Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 18 जून 2016

अमृत पीने से पूर्व विष पर अनुसन्धान करें



अमृत को पीने से पूर्व 
विष पर अनुसन्धान करें 
गहरे पैठ अपने देवत्व के साथ 
अपने अंदर के दानवी छोटे छोटे पौधों को समझें  ... 
कुछ भी जड़ से नहीं हटाना है 
मिश्रण के साथ दुनिया की सैर करनी है 
तब जाकर - 
कोई सिकंदर बनता है  ... 



"एक अख़बार हूँ, औकात ही क्या मेरी;
मगर शहर में आग लगाने के लिए काफी हूँ..."

Devendra Kumar Pandey
स्कूल मे
आम के
कई वृक्ष थे
आम
न विद्यर्थियों को मिले 
न शिक्षकों को।
फिर कौन खाया?
आप सब जानते हैं सरकार!

Nirmla Kapila
फ़िलबदीह 179 की कोशिश 2
ग़ज़लें
1
दिल की धड़कन थमी थमी सी है
बर्फ जज्बात पर गिरी सी है
आपका एहसान कब भूली
आज तक भी नजर झुकी सी है
कुछ अवाइद खुदा मुझे देना
दर पे तेर कहाँ कमी सी है
वो उमूमन तो घर नहीं आता
आये भी गर तो हाजिरी सी है
आँधियाँ जलजले जो देखे थे
ज़िंदगी अब तलक डरी सी है
शोखियां नाज और अदा उसकी
सुर्ख होठों पे क्या हंसी सी है
अश्क आबे रवाँ से रुकते कब
दिल में इक दर्द की नदी सी है
2
आज कुछ रूह अनमनी सी है
ज़िंदगी में तेरी कमी सी है
इंतिहा इंतिजार की है अब
आस थोड़ी बुझी बुझी सी है
ज़िंदगी वक्त की उधारी थी
मौत इसकी अदायगी सी है
भूखे मुफ़लिस का जीना क्या जीना
ज़िंदगी रोज खुदकुशी सी है
खेत बोते किसान की किस्मत
बेबसी और भुखमरी सी है
चांदनी आई है फिजा में यूं
मुस्कुराहट खिली खिली सी है
चाँद के अश्क जो बहे इतने
इस लिए रात शबनमी सी है

और इनसे मिलिए -

देश में पहली बार तीन महिलाएं वायुसेना के लड़ाकू विमानों की पायलट बनी हैं। अवनी चतुर्वेदी, भावना कांत और मोहना सिंह को सफल प्रशिक्षण के बाद शनिवार को कमीशन दिया गया। हैदराबाद के बाहरी इलाके दुन्दिगल में स्थित वायुसेना अकादमी में सफल प्रशिक्षण के बाद रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने उन्हें भारतीय वायु सेना में कमीशन दिया।

ये तीनों देश की पहली महिलाएं हैं, जिन्हें वायुसेना के लड़ाकू विमानों के पायलट के तौर पर कमीशन दिया गया है। ऐसे में ये 'कंबाइंड ग्रेजुएशन परेड' में आकर्षण का केंद्र बनी रहीं।

इच्छा हो तो ह राह मुमकिन है 



2 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

अमृत और विष
देवता और दानव
राजनीति वहाँ भी
राजनीति यहाँ भी
अनुसंधान विष के
साथ पिला कर और
अमृत पी कर
यही चला आया
है तबसे
निर्विकार भाव
से आज तक ।

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ।

Kavita Rawat ने कहा…

सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार