Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 14 सितंबर 2016

ब्लॉग बुलेटिन - हिन्दी दिवस

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।
हिन्दी दिवस प्रत्येक वर्ष 14 सितम्बर को मनाया जाता है। 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया कि हिन्दी ही भारत की राजभाषा होगी। इसी महत्वपूर्ण निर्णय के महत्व को प्रतिपादित करने तथा हिन्दी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिये राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर सन् 1953 से संपूर्ण भारत में 14 सितंबर को प्रतिवर्ष हिन्दी-दिवस के रूप में मनाया जाता है।
आज हिन्दी डिजिटल हो गयी है और हिन्दी इंटरनेट पर तेजी से बढ़ रही है। ऑनलाइन हिन्दी का प्रयोग तेजी से बढ़ रहा है। हिन्दी अगले 4-5 वर्षों में विश्व की सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओं में 2 नंबर पर होगी। हिन्दी के आने वाले दिन अच्छे हैं और हमारी हिन्दी तेजी से प्रगति कर रही है। इसीलिए शान से हिन्दी सीखिए, पढ़िए और लिखिए।

जय भारत। जय हिन्दी।।

अब चलते हैं आज की बुलेटिन की ओर...


हिन्दी का तुक

हिंदी दिवस की सार्थकता

परिप्रेक्ष्य : हिंदी दिवस (रोमन लिपि में हिन्दी का कुतर्क) : राहुल राजेश

हिंदी और रोजगार की भाषा / हिंदी दिवस विशेष / डॉ. हरीश कुमार

भारतीय मातृ भाषाओँ को समेटती अंग्रेजी / (हिंदी दिवस पर विशेष लेख )/ सुशील कुमार शर्मा

न्यू टाइप हिंदी में हैपी हिंदी डे!

क्यों हर बच्चे के लिए राष्ट्रभाषा हिन्दी में सुशिक्षित होना है ज़रूरी!

कम्यूनिस्ट की या संघी की? हिंदी किसकी भाषा ? एम् एम् चन्द्रा (व्यंग्य कथा)

हिंदी दिवस

मातृभाषा, माँ बोली !!!

कल की बोली आज की भाषा - कैलाश वाजपेयी ( हिन्दी दिवस पर विशेष )


आज की बुलेटिन में सिर्फ इतना ही कल फिर मिलेंगे। जय हिन्द। जय हिन्दी। जय भारत।।

8 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

हिंदी दिवस की शुभकामनाएं । बहुत सुन्दर प्रस्तुति हर्षवर्धन ।

अजय कुमार झा ने कहा…

बुलेटिन टीम को हिंदी दिवस की बहुत बहुत शुभकामनायें | बहुत ही सुन्दर लिंक्स सहेजे हैं हर्ष अब जाकर एक एक पोस्ट को पढता हूँ | शुक्रिया

Kavita Rawat ने कहा…

हिंदी दिवस का बहुत अच्छा संकलन ..
सामयिक प्रस्तुति हेतु आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

सभी को हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं |

वैसे ... जो ३६४ दिन अंग्रेजी का पल्ला पकड़ कर चलते हो , वो एक दिन 'हिंदी दिवस' मनाए ...

यहाँ तो साल में ७३० बार 'हिंदी दिवस' मनाया जाता है - जी हाँ ७३० बार ...

रात को हम कौन सी अंग्रेजी बोलते है ... ;)

Jayanti Prasad Sharma ने कहा…

हिंदी दिवस की सुन्दर प्रस्तुति

Jayanti Prasad Sharma ने कहा…

हिंदी दिवस की सुन्दर प्रस्तुति

विकास नैनवाल ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति।

Gopesh Jaswal ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन में हिंदी दिवस के अवसर पर हिंदी के विकास पर उपयोगी जानकारी मिली. हिंदी का विकास किसी भी भाषा का विरोध करने से संभव नहीं है बल्कि अन्य भाषाओँ की अच्छाइयाँ उसमें शामिल करने से संभव है.

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार