Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 17 जुलाई 2016

दिल धड़कने दो ...

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

इस दुनिया में एक दिल ऐसा है जो हमेशा ही आपके लिए धड़का है ...

और जब तक ज़िन्दगी रहेगी ...

धड़कता ही रहेगा ...

आप जानते है ना किसका ???
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
आपका ... और किसका ???

सादर आपका
शिवम् मिश्रा

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

भारतीय रेल की लेट लतीफी पर एक विचार

प्रातःस्मरणीय आतंकियों से एक निवेदन

पलायन के मर्ज़ की दवा क्या है!

वैज्ञानिक-तकनीकी प्रगति क्या है? - २

कुमारिल भट्ट

कटे हुये केशों में.. तेल चमेली लगा रहे -

'सम्वेदना की नम धरा पर' -- रश्मि रविजा जी की नज़र से

चावल के अनरसे बनाने की विधि

मेरा अंजाम मिल जाएँ ...

बुंदेली लोकगीतों में जल का महत्व... संध्या शर्मा

अमर शहीद फ्लाइंग ऑफिसर निर्मलजीत सिंह सेखों की ७३ वीं जयंती 

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

7 टिप्पणियाँ:

sadhana vaid ने कहा…

मेरे काव्य संकलन 'सम्वेदना की नम धरा पर' की समीक्षा को आज के बुलेटिन में सम्मिलित करने के लिये आपका धन्यवाद शिवम जी !

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुन्दर दिल सुन्दर धड़कन सुन्दर बुलेटिन ।

Kavita Rawat ने कहा…

दिल यूँ ही धड़कता रहे ...सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

संध्या शर्मा ने कहा…

सुंदर लिंक संयोजन। स्थान देने हेतु आभार व शुभकामनाएं...

संध्या शर्मा ने कहा…

सुंदर लिंक संयोजन। स्थान देने हेतु आभार व शुभकामनाएं...

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Anil Dayama EklA ने कहा…

bhut hi sundar sansesh thode se shbdon me

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार