Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 17 जनवरी 2016

अंततः



बरगद होने की तमन्ना में आग को भी बेअसर कर दिया 
पर अंततः यही है, 
"तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? 
तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया?"
......... 
हर दिन हँसते-बोलते सत्य का भय साथ चलता है 
"खाली हाथ अाए थे 
अौर खाली हाथ जाना है  
जो अाज तुम्हारा है, 
कल अौर किसी का था, 
कल किसी अौर का होगा"


6 टिप्पणियाँ:

Asha Joglekar ने कहा…

कम किंतु चुनिंदा चिट्ठों से सजा बुलेटिन। पूरे चिट्ठों के साथ न्याय कर पायेंगे।

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

आभार।

Kavita Rawat ने कहा…

बढ़िया चुनिंदा लिंक्स-सह बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन दीदी ... आभार |

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुंदर बुलेटिन ।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बेहतरीन और पठनीय प्रस्तुतियाँ।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार