Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 7 जून 2016

मैं एक पेंटर की ब्रश हूँ



 मैं एक पेंटर की ब्रश हूँ 
जिसे वह अपनी मर्ज़ी के रंगों से चुपड़ देता है 
और अपनी मर्ज़ी से कागज़, कैनवस रंग देता है 
पेंटर !
समझता ही नहीं
 दराज़ में रखा मैं 
टेबल पर पड़ा मैं 
कमरे में आती जाती गतिविधियों की 
त्वरित भगिमाओं को उकेरना चाहता हूँ 
मुझे कुछ अलग किस्म के रंग चाहिए 
जिससे मैं कुछ अनकही 
अनखींची रेखाओं को 
प्राणप्रतिष्ठित कर सकूँ 
मेरा पेंटर भी अनसुने को समझे 
और फिर कुछ हटकर बनाए 
मुझे ऐतिहासिक बना दे  ... 

12 टिप्पणियाँ:

Asha Joglekar ने कहा…

Kash painter aisa kuch kare.

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

ब्रश की वेदना

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह

ऋता शेखर मधु ने कहा…

अच्छे अच्छे लिंक थे !

ऋता शेखर मधु ने कहा…

अच्छे अच्छे लिंक थे !

Dhirendra Goyal ने कहा…

thank you for this post anmol vachan ke leye aap http://www.99hindi.com ko deke..

Dhirendra Goyal ने कहा…

www.99hindi.com

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति
आभार!

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

ब्रश ने कैनवास बहुत सुन्दर सजाया है
बधाई

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

होनी पर किसी का वश नहीं चलता। क्षतिपूर्तिअसंभव है।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

हर कलाकार के अंदर की छिपी हुई टीस... अनवरत खोज और रश्मि दी की कलम!! शानदार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप ने ब्रश की वेदना को शब्द दे दिये |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार