  किया था. इसे आप इस वीडियो के द्वारा देख सकते हैं. 



++++++++++














6 टिप्पणियाँ:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

भारतीय होने पर गर्व होता है

Alpana Verma अल्पना वर्मा ने कहा…

बीटिंग रिट्रीट की रिपोर्ट और तस्वीरें देखीं,बहुत अच्छा लगा.
ब्लॉग बुलेटिन में मेरी पोस्ट को जगह मिली इस हेतु सादर धन्यवाद.

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुन्दर प्र्स्तुति ।

Kavita Rawat ने कहा…

गणतंत्र दिवस समारोह की सुन्दर प्रस्तुति एवं झलकियां..

laxmikant jawney ने कहा…

जुड़े लोग, अद्यतन रहने का संतोष प्राप्त कर सकते हैं | आपके इस अर्थपूर्ण प्रयास के लिए साधुवाद |

शिवम् मिश्रा ने कहा…

जय हिन्द !!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार