Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 27 नवंबर 2016

2016 अवलोकन माह नए वर्ष के स्वागत में - 13




एक मरहम कहूँ 
या एक आग 
ओस सी नज़्म 
या बेचैनी का उठता धुआँ  ... गौतम राजरिशी जिनको पढ़नेवाले कई पाठक थे, मैं भी एक पाठक की हैसियत से पहुँची थी इस ब्लॉग पर, लेकिन आक्रोश की चिंगारियों में थी दबी रुलाई  ... और कर्तव्य, 
और उबरने के लिए शायरी !!!
सुनकर अजीब लगा होगा, तो देखिये ये कुछ लिंक्स, फिर बढ़ेंगे 2016 के पायदान पर  ... 


हँसना एक चाह है, 
सच पूछो तो दम बहुत घुटता है !!!  ... 
सच के सहनशील शरीर पर 
कूदता है झूठ 
वो सोचते हैं हम समझते नहीं 
लेकिन हम उनकी हर नब्ज़ पहचानते हैं  ... 

2016 की श्रेष्ठ रचना मेरी नज़र से -



शब्दों की बेमानियाँ...बेईमानियाँ भी | लफ़्फ़ाजियाँ...जुमलेबाजियाँ...और इन सबके बीच बैठा निरीह सा सच | तुम्हारा भी...मेरा भी | 

तुम्हारे झूठ पर सच का लबादा
तुम्हारे मौन में भी शोर की सरगोशियाँ
तुम्हारे ढोंग पर मासूमियत की
न जाने कितनी परतें हैं चढी

मुलम्मा लेपने की हो
अगर प्रतियोगिता कोई
यक़ीनन ही विजय तुमको मिलेगी
विजेता तुम ही होगे

किसी के झूठ कह देने से होता हो 
अगर सच में कोई सच झूठ
तो लो फिर मैं भी कहता हूँ
कि तुम झूठे हो, झूठे तुम

तुम्हारा शोर झूठा है
तुम्हारा मौन झूठा है
तुम्हारे शब्द भी झूठे
तुम्हारी लेखनी में झूठ की स्याही भरी है बस

तुम्हें बस वो ही दिखता है
जो लिक्खे को तुम्हारे बेचता है
तुम्हारे सच को सुविधा की 
अजब आदत लगी है

यक़ीं मानो नहीं होता
समूचा झूठ बस इक झूठ भर
मगर फिर सोचता हूँ
कि ऐसा कह के भी हासिल
भला क्या
कि आख़िर झूठ भी तो एक कविता है 

7 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सच भी है कविता झूठ भी है कविता
सच क्या है झूठ को है सब कुछ पता ।

बहुत सुन्दर कविता । सुन्दर बुलेटिन ।

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

बहुत खूब।

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

शानदार कविता.

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

शानदार कविता.

mahendra verma ने कहा…

कविता की भावभूमि में आकर्षण है ।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुंदर

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार