Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 14 मार्च 2016

बाजीगर - ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को राम राम....

आज के दिन का आगाज़ करती हूँ मैं अमित आनंद की एक शानदार अभिव्यक्ति के साथ.........
बाजीगर
बुनो कोई शब्द जाल
महीन
कसा हुआ/मजबूत
कोई
ऐसा जाल
जिसके सिर्फ दो संकरे किनारे हों
जिसकी झोल मे समां सके समूचा आसमान,
बाजीगर
तुम्हे बुनना होगा
हर हाल मे
मेरी खातिर
श्वेताम्बरा की / बसंतरूपा / दाड़िम और उरमा की खातिर
नुक्कड़ के लल्लू पनवाड़ी की खातिर
उस भिखारिन के नन्हे बच्चे की खातिर
बुनना पड़ेगा
तुम्हे
तुम्हारी खुद की खातिर,
बाजीगर
बुनो एक जाल,
इस से पहले कि
कोई और हाथ मार जाए
हमें चाँद का शिकार कर लेना चाहिए अब!
*******अमित आनंद *************

एक नज़र आज के बुलेटिन पर

आज की बुलेटिन में बस इतना ही मिलते है फिर इत्तू से ब्रेक के बाद । तब तक के लिए शुभं।

5 टिप्पणियाँ:

Barthwal ने कहा…

अमित जी की सुंदर रचना ... आभार मैं और मेरी कविता को शामिल करने हेतू

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति
आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बढ़िया रचना से सजी हुई उम्दा बुलेटिन के लिए आपका आभार किरण जी |

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति ।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

बहुत ही ख़ूबसूरत और प्यारी अभिव्यक्ति!!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार