Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 16 जून 2016

किताबी संसार में ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

नौकर: मालिक हमरा के चार दिन की छुट्टी दई दो, 3 साल बाद बिहार जा रहे हैं।
मालिक: क्या करेगा बे बिहार जा के?
नौकर: मालिक घर से चिठ्ठी आई है, हमारी MA की पढ़ाई पूरी हो गई है। ओ ही का डिग्री लेने जाना है।

"क्या रखा है इस किताबी संसार में,
आओ बिना पढ़े टॉप करें बिहार में।"

सादर आपका

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

खुशबुओं की बस्ती

इंफोटेनमेंट

कर्मसूत्र...

काला तोहफा-लघुकथा

एकांत - एक का अंत

क्या रखा है इस किताबी संसार में

नवगीत - तू दंड दे मेरी खता है

कहाँ गई 'आप'की नैतिकता?

शुद्धता ने हमें दूसरे गाँधी से वंचित कर दिया

ज़रा ठहर तो बच्चू

अम्माजी के छोटे-छोटे सपने

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!! 

5 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुन्दर गुरुवारीय बुलेटिन शिवम जी ।

Sushil Bakliwal ने कहा…

बेहतर संकलन... आभार !

Kavita Rawat ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति
अाभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

sadhana vaid ने कहा…

सार्थक सूत्रों का सुन्दर संकलन ! मेरी प्रस्तुति 'ज़रा ठहर तो बच्चू' को सम्मिलित करने के लिये आपका धन्यवाद शिवम जी ! आभार !

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार