Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 28 मार्च 2016

मंथन से अलग चलना ही है




ज़िन्दगी तुम्हारी भी तय थी 
ज़िन्दगी हमारी भी तय थी 
कभी तुमने शकुनि को नहीं पहचाना 
कभी मैंने 
पर दाव तो जीने के हमदोनों ने खेले थे !!!
भूमिका, कहानी, उपसंहार  ... 
कोई क्या कर लेगा ये जानकर 
कि तुम्हारे पास प्रेम के पासे थे 
सामनेवाले ने छल के पासे फेंके 
कुरुक्षेत्र तो बन ही गया न 
और अभिमन्यु  ... !!!
अब जयद्रथ को मारो 
या चिता सजाओ 
घटनायें तो घट चुकीं 
... 
और सुकून ???
कहाँ है ?
कब तक है ?
इस मंथन से अलग चलना ही है  
जब तक निर्धारित है 
जिस तरह निर्धारित है 
!

5 टिप्पणियाँ:

Barthwal ने कहा…

तय जिंदगी,,, सुंदर भाव एवम् ब्लॉग पोस्ट लिंक

Barthwal ने कहा…

तय जिंदगी,,, सुंदर भाव एवम् ब्लॉग पोस्ट लिंक

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुन्दर बुलेटिन ।

parmeshwari choudhary ने कहा…

सुन्दर

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन दीदी |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार