Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 30 मार्च 2016

ब्लॉग बुलेटिन और आनंद बख्शी

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।।
आनंद बख्शी

आनंद बख़्शी का जन्म पाकिस्तान के रावलपिंडी शहर में 21 जुलाई 1930 को हुआ था। आनंद बख़्शी को उनके रिश्तेदार प्यार से नंद या नंदू कहकर पुकारते थे। बख़्शी उनके परिवार का उपनाम था, जबकि उनके परिजनों ने उनका नाम 'आनंद प्रकाश' रखा था, लेकिन फ़िल्मी दुनिया में आने के बाद 'आनंद बख़्शी' के नाम से उनकी पहचान बनी। आनंद बख़्शी के दादाजी सुघरमल वैद बख़्शी रावलपिण्डी में ब्रिटिश राज के दौरान सुपरिंटेंडेण्ट ऑफ़ पुलिस थे। उनके पिता मोहन लाल वैद बख़्शी रावलपिण्डी में एक बैंक मैनेजर थे, और जिन्होंने देश विभाजन के बाद भारतीय सेना को सेवा प्रदान की। नेवी में बतौर सिपाही उनका कोड नाम था 'आज़ाद'। आनंद बख़्शी ने केवल 10 वर्ष की आयु में अपनी माँ सुमित्रा को खो दिया और अपनी पूरी ज़िंदगी मातृ प्रेम के पिपासु रह गए। उनकी सौतेली माँ ने उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया। इस तरह से आनंद अपनी दादीमाँ के और क़रीब हो गए। आनंद बख़्शी साहब ने अपनी माँ के प्यार को सलाम करते हुए कई गानें भी लिखे जैसे कि "माँ तुझे सलाम" (खलनायक), "माँ मुझे अपने आंचल में छुपा ले" (छोटा भाई), "तू कितनी भोली है" (राजा और रंक) और "मैंने माँ को देखा है" (मस्ताना)। 



आनंद बख्शी जी 14वीं पूण्यतिथि पर हिन्दी ब्लॉगजगत और हमारी ब्लॉग बुलेटिन टीम उन्हें शत शत नमन करता है तथा भावविभोर श्रद्धांजलि अर्पित करता है। सादर।। 



अब चलते हैं आज की बुलेटिन की ओर..........


अंतिम सत्य अभी शेष है

ब्लॉगर मंडली खिलखिला उठी बैंगलोर में

पैसा बचाने के तरीके

जब पंवारों की छोटी सी सेना के आगे भागी थी भरतपुर की शक्तिशाली सेना

गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता - वीणा भाटिया/मनोज कुमार झा

मनोहर श्याम जोशी लेखन के ज्वालामुखी थे

मन चंगा तो कठौती में गंगा

न्यूज़ ब्रेक करता है सोशल मीडिया

क्या विजय माल्या को भारत वापस लाया जा सकता है?

माँ कहती थी आ गौरैया कनकी चांवल खा गौरैया

आजकल


आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे। तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर  … अभिनन्दन।।

5 टिप्पणियाँ:

Asha Joglekar ने कहा…

सुंदर चिट्ठों से सजा बुलेटिन। मेरे चिट्ठे को जगह देने का आभार।

Asha Joglekar ने कहा…

आनंद बख्शी साहब को श्रध्दांजली। उनके गीतों को सलाम।

Kavita Rawat ने कहा…

आनंद बख्शी जी की 14वीं पूण्यतिथि पर श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आनंद बख्शी जी की 14वीं पूण्यतिथि पर सादर नमन|
बढ़िया बुलेटिन हर्ष ... आभार आपका |

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

:)

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार